बच्चा कहना नहीं मानता! तो एक्सपर्ट बता रहीं हैं उन्हें आज्ञाकारी बनाने के 4 टिप्स

क्या आपके बच्चे भी आपका कहना नहीं मानते हैं? यदि हां... तो यह लेख आपके लिए हैं क्योंकि एक्सपर्ट से जानिए क्या है बच्चों को अपनी बात मनवाने और उन्हें आज्ञाकारी बनाने का सही तरीका।

kaise banayen apne baachon ko aagya kaari
अपने बच्चे को आज्ञाकारी बनाने के टिप्स। चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 4 November 2022, 21:17 pm IST
  • 125

क्या आपका बच्ची भी आपका कहना नहीं सुनता है? ऐसे में आप एक ही चीज़ उनसे इतनी बार कहती हैं, कि आपको खुद ध्यान नहीं रहता कि आखिर पूरी बात क्या थी। पहली बात तो ये कि यदि आपके साथ भी ऐसा होता है तो यह बिल्कुल नॉर्मल है। आप इसमें अकेली नहीं हैं और न ही आपका बच्चा अनोखा है, क्योंकि हर बच्चा बचपन में ऐसा ही होता है। यह एक नॉर्मल बिहेवियर है।

शुरुआती चरण में बच्चे को आज्ञाकारी बनाना माता – पिता के लिए सबसे महत्वपूर्ण और सबसे मुश्किल काम होता है। माता-पिता के रूप में, हम अपेक्षा करते हैं कि हमारे बच्चे नियमों का पालन करें और हमारे अधिकार का सम्मान करें। मगर बच्चों को यह सब सीखना इतना आसान नहीं होता है।

इसलिए, पेरेंटिंग में आपकी मदद करने के लिए पेरेंटिंग एक्सपर्ट डॉ. इशिना सदाना नें अपने सोशल मीडिया हैंडल पर कुछ टिप्स साझा की हैं। इन टिप्स की मदद से बच्चे का आपका कहना मानने लगेंगे।

तो चलिये जानते हैं एक्सपर्ट द्वारा बताई गई उन टिप्स के बारे में जो आपके बच्चों आज्ञाकारी बनाने में मदद कर सकती हैं।

अपने बच्चों को दूर से खड़े रहकर कोई आदेश न दें

यदि आप अपने बच्चे को कोई काम करने के लिए दूर से खड़े रहकर बोल रही हैं, तो सकता है कि बच्चे पर उतना प्रभाव न पड़े। इसलिए, एक्सपर्ट का सुझाव है कि बच्चों के पास जाकर उन्हें कोई भी बात समझाएं। इसके अलावा, उन्हें अपनी बात एक बार में अच्छी तरह से क्लियर कर दें, ताकि आपको दोबारा न कहना पड़े और वे इसे एक आदेश कि तरह लें।

यहां देखें उनकी पोस्ट

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Ishinna B. Sadana (@ishinna_b_sadana)

कंधे पर हाथ रखना बढ़ाता है विश्वास

बच्चों से बात करते समय अपना हाथ उनके कंधों पर रखें, ताकि उन्हें यह विश्वास हो जाए कि उनसे जो कहा जा रहा है वो उनके के लिए महत्वपूर्ण है। इसके साथ ही, कंधे पर हाथ रखने से एक ज़िम्मेदारी का साइकॉलॉजिकल प्रभाव पड़ता है। इससे उन्हें आपकी बात जल्दी समझ आ जाएगी।

आंख मिलाकर बात करें

अपनी बात कहते हुये उनकी आंखों में देखें। आपके आई कॉन्टैक्ट का उनके सब कॉन्शियस माइंड पर बहुत बड़ा असर पड़ सकता है। यह एक कम्युनिकेशन स्किल है, जो हर किसी कॉ आनी चाहिए। ऐसा करने से बच्चे कॉ आपकी बात ज़्यादा महत्वपूर्ण और प्रभावी लगेगी।

उनके अच्छे बिहेवियर को प्रेज़ करें

जब भी बच्चा आपका कहना मानें या आपकी काही हुई बात का मान रखे और उसी तरह काम करे तो अपने बच्चों को एप्रिशिएट करें। इससे उनका उत्साहवर्धन होगा, जिससे उनको आगे भी आपकी बात सुनकर अच्छा लगेगा और वे आपकी काही हुई बातों का सम्मान करना सीख जाएंगे।

यह भी पढ़ें : कैंसर का जोखिम भी कम कर सकते हैं मुनक्का, जानिए क्या है इन्हें आहार में शामिल करने का सही तरीका

  • 125
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory