क्यों गैस बनने पर होने लगता है सिर दर्द, एक्सपर्ट बता रहे हैं इसका कारण और होम रेमेडीज

गर्मी के मौसम में डिहाइड्रेशन और कैफीन की अधिकता के चलते गैस्ट्रिक सिरदर्द का सामना करना पड़ता है। पेट में बनने वाली गैस, ब्लोटिंग और एसिडिटी के चलते ये समस्या गंभीर रूप ले लेती है। जानते हैं कि गैस्ट्रिक सिरदर्द क्या है
सभी चित्र देखे Gastric Headache se kaise bachein
गैस्ट्रो इंटेस्टाइनल डिसऑर्डर (gastrointestinal disorder) सिरदर्द का कारण बन जाता है। इसके चलते अपच, कब्ज और पेट में ऐंठन बढ़ने लगती है। चित्र : अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Published: 10 Jul 2024, 07:00 pm IST
  • 140

बार बार होने वाला सिरदर्द कई समस्याओं की ओर इशारा करता है। अधिकतर लोग सिरदर्द को माइग्रेन की समस्या से जोड़कर देखने लगते हैं।गर्मी के मौसम में डिहाइड्रेशन (dehydration) और कैफीन (caffeine) की अधिकता इस समस्या को बढ़ावा देती है, जिसके चलते गैस्ट्रिक सिरदर्द का सामना करना पड़ता है। पेट में बनने वाली गैस (gas), ब्लोटिंग (bloating) और एसिडिटी (acidity) के चलते ये समस्या गंभीर रूप ले लेती है। जानते हैं कि गैस्ट्रिक सिरदर्द (gastric headache) क्या है और किन उपायों की मदद से इस समस्या से बचा जा सकता है।

गैस्ट्रिक सिरदर्द (Does gastric cause headache)

जामा नेटवर्क की रिपोर्ट के अनुसार गैस्ट्रो इंटेस्टाइनल डिसऑर्डर (gastrointestinal disorder) सिरदर्द का कारण बन जाता है। इसके चलते अपच, कब्ज और पेट में ऐंठन बढ़ने लगती है। गैस्ट्रिक सिरदर्द (gastric headache) धीरे- धीरे बढ़ने लगता है, जो एबडॉमिनल पेन (abdominal pain) का कारण बनने लगता है। इससे एपिटाइट लो (low appetite) होने लगता है और वॉमिटिंग की समस्या का सामना करना पड़ता है। इसके कारण डायरिया के लक्षणों का सामना करना पड़ता है।

इंटरनेशनल हैडेक सोसायटी के अनुसार माइंड और गट एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। गैस्ट्रो इंटेस्टाइनल डिसऑर्डर का असर शरीर पर देखने को मिलता है। नर्वस सिग्निलिंग के चलते गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग, इरिटेबल बॉवल सिंड्रोम, (irritable bowel syndrome) इंफ्लामेटरी बॉवल डिज़ीज और अल्सरेटिव कोलाइटि की समस्या के चलते सिरदर्द का सामना करना पड़ सकता है। गैस्ट्रिक सिरदर्द के चलते ब्लोटिंग, एसिड रिफलक्स (acid reflux), इनडाइजेशन (indigestion), डायरिया (diarrhea) और कब्ज की समस्या का सामना करना पड़ता है।

इस बारे में आयुर्वेद एक्सपर्ट अनिल बंसल बताते हैं कि अनियमित आहार पाचन संबधी समस्याओं का कारण बनता है, जिससे गैस्ट्रिक सिरदर्द (gastric headache) का सामना करना पड़ता है। कार्ब्स और शुगर के पाचन में अपने वाली परेशानी के चलते पेट में गैस बनने लगती है। इससे एसिडिटी (acidity) का सामना करना पड़ता है, जिससे सिर में दर्द की समस्या बढ़ने लगती है।

home remedies for headache
कार्ब्स और शुगर के पाचन में अपने वाली परेशानी के चलते पेट में गैस बनने लगती है। इससे एसिडिटी (acidity) का सामना करना पड़ता है। चित्र: अडोबी स्टॉक

इन टिप्स की मदद से गैस्ट्रिक सिरदर्द की समस्या होगी हल (how to treat gastric headache)

1. तुलसी के पत्ते चबाएं (Basil leaves)

तुलसी के पत्तों में मौजूद कंपाउड से पेट की लाइनिंग को आराम मिलता हैं। इसमें पाए जाने वाले एनाल्जेसिक गुण पेट फूलने (bloating) और गैस को कम करने में मदद करते हैं। तुलसी के पत्ते को चबान या फिर तुलसी की पत्तियों को पानी में उबालकर पीने से भी सिरदर्द की समस्या से बचा जा सकता है। इससे पेट में बनने वाली अत्यधिक गैस की समस्या हल होने लगती है।

2. भरपूर मात्रा में पानी पीएं (Water intake)

शरीर को एक्टिव रखने और सिरदर्द की समस्या को हल करने के लिए शरीर को हाइड्रेट रखें। डिहाइड्रेशन के चलते बार बार प्यास लगने और सिरदर्द (headache) का सामना करना पड़ता है। पानी की उच्च मात्रा से शरीर में बढ़ने वाले टॉक्सिक पदार्थों को डिटॉक्स करने में मदद मिलती है। साथ ही शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह बना रहता है।

3. नींबू का रस (lemon water)

डाइजेशन को बूस्ट करने और गैस्ट्रिक सिरदर्द की समस्या को हल करने के लिए गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर पीने से सिरदर्द से राहत मिलती है। इसमें मौजूद विटामिन सी और एंटीइंफ्लामेटरी गुण दर्द को कम करते हैं। नींबू का रस पाचन पर अलकलाइन प्रभाव डालता है, जिससे पेट में बनने वाले एसिड के प्रभाव को कम किया जा सकता है।

nimboo ke sewan se headache se milegi raahat
डाइजेशन को बूस्ट करने और गैस्ट्रिक सिरदर्द की समस्या को हल करने के लिए गुनगुने पानी में नींबू का रस मिलाकर पीने से सिरदर्द से राहत मिलती है। चित्र- शटर स्टॉक

4. अदरक और शहद (Ginger and honey)

सिरदर्द को दूर करने के लिए अदरक का रस कारगर साबित होता है। इसमें मौजूद केमिकल कंपाउड सूजन, नॉजिया और उल्टी का इलाज करने में मदद करता हैं। अदरक का सेवन करने से शरीर में सेरोटोनिन का स्तर बढ़ने लगता है, जो ओवरएक्टिव पेन नर्वस को शांत करने में मदद करता है। इसके लिए अदरक के रस को शहद के साथ मिलाकर खाने से शरीर को अधिक लाभ मिलता है।

5. छाछ में जीरा मिलाकर पीएं (Buttermilk and cumin seeds)

छाछ का सेवन करने से शरीर को लेक्टिक एसिड की प्राप्ति होती है, जिससे गैस्ट्रिक सिरदर्द की समस्या से बचा जा सकता है। इसके अलावा जीरे में मौजूद एंटीऑक्साडेंटस और एंटी इंफ्लामेटरी गुण नर्वस को रिलैक्स करने में मदद करती है। छाछ में भुना हुआ जीरा पाउडर डालने से सिरदर्द की समस्या हल हो जाती है।

ये भी पढ़ें- शरीर में दिखने लगें ये संकेत, तब आपको जरूर करना चाहिए उपवास, यहां हैं फास्टिंग के फायदे

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 140
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख