World Kindness Day: किसी से भी पहले जरूरी है अपने प्रति करुणा करना, जानिए क्यों और कैसे

हर वर्ष 13 नवंबर को वर्ल्ड काइंडनेस डे (World Kindness Day) के रूप में मनाया जाता है। इस दिन की शुरुआत जापान में वर्ष 1997 में की गयी थी, जिसका उद्देश्य लोगों को अच्छे काम के लिए प्रेरित करना।
हर वर्ष 13 नवंबर को विश्व दयालुता दिवस के रूप में मनाया जाता है।। चित्र शटरस्टॉक
निशा कपूर Published on: 13 November 2022, 11:00 am IST
ऐप खोलें

आज की भागदौड़ में हम इतने बिजी हो गए हैं कि खुद के लिए टाइम निकालना ही भूल गए हैं। खुद के प्रति कठोर हो गए हैं, लेकिन एक हेल्दी और खुशहाल जिन्दगी के लिए खुद के प्रति दयालु होना बेहद जरूरी होता है। यदि आप अपने प्रति दयालु रहते हैं तो आप शायद सबसे खुश इंसान हो सकते हैं। क्योंकि आप अपने मन की सुनते हैं, जो कार्य पसंद होते हैं वही करते हैं जो आपकी मेन्टल हेल्थ के लिए बहुत अच्छा होता है। आपको अपने लिए दयालु होने की जरूरत क्यों है इसे समझने के लिए एक्सपर्ट द्वारा दी गयी टिप्स आपके काम आ सकती है।

वर्ल्ड काइंडनेस डे (World kindness day)

हर वर्ष 13 नवंबर को विश्व दयालुता दिवस (World Kindness Day) के रूप में मनाया जाता है। इस दिन की शुरुआत जापान में वर्ष 1997 में की गयी थी। इसका मुख्य उद्देश्य था लोगों को अच्छे काम करने के लिए प्रेरित करना और दूसरों के प्रति दयालु रहना। वर्तमान समय में कई देशों (जापान, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, संयुक्त अरब अमीरात सहित नाइजीरिया) में विश्व दयालुता दिवस (World Kindness Day) मनाया जाता है। काफी लम्बे समय के बाद सिंगापुर और अब भारत और इटली भी इस मुहिम में शामिल हो गए हैं।

दुसरों की मदद करना जरूरी है। चित्र शटरस्टॉक

इस बात को समझने के लिए कि आपको अपने प्रति दयालु होने की जरूरत क्यों होती है हेल्थ शॉट्स ने ​​मनोवैज्ञानिक डॉ. कामना छिब्बर से बात की। डॉ कामना फोर्टिस हेल्थ केयर में मानसिक स्वास्थ्य विभाग की प्रमुख हैं। वह कहती हैं कि आप तभी किसी भी स्थिति में सकारात्मक और आशावादी रह सकते हैं।

जब आप अपने लिए दयालु होते हैं। यदि आप अपने लिए कठोर हैं तो आप इस बात को नहीं जान पाएंगे की आप मुश्किल परिस्थितियों में उनका समाधान किस तरह से निकाल सकते हैं। अपने प्रति अत्यधिक कठोर होना किसी समस्या के समाधान के लिए एक रचनात्मक दृष्टिकोण अपनाने की अनुमति नहीं देता है।

यह भी पढ़े- चेहरे का अधिक लाल होना हो सकता है रोजेशिया का संकेत, एक्सपर्ट से जानें इससे कैसे बचना है

जानें अपने प्रति दयालु होना भी क्यों है जरूरी

1. स्वयं को समझने के लिए

यदि आप स्वयं को समझना चाहते हैं। तो आपको अपने लिए दयालु होने की जरूरत है। क्योंकि आप अपनी पसंद-नपसंद, अच्छाई-बुराई को तभी समझ सकते हैं। जब आप खुद को समझे और खुद को समय दें। आज की भाग दौड़ में हम बहुत व्यस्त हैं जिस वजह से हम स्वयं को ही समय नहीं देते और अपने प्रति कठोर रहते हैं। इसका प्रभाव हमारी मेंटल हेल्थ पर भी पड़ता है। जब हम आपके लिए समय निकालते हैं और दयालु रहते हैं तो हम खुश भी रहते हैं जिससे हमारा मस्तिष्क आदित्य एक्टिव और क्रिएटिव होता है

2. चुनौतियों का सामना करने के लिए

एक्सपर्ट कहती हैं जब आप खुद को जान लेते हैं। तब आप यह भी समझ जाते हैं कि आप चुनौतियों का सामना कर सकते हैं। किसी भी परिस्थिति में कठोर होना आपको समस्या का समाधान नहीं देता है। यदि आप अपने प्रति दयालु होते हैं। तो आप बड़ी सरलता से किसी भी चुनौती का सामना कर सकते हैं।

खुद से प्‍यार करना सबसे ज्‍यादा जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

3. कठिन परिस्थितियों से निकलने के लिए

कभी-कभी हम ऐसी परिस्थितियों में फस जाते हैं। जिससे निकलना काफी मुश्किल होता है। यदि हम अपने प्रति सकारात्मक और आशावादी सोच रखते हैं। और उस समस्या का कठिन परिस्थिति से बाहर आने के लिए प्रयास करते हैं तो हम उस परिस्थिति से सकारात्मक सोच के साथ और सही निर्णय लेते हुए निकल आते हैं।

4. रचनात्मक दृष्टिकोण के लिए

जब आप अपने प्रति दयालु होते हैं तब आप एक रचनात्मक दृष्टिकोण भी रखते हैं। तब आप में आत्मविश्वास होता है। कि आप सभी कार्यों को भलीभांति और क्रिएटिव ढंग से पूर्ण कर सकते हैं।

5. अपना ख्याल रखने के लिए

आप अक्सर दूसरों का ख्याल रखते हैं। लेकिन खुद का ख्याल, खुद की इच्छाओं को ध्यान में रखना भुल जाते हैं। जब आप अपने प्रति दयालु होते हैं। तब आप इन सभी बातों पर विचार करते हैं और अपना भी बेहतर तरह से ध्यान रखते हैं।

यह भी पढ़े- शुगर का रामबाण उपचार हैं ये 5 आयुर्वेदिक हर्ब्स, जानिए कैसे करनी हैं इस्तेमाल

लेखक के बारे में
निशा कपूर

देसी फूड, देसी स्टाइल, प्रोग्रेसिव सोच, खूब घूमना और सफर में कुछ अच्छी किताबें पढ़ना, यही है निशा का स्वैग।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
Next Story