त्वचा को नर्म और मुलायम बनाना है तो करें ओटमील बाथ, जानिए कब और कैसे करना है 

Published on: 22 June 2022, 11:36 am IST

पुराने मिस्र ओर रोम में ओटमील बाथ (Oatmeal bath) से कई स्किन संबंधी समस्याएं को दूर किया जाता था। पर ये आपके लिए भी काम कर सकता है। जानना चाहती हैं कैसे? 

oatmeal bath
ओटमील बाथ कई स्किन समस्याओं को दूर करता है। चित्र:शटरस्टॉक

ओटमील (Oatmeal) पोषण से भरपूर आहार है। इसे सुपरफूड भी कहा जा सकता है। नाश्ते में इसका सेवन न सिर्फ हार्ट हेल्दी रखता है, बल्कि वेट भी कंट्रोल होता है। ज्यादातर वेट कंट्रोल डाइट में ओट्स शामिल होते हैं। पर क्या आप जानती हैं ओटमील आपके सौंदर्य के लिए भी काम कर सकता है। जी हां, आपने बिल्कुल ठीक पढ़ा। ओटमील बाथ आपको रिलैक्स करने और त्वचा संबंधी परेशानियों से निजात दिलाने में मदद कर सकता है। आइए जानते हैं ओटमील बाथ (Oatmeal bath benefits) और उसके फायदों के बारे में।

क्या है ओटमील बाथ (Oatmeal bath)

ओटमील बाथ जैसा कि नाम से पता चलता है, यह तभी किया जा सकता है, जब इसे रात भर भिगोकर अच्छी तरह मुलायम बना लिया जाए। स्नान सिर्फ पानी में मुलायम बनाने से भी किया जा सकता है, लेकिन इससे बाथरूम से पानी की निकासी रूक सकती है। इसलिए जरूरी है कि आप इसे पीसकर ही नहाने के लिए इस्तेमाल करें। 

कोलाइडल दलिया (colloidal oatmeal) का करें इस्तेमाल 

जब दलिया को फूड प्रोसेसर या ब्लेंडर में पीस कर बारीक पाउडर बनाया जाता है, तो यह कोलाइडल दलिया (colloidal oatmeal) बन जाता है। इसमें एक बड़ा टेबलस्पून या आधा कप पानी डालकर पीसा जाता है। जब मिक्सचर का कलर मुलायम दूधिया हो जाता है, तो समझिए कोलाइडल दलिया तैयार है।

आपके लिए कैसे फायदेमंद है ओटमील बाथ (Oatmeal bath benefits) 

2000 ईसा पूर्व में प्राचीन मिस्र में स्किन में हो रही जलन को शांत करने  और एक्जिमा के इलाज के लिए पीसे हुए जौ के पानी से स्नान करते थे। जबकि रोम में सन बर्न से राहत पाने के लिए लोग ओट बाथ लेते थे। 

असल में दलिया में एवेनथ्रामाइड्स नामक एक कंपाउंड होता है, जिसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं। इसलिए इसका प्रयोग स्किन के लिए किया जाता है।

1 सनबर्न में राहत देता है ओटमील बाथ 

विटामिन ई से भरपूर ओट्स के एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण झुलसी हुई त्वचा को राहत पहुंचाते हैं। एंटीऑक्सिडेंट विटामिन ई यूवी किरणों को रोकने में मदद करता है। सन बर्न के कारण स्किन में हुए किसी भी नुकसान की ओटमील बाथ मरम्मत कर देता है।

2 एक्जिमा को ठीक करता है

एक्जिमा होने पर स्किन बैरियर को प्रोटेक्ट करना सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। कोलाइडल दलिया एक स्किन प्रोटेक्टेंट है। जब इसमें स्किन को भिगोया जाता है और फिर मॉइस्चराइजर अप्लाई किया जाता है, तो इन्फ्लेमेशन में राहत मिलती है। यह स्टेरॉयड क्रीम की जरूरत को भी कम करने में भी मदद करता है।

3 किसी ज़हरीले पौधे के संपर्क में आने पर 

कई पौधें भी जहरीले होते हैं। यदि आप किसी ऐसे ही पौधे के संपर्क में आ गईं हैं, तो आपको ओटमील बाथ लेना राहत दे सकता है। इसमें 15-20 मिनट तक स्वयं को भिगोये रखें। इसके बाद स्किन पर कैलामाइन लोशन लगाएं या कोल्ड कम्प्रेस करें, इससे बहुत आराम मिलेगा। जरूरी है कि आपने जो कपड़े पहने हुए थे उन्हें भी अच्छी तरह धो लें। 

4 डायपर रैश के लिए ओटमील बाथ

यदि आपके बेबी को डायपर के कारण रैश हो गए हैं, तो उसे भी ओटमील स्नान दें। ओट्स विटामिन ई से भरपूर होते हैं। यह आपके बच्चे के निचले हिस्से को शांत करता है और डायपर रैश को ठीक करने में मदद कर सकता है। ओट्स में साबुन जैसे गुण होते हैं। इसके स्नान से भविष्य में बच्चे में हाेने वाले डायपर रैशेज की रोकथाम करने में मदद मिल सकती है।

अब जानिए ओटमील बाथ का सही तरीका 

  1. गुनगुने पानी का प्रयोग

बाथ टब में गुनगुना पानी डालें। पानी के अधिक गर्म होने पर स्किन झुलस सकती है। यदि टेप वाटर से नहाना है, तो एक बाल्टी पानी भर लें।

  1. कोलाइडल ओटमील लें 

जब टब या बाल्टी में पानी भर रहा हो, तो एक कप कोलाइडल ओटमील डालें।

  1. अच्छी तरह मिक्स करें 

हाथ से अच्छी तरह मिलाएं। अच्छी तरह यह मिल जाना चाहिए। ओटमील के कारण पानी भी रेशम जैसा मुलायम लगने लगता है। पानी का कलर दूधिया हो जाता है।

  1. 15-20 मिनट तक लें बाथ

इस दौरान ओटमील वाले पानी से हाथ-पैर, चेहरे, पीठ आदि पर हल्के हाथों से मलते रहें। आपको सुस्ती आने लगेगी। यह बाथ 15-20 मिनट तक लें ।

oatmeal bath ke faydehane par mood durust rahta hai
ओटमील बाथ लेने के बाद गुनगुने पानी से नहाएं। चित्र:शटरस्टॉक
  1. गुनगुने पानी से धोएं

ओटमील बाथ को गुनगुने पानी से धोएं। त्वचा को अच्छी तरह सुखा लें। स्किन सूखने के बाद माइल्ड मॉयस्श्चराइजर लगा सकती हैं। इसके स्थान पर आप असली लैनोलिन या कच्चे शीया बटर का उपयोग कर सकती हैं।

यहां पढ़ें:-जलकुंभी के बारे में जानती हैं? एक ऐसी हरी पत्तेदार सब्जी जो स्किन के लिए है लाजवाब 

 

स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।