Sports injury : फिजिकल एक्टिविटीज में चोट भी लग सकती है, यहां हैं सबसे कॉमन इंजरीज से डील करने का तरीका

इन चोटों के लिए तैयार रहें, यदि आपको एक बार चोट लग चुका है, तो अगली बार एक्सरसाइज या स्पोर्ट्स के दौरान दोबारा से वही गलती न दोहराएं।
Yaha jaane kuchh common sports injury.
यहां जानें कुछ कॉमन स्पोर्ट्स इंजरी। चित्र- अडोबी स्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 27 May 2024, 10:00 am IST
  • 111

स्पोर्ट्स में पार्टिसिपेट करते हुए, वर्कआउट या एक्सरसाइज के दौरान चोट लगना यानी इंजरी आना कॉमन है। जो लोग नियमित रूप से शारीरिक गतिविधियों में पार्टिसिपेट करते हैं, उन्हें छोटी-मोटी चोट लगती रहती है। वहीं कई बार उन्हें गंभीर इंजरी भी आ सकती है। इसलिए स्पोर्ट्स इंजरी के बारे में पता होना बेहद जरूरी है। ताकि जब आपको चोट लगे तो फौरन आप उसके लिए कुछ कर सके। हालांकि, बहुत से लोग ऐसे हैं, जो छोटे-मोटे स्पोर्ट्स इंजरी को नजरअंदाज कर देते हैं, जिसकी वजह से परेशानी अधिक बढ़ सकती है। ऐसा करने से हमेशा बचना चाहिए।

आज हेल्थ शॉट्स ने स्पोर्ट्स इंजरी को लेकर फोर्टिस में ऑर्थोपेडिक के डायरेक्टर और जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जन डॉ. प्रमोद भोर से बात की। डॉक्टर ने कॉमन स्पोर्ट्स इंजरी बताते हुए, इनसे डील करने के उपाय भी बताए हैं (how to deal with sports injuries), तो चलिए जानते हैं इस बारे में।

जानिए इस बारे में क्या कहते हैं एक्सपर्ट

डॉक्टर कहते हैं “खेल और कसरत की गतिविधियों के दौरान कभी-कभी चोट, मोच, खिंचाव, जोड़ों की चोट और नाक से खून आने जैसी परेशानियां हो सकती हैं। ऐसे में शीघ्र स्वस्थ होने के लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि इन चोटों से कैसे निपटा जाए। साथ ही इन चोटों के लिए तैयार रहें, यदि आपको एक बार चोट लग चुका है, तो अगली बार एक्सरसाइज या स्पोर्ट्स के दौरान दोबारा से वही गलती न दोहराएं। जितना हो सके उतना सुरक्षित रहने की कोशिश करें। हालांकि, चोट लगना सामान्य है, परंतु चोट को उसकी हाल पर छोड़ देना आपको परेशान कर सकता है।”

Yaha jaane kuchh common sports injury.
अगर आप एक्सरसाइज़ करने के लिए सही तकनीक नहीं अपनाते है, तो इससे चोटिल होने का खतरा बढ़ने लगता है। चित्र : एडॉबीस्टॉक

1. चोट लगाना

एक्सरसाइज करते वक्त या गेम खेलते वक्त सबसे सामान्य इंजरी है, चोट लगाना। आप किसी चीज से टकरा सकती हैं, या आप गिर सकती हैं। जिसकी वजह से आपके घुटने, हाथ, कोहनी, पैर तथा अन्य जगहों पर चोट लग सकती है।

चोट लगने पर प्रभावित जगह पर 15 से 20 मिनट तक बर्फ लगाने से सूजन और दर्द कम हो सकता है। रक्त प्रवाह और डिस्कलरेशन को कम करने के लिए चोट वाले क्षेत्र को ऊंचा रखें।

2. मोच आना

आमतौर पर एक्सरसाइज करते हुए या खेलते वक्त हमें झटका लगने की वजह से मोच आ जाती है। जो कभी-कभार कुछ समय में ठीक हो जाती है, तो कई बार काफी गंभीर हो सकती है। मोच लिगामेंट को प्रभावित करती है, और खिंचाव का कारण बनती है, जो मांसपेशियों या टेंडन को प्रभावित करते हैं।

यह भी पढ़ें: चावल खाकर भी वजन घटाया जा सकता है, एक्सपर्ट बता रहीं हैं कैसे

इसका इलाज आर.आई.सी.ई. मेथड से किया जाना चाहिए, रेस्ट, आइस, कंप्रेशन और एलिवेशन। घायल हिस्से को आराम दें, हर घंटे 20 मिनट के लिए आइस पैक लगाएं, सूजन को सीमित करने के लिए संपीड़न पट्टी का उपयोग करें और चोट के हिस्से को हृदय के स्तर से ऊपर उठाएं।

3. जॉइंट इंजरी

जॉइंट इंजरी आम तौर पर सामान्य नहीं होती, अक्सर लोगों को जॉइंट इंजरी आने के कारण लंबे समय तक इलाज में रहना पड़ता है। जिनमें अक्सर घुटने, टखने या कंधे शामिल होते हैं। ऐसे में इनके लिए तत्काल आराम और बर्फ की आवश्यकता होती है।

Maanspeshiyo mein dard hai vitamin K ki kami ke lakshan
मांसपेशियों म ऐंठन हैं विटामिन K की कमी के लक्षण। चित्र: शटरस्‍टॉक

जोड़ पर भार डालने से बचें और यदि गंभीर दर्द हो या जोड़ को हिलाने में असमर्थता हो तो बिना देर किए फौरन डॉक्टर से मिलें और इसपर सलाह लें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

4. नोज ब्लीडिंग

स्पोर्ट्स और एक्सरसाइज के दौरान नोज ब्लीडिंग एक कॉमन इंजरी मानी जाती है। यह नाक पर चोट लगने के कारण होती है, साथ ही साथ कई बार अधिक गर्मी या ठंड होने की वजह से भी नोज ब्लीडिंग शुरू हो जाती है। नाक से खून बहने को सीधे बैठकर और थोड़ा आगे की ओर झुककर नियंत्रित किया जा सकता है।

10 मिनट के लिए नाक के पुल के ठीक नीचे नासिका छिद्रों को एक साथ दबाएं। खून निगलने से रोकने के लिए लेटने या सिर को पीछे झुकाने से बचें। वहीं यदि यह 5 से 10 मिनट में न रुके तो फौरन डॉक्टर के पास जाएं।

नोट: इन सभी चोटों के लक्षण यदि लंबे समय तक बने रहते हैं, या समय के साथ बिगड़ जाते हैं, तो स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श करना आवश्यक है। उचित देखभाल और ध्यान आपकी नियमित गतिविधियों में तेज़ और सुरक्षित वापसी सुनिश्चित कर सकता है।

यह भी पढ़ें: ऐंठन और दर्द से बचाता है सही ब्लड सर्कुलेशन, इसे सुचारू बनाने के लिए करें इन 4 योगासनों का अभ्यास

  • 111
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख