आपके डेली इस्तेमाल की वे चीजें जिसमें हो सकते हैं सबसे ज्यादा बैक्टीरिया, जानें इन्हे कैसे रखना है क्लीन

कई बार आपकी नियमित वस्तुओं पर छिपे बैक्टीरिया पिंपल, स्किन रेडनेस जैसी समस्याओं का भी कारण बन जाते हैं। पर्सनल हाइजीन मेंटेन कर और नियमित रूप से इस्तेमाल होने वाले वस्तु के साफ सफाई पर ध्यान दें, इन पर जर्म्स और बैक्टीरिया के ग्रोथ को रोक सकती हैं।
phone clean wipes
आपको अपने फोन को नियमित रूप से एंटी-बैक्टीरियल वाइप्स से पोंछना चाहिए। चित्र : शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 1 Oct 2023, 12:30 pm IST
  • 120

क्या आपको मालूम है नियमित रूप से हर रोज इस्तेमाल होने वाली कई ऐसी वास्तु हैं जिनमें सबसे अधिक बैक्टीरिया पाए जाते हैं। आपकी नियमित इस्तेमाल की चीजें देखने में तो बिल्कुल क्लीन होती है, परंतु यह कई हानिकारक बैक्टीरिया और जर्म्स का घर होती हैं। ये सभी हानिकारक कीटाणु बिना किसी चेतावनी के आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं। कई बार आपकी नियमित वस्तुओं पर छिपे बैक्टीरिया पिंपल, स्किन रेडनेस जैसी समस्याओं का भी कारण बन जाते हैं। हालांकि, पर्सनल हाइजीन मेंटेन कर और नियमित रूप से इस्तेमाल होने वाले वस्तु के साफ सफाई पर ध्यान दें, इन पर जर्म्स और बैक्टीरिया के ग्रोथ को रोक सकती हैं।

आज स्वच्छता दिवस के खास अवसर पर हेल्थ शॉट्स आपके लिए लेकर आया है, नियमित रूप से इस्तेमाल होने वाली ऐसी 6 वस्तुओं के नाम जिनमें सबसे अधिक मात्रा में बैक्टीरिया और जर्म्स जमा होते हैं। वहीं इन्हें कीटाणुओं का घर कहा जाता है। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में और आगे से इनकी साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने की कोशिश करें, ताकि आप और घर के अन्य सभी सदस्य पूरी तरह से स्वस्थ रह सकें (what household item has the most bacteria)।

नियमित रूप से इस्तेमाल होने वाली इन 6 वस्तुओं पर होते हैं सबसे अधिक बैक्टीरिया

1. मोबाइल फोन

क्या आपको याद है आपने आखिरी बार अपने मोबाइल फोन को कब साफ किया था? जाहिर सी बात है नहीं! क्योंकि हम में से ज्यादातर लोग अपने मोबाइल फोन को कभी क्लीन नहीं करते। मोबाइल फोन एक ऐसी वस्तु है जो दिन के 24 घंटे हमारे पास होती है, यहां तक कि हम बाथरुम में भी मोबाइल फोन को खुद से अलग नहीं करते। आपको यह जानकर हैरानी हो सकती है कि 6 में से एक मोबाइल फोन फेकल मैटर से इनफेक्टेड होते हैं।

phone-in-the-toilet
टॉयलेट में फोन ले जाना आपको गंभीर खतरे दे सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

आप अपने मोबाइल फोन को डिस्पोजेबल स्किन प्रोटेक्टर के माध्यम से जर्म्स और बैक्टीरिया को मोबाइल फोन पर पनपने से रोक सकती हैं। वहीं माइक्रोफाइबर क्लॉथ की मदद से अपने फोन पर जमे धूल गंदगी को साफ कर इसे क्लीन रख सकती हैं। अपने मोबाइल फोन को हर रोज कम से कम दो बार अच्छी तरह से क्लीन करें।

2. डिश स्पॉन्ज

डिश स्पॉन्ज आपके घर में मौजूद सबसे अधिक डर्टी ऑब्जेक्ट हो सकते हैं। हम इसे अपने बर्तन को साफ करने के लिए इस्तेमाल करते हैं, इस दौरान यह गीला रह जाता है और खाद्य पदार्थ और अन्य हानिकारक सब्सटेंस को अपने अंदर अवशोषित कर लेता है। डिश स्पॉन्ज जर्म्स और बैक्टीरिया के ग्रोथ के लिए एक सबसे फेवरेबल एनवायरमेंट हो सकता है। वहीं लंबे समय तक एक ही स्पॉन्ज का इस्तेमाल करना आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकता है।

ऐसी असुविधाओं से बचने के लिए इसे हर हफ्ते बदलें, साथ ही बर्तन धोने के बाद इसे अच्छी तरह से निचोड़ कर ड्राई जरूर करें।

3. लैपटॉप और कंप्यूटर कीबोर्ड

चाहे आप पर्सनल या ऑफिस के कंप्यूटर और लैपटॉप का कीवर्ड इस्तेमाल करती हों यह बैक्टीरिया और जर्म्स का घर होता है। वहीं कई बार हम लैपटॉप का इस्तेमाल करते हुए स्नैक्स ले लेते हैं और कई बार काम करते-करते लंच भी कर लेते हैं। यह गतिविधि आपकी सेहत के लिए बेहद हानिकारक हो सकती हैं। इससे बैक्टीरिया और जर्म्स खाने के साथ आपके पेट में प्रवेश कर इन्फेक्शन पैदा कर सकते हैं।

लैपटॉप और कीबोर्ड पर काम कर रही हैं, तो इस स्थिति में असुविधाओं से बचने के लिए खाने से पहले अपने हाथ को अच्छी तरह से क्लीन करना न भूले। इसके अलावा हर रोज कॉटन बॉल या सूती कपड़े की मदद से अपने कीबोर्ड और लैपटॉप को अच्छी तरह साफ करें। इससे कीबोर्ड पर जमें डस्ट निकल जाते हैं, जिससे कि बैक्टीरिया को आपकी कीबोर्ड पर ग्रो करने के लिए सोर्स नहीं मिल पाता।

bath towel, makeup brush ko saaf karna jarooree
यदि बाथ टॉवल, कंघी, मेकअप ब्रश की सफाई पर ध्यान नहीं दिया जाए, तो यह संक्रमण के खतरे को बढ़ा सकते हैं। चित्र : अडोबी स्टॉक

4. बाथरूम टॉवल

ठीक डिश स्पॉन्ज की तरह बाथरूम और किचन टॉवल भी विभिन्न प्रकार के बैक्टीरिया जैसे की फेकल का घर होते हैं। यह टॉवल आम तौर पर मोइस्ट रहते हैं, जिसकी वजह से इनपर बैक्टीरिया आसानी से ग्रो हो सकते हैं। वहीं यदि आप बाथरूम और किचन के काम करने के बाद अपने हाथों को टॉवल से साफ करती हैं, तो हो सकता है आप अपने हाथों पर और अधिक जर्म्स को बुलवा दे रही हों।

इसलिए हर रोज रात के समय किचन और बाथरूम के टॉवल को साफ करके सूखने के लिए डाल दें। वहीं आप अल्टरनेट डेज पर भी ऐसा कर सकती हैं। इसके अलावा यदि टॉवल एक दिन में नहीं सूखता तो आप अपने बाथरूम और किचन के लिए दो टावेल रखें और इन्हें अल्टरनेट डेज पर बदलती रहें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

यह भी पढ़ें : Homeopathy and diet : होम्योपेथी ट्रीटमेंट ले रहीं हैं तो इग्नोर न करें आहार के ये 5 नियम

5. टूथब्रश होल्डर

टूथब्रश होल्डर आपके घर में मौजूद सबसे डर्टी ऑब्जेक्ट्स में से एक है। टूथब्रश मोइस्ट होता है और ज्यादातर लोग इसे नमी के साथ टूथपेस्ट होल्डर में डाल देते हैं। वहीं टूथपेस्ट होल्डर भी मोइस्ट हो जाता हैं और कीटाणुओं का घर बन सकता है। वहीं घर के सभी सदस्य एक ही होल्डर में अपना ब्रश रखते हैं, जिससे की यह अधिक संक्रमित हो जाता है। टूथब्रश होल्डर से टूथब्रश पर माइक्रोऑर्गेनिज्म आसानी से ट्रांसफर हो जाते हैं। जब आप ब्रश करती हैं तो यह आपके मुंह में प्रवेश कर पेट तक पहुंच संक्रमण पैदा कर सकते हैं।

संक्रमण की स्थिति को अवॉइड करने के लिए आपको सभी के टूथब्रष्ट को एक साथ नहीं रखना चाहिए। वहीं टूथपेस्ट होल्डर को हर दूसरे दिन अच्छी तरह से क्लीन करना चाहिए। ज्यादातर लोग इसे लंबे समय तक क्लीन नहीं करते हैं, जिसकी वजह से यह कीटाणुओं का घर बन जाता है।

storing-toothbrush
ओरल हेल्थ को बनाए रखने के लिए तीन महीने बाद टूथब्रश बदल लेना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक

6. हैंडबैग्स

आप सभी नियमित रूप से अपने हैंडबैग का इस्तेमाल करती होंगी, खास कर जो महिलाएं ऑफिस जाती हैं उन्हें अपनी हैंडबैग की हाइजीन को लेकर अधिक सचेत रहना चाहिए। हैंडबैग को पूरे दिन बैक्टीरिया वाले हाथ से छूना, पब्लिक ट्रांसपोर्ट के सीट और फ्लोर आदि पर रखना, इन सभी के माध्यम से इस पर अलग-अलग प्रकार के बैक्टीरिया और जर्म्स जमा हो जाते हैं।

ज्यादातर महिलाएं बैग को तब साफ करती हैं जब तक की यह पूरी तरह से गंदा नहीं हो जाता। ऐसे में इसे समय-समय पर साफ करते रहना और हर रोज सेनीटाइज करना बेहद महत्वपूर्ण है। आप इसे नियमित रूप से एंटीबैक्टीरियल वाइप की मदद से साफ कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें : नींबू से कम गुणकारी नहीं है नींबू का छिलका, एक्सपर्ट बता रही हैं इसके फायदे और इस्तेमाल का तरीका

  • 120
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख