इस गणेश चतुर्थी ट्राई करें डायबिटीज फ्रेंडली मोदक रेसिपी और गिल्ट फ्री होकर लें उत्सव का आनंद

गणेश चतुर्थी के शुभ अवसर पर ट्राई करें बिना चीनी और मैदे से बने हेल्दी मोदक। अन्य मिठाइयों की तुलना में ये आपकी सेहत के लिए ज्यादा बेहतर हैं।

Modak recipe
यहां है मोदक बनाने की आसान सी रेसिपी। चित्र शटरस्टॉक।
अंजलि कुमारी Updated on: 24 August 2022, 17:12 pm IST
  • 136

मीठे के बिना सभी त्योहार अधूरे हैं। यदि त्योहार में मीठा न खाएं, तो कुछ अधूरा सा लगता है। गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi)  की बात हो और मोदक (Modak) की बात न आए, ऐसा तो हो ही नहीं सकता। 10 दिनों तक चलने वाला यह त्योहार इस वर्ष 31 अगस्त से शुरू होगा। वहीं गणेश चतुर्थी में प्रसाद के तौर पर मोदक को इस्तेमाल किया जाता है। यह पिछले कई सालो से पारंपरिक रूप से गणेश पूजन में प्रसाद के रूम में प्रयोग होता चला आ रहा है।

मूल रूप से यह महराष्ट्रियन मिठाई है जो महाराष्ट्र में गणेश चतुर्थी के अवसर पर खूब बिकती है। परंतु अन्य जगहों पर यह आसानी से बाजार में नहीं मिल पाती। ऐसे में त्योहार को संपूर्ण बनाने के लिए प्रसाद के तौर पर मोदक होना बहुत जरूरी है।

आपको बता दें की मोदक बनाना काफी आसान है। यदि आप चाहें तो 40 से 50 मिनट में स्वादिष्ट मोदक को अपने हाथों से तैयार कर सकती हैं। इतना ही नहीं अन्य मिठाइयों की तरह इसे बनाने में ढेरो चीनी और मैदे का प्रयोग नहीं किया जाता। तो फिर आप किसी भी राज्य और किसी भी जगह पर हों मोदक की इस आसान और हेल्दी रेसिपी के साथ अपने गणेश चतुर्थी को और भी खास बना सकती हैं।

Modak ki guilt free recipe
यहां है मोदक की गिल्ट फ्री रेसिपी। चित्र: शटरस्टॉक

यहां जानें अन्य मिठाइयों की तुलना में किस तरह फायदेमंद होते हैं मोदक

मोदक बनाने में इस्तेमाल की गई लगभग सभी सामग्री सेहत के लिए फायदेमंद होती हैं। जैसे कि इसमें मौजूद घी कब्ज से राहत पाने में मदद करता हैं। पब मेड सेंट्रल द्वारा प्रकाशित एक डेटा के अनुसार कोकोनट डाइटरी फाइबर का एक अच्छा स्रोत होता है और डाइजेस्टिव हेल्थ के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद हो सकता हैं। वहीं मोदक में हेल्दी फैट्स, फाइबर, एंटीऑक्सीडेंट और माइक्रोन्यूट्रिएंट्स मौजूद होते हैं।

इसके साथ ही घी विटामिन ए ओमेगा 3 फैटी एसिड का एक अच्छा स्रोत होता है। वहीं मोदक में चावल के आटे का इस्तेमाल किया जाता है चावल का आटा कई जरूरी पोषक तत्वों से भरपूर होता है जैसे कि कैल्शियम। इसके साथ ही इसमें कोलिन की मात्रा पाई जाती है, जो कि लीवर में कोलेस्ट्रॉल को जमा होने से रोकती है।

यह डाइजेस्टिव, कार्डियोवैस्कुलर, लीवर और बोन हेल्थ से लेकर ब्लड शुगर लेवल को भी मेंटेन रखने में मदद करता है। वहीं इसमें मौजूद जिंक बॉडी इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में मदद करते हैं। यदि देखा जाए तो मोदक का ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी बहुत कम होता है।

diabetes
इस गणेश चतुर्थी डायबिटीज के मरीज भी उठा सकते हैं शुगर फ्री मोदक का लुत्फ। चित्र: शटरस्टॉक

अन्य सभी मिठाइयों की तुलना में आपकी सेहत के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद होती है। यदि कोई व्यक्ति डायबिटीज से पीड़ित हैं, तो वे एक सीमित मात्रा में इसका सेवन कर सकते हैं।

यहां है मोदक बनाने की आसान सी रेसिपी

भरावन सामग्री के लिए आपको चाहिए

  1. कोकोनट (कद्दूकस किया हुआ)
  2. गुड (कद्दूकस किया हुआ)
  3. इलायची
  4. जायफल
  5. केसर
  6. काजू

अब मोदक का शेल तैयार करने के लिए आपको चाहिए

चावल का आटा, पानी और घी।

Ghee mein hote hai good fats
घी में होते हैं गुड फैट। चित्र: शटरस्‍टॉक

इस तरह तैयार करें मोदक का भरावन

1. सबसे पहले मध्यम आंच पर पैन को चढ़ाएं। पैन गर्म हो जाने पर उसमें घी डालें।

2. अब कद्दूकस किए गए नारियल को पैन में डाल दें और इसे 5 से 7 मिनट तक अच्छी तरह भुने।

3. उसके बाद इसमें गुड़ डाल दें। गुड़ कद्दूकस किया हुआ है, तो यह नारियल के साथ आसानी से अच्छी तरह मिक्स हो जाएगा।

4. गुड और नारियल को साथ में 3 से 4 मिनट तक भुने। इधर काजू को बिल्कुल छोटे-छोटे टुकड़ों में चौप कर लें और पैन में डाल दें। फिर इसमें इलायची और जायफल पाउडर डालकर अच्छी तरह मिलाएं।

5. गैस बंद करें और इसे ठंढा होने के लिए रख दें। वहीं दूसरी ओर मोदक का शेल तैयार करना शुरू करें।

अब तैयार करें मोदक का आटा

1. मोदक का शेल तैयार करने के लिए सबसे पहले एक नॉन स्टिकी पैन को मध्यम आंच पर चढ़ाए।

2. पैन में चावल के आटा की मात्रा अनुसार पानी डालें, और पानी मे थोड़ा सा घी डालकर अच्छी तरह मिलाएं।

khoya ke fayde
चावल के आटा की मात्रा अनुसार पानी डालें। चित्र : शटरस्टॉक

3. अब पानी में धीरे धीरे चावल का आटा डालें और इसे लगातार चलाती रहें। इसमें लम्पस पड़ सकता है, तो इसे अच्छी तरह चलाती रहें।

 4. इसका एक मुलायम डो तैयार कर लें। फिर गैस को बंद कर दें और इसे हल्का ठंडा होने के लिए साइड में रख दें।

मोदक को 2 तरीकों से तैयार किया जा सकता है। आप चाहें तो इसे अपने हाथों से भी एक शेप दे सकती हैं। यदि आप समय बचाना चाहती हैं तो मोदक मेकर यानि की मोदक बनाने वाले सांचे का इस्तेमाल करें।

साचें की मदद से इस तरह तैयार करें मोदक

1. डो के ठंडा हो जाने के बाद इसे हाथों से अच्छी तरह मिलाएं। यदि यह हाथों में चिपक रही हो तो इसमें दो चम्मच घी डाले और इसे वापस दोबारा से हाथों से अच्छी तरह गुंद लें।

2. अब सांचे में घी लगाएं। फिर डो का लोई बनाएं और उसे चपटा कर लें, अब इसे सांचे पर रखें और उसमें तैयार किए गए भरावण के मिक्सचर को डालें।

3. भरावन डालने के बाद सांचे को बंद करें और हाथों से अच्छी तरह दवा दें। अब इसी तरह सभी मोदक को तैयार करके एक ट्रे में रख लें।

बिना सांचे के इन स्टेप्स के साथ तैयार करें मोदक

1. सबसे पहले हथेलियों पर घी लगएं और डो से एक छोटी सी लोई लें, इसे चपटा कर लें।

2. अब इसमें तैयार किये गए भरावण को डालें और किनारो पर उंगलियों की मदद से पानी लगा दें, और इसके किनारो को चुन बनाकर मोड़ते हुए मोदक का आकर दें। सभी मोदक को इसी तरह तैयार करके रख लें।

ganesh chaturthi par iss bar healthy Modak banaye
गणेशा चतुर्थी पर इस बार हेल्दी मोदक रेसिपी ट्राय करें। चित्र: शटरस्टॉक

स्टीम करने का तरीका

मोदक हाथों से बना हो या सांचे से दोनों को स्टीम करने का तरीका एक ही होता है। तो चलिए देखते है कैसे करना है स्टीम।

1. स्टीमर के नीचे पानी डालकर उसे गैस पर चढ़ा दें।

2. स्टीम करने से पहले सभी मोदक के ऊपर घी लगाएं। अब पानी में उबाल आ जाने के बाद, इसे स्टीमर में डालकर 10 से 15 मिनट तक स्टीम होने दें।

3. वहीं यदि आपके पास स्टीमर नहीं है, तो मोदक को मलमल के कपड़े पर रखकर घर में मौजूद किसी भी बर्तन के नीचे पानी डालकर इसे भाप से पका सकती हैं।

4. आपका स्वादिष्ट मोदक बनकर तैयार है। इसे केसर के धागों से गार्निश करें। और त्यौहार में प्रसाद के तौर पर इस्तेमाल करें।

यह भी पढ़ें : सेहत के लिए बड़ी गुणकारी है कच्ची हल्दी, जानिए इसे कैसे करना है डेली डाइट में शामिल

  • 136
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory