लॉग इन

कभी-कभी पुरानी यादें भी कचरा होती हैं, जानिए माइंड को डिक्लटर करने के 5 तरीके

दिमाग को व्यवस्थित करने के लिए उसे डीक्लटर करना जरूरी है। यहां हैं 5 टिप्स जो दिमाग को व्यवस्थित करने में मदद कर सकते हैं।
मन में यदि ढेर सारे विचार हों, तो आपको अपना लक्ष्य कभी स्पष्ट नहीं दीखता है। चित्र : एडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Published: 31 Dec 2022, 14:00 pm IST
ऐप खोलें

घर और ऑफिस में कई तरह की समस्याओं से सामना करना पड़ता है। दिन भर हम अपने दिमाग में एक पर एक बातें ठूंसते चले जाते हैं। नतीजा हमारा मन और दिमाग अव्यवस्था का शिकार हो जाता है। इस अव्यवस्था से हम परेशान हो उठते हैं। यदि जल्दी इसके उपाय नहीं किये जाएं, तो समस्या और अधिक बढ़ जाती है। इसे व्यवस्थित करना बहुत जरूरी होता है। पर मन को व्यवस्थित कैसे किया जाए(how to declutter your mind)? पर इससे पहले जानते हैं माइंड को डीक्लटर करने के उपाय आजमाने से क्या फायदे हो सकते हैं।

माइंड को डीक्लटर (Declutter mind) करना है जरूरी

बैरी डेवनपोर्ट और एस.जे. स्कॉट अपनी किताब डीक्लटर योर माइंड: हाउ टू स्टॉप वरीइंग, रीलीव एंग्जाइटी में कहते हैं, ‘ मन में यदि ढेर सारे विचार गड्मगड्ड हों, तो आपको अपना लक्ष्य कभी स्पष्ट नहीं दीखता है।आपको अपना लक्ष्य तभी स्पष्ट हो पाता है, जब आप अपने मन को डीक्लटर कर लेते हैं।’ वहीं कंट्रोल योर माइंड एंड मास्टर योर फीलिंग ऑडियो बुक के लेखक एरिक रोबर्टसन कहते हैं, ‘ किसी भी विषय पर बहुत सोचना-विचारना छोड़ दें। अपनी भावनाओं पर नियन्त्रण रखें। तभी आप अपने मनोनुकूल क्षेत्र में सफलता अर्जित कर सकते हैं।

यहां हैं मन को डीक्लटर करने के टिप्स (how to declutter your mind)

1 साउंड स्लीप (Sound Sleep) को दें प्राथमिकता

नींद के कई फायदे हैं, जिसमें मेंटल हेल्थ को मजबूती भी शामिल है। यदि आपको
पर्याप्त नींद नहीं मिल रही है, तो आपकी सोचने-समझने की शक्ति प्रभावित हो सकती है। इससे संवाद करने की क्षमता भी प्रभावित हो सकती है। यदि आप अपने दिमाग को व्यवस्थित करना चाहती हैं, तो सबसे पहले साउंड स्लीप लेने की आदत विकसित करें। नींद में आनेवाली बाधा को दूर करने की कोशिश करें।

2 नियमित रूप से मेडिटेशन (Meditation) करना शुरू करें

यदि आपका दिमाग कई साड़ी बातों में अटका रहता है, तो निश्चित तौर पर आप तनाव में रहती होंगी। तनावमुक्त होने के लिए सबसे पहले मेडिटेशन करना शुरू करें। इसकी शुरुआत करने पर आप शांत और सहज होती जाएंगी।

तनावमुक्त होने के लिए सबसे पहले मेडिटेशन करना शुरू करें। चित्र शटरस्टॉक।

आप भ्रम में जीने की बजाय अपनी प्राथमिकताओं पर स्पष्ट होना सीख जाएंगी। इससे आपकी व्याकुलता भी खत्म हो जाएगी। अपने लक्ष्य पर दिमाग को केंद्रित करना सीख जाएंगी।

3 अपने विचारों (note down Thoughts) को डायरी में नोट करें

जो भी विचार आपके दिमाग में घूम रहे हैं, उन्हें लिखने की आदत डाल लें। विचारों को कागज पर लिखने से आप विचारों के जाल से निकल सकेंगी। एक छोटी नोटबुक भी अपने साथ रख सकती हैं। इसमें आप अपने ताज़ा विचारों को संक्षेप में लिख सकती हैं। यह आपको उन्हें याद रखने की जिम्मेदारी से मुक्त होने की अनुमति देगा।

4 प्राथमिकता (Priority) तय करें और उसके अनुरूप काम करें

आपके पास एक लंबी टू-डू सूची हो सकती है। आपको कहां से शुरू करना है, इस पर आपको बहुत अधिक सोचना-विचारना नहीं है। सबसे पहले आप यह देखें कि कौन सा काम सबसे अधिक जरूरी है।

जैसे ही आप प्रायोरिटी के अनुरूप काम करना शुरू करती हैं, आपका दिमाग डीक्लटर होना शुरू हो जाता है। चित्र: शटरस्टॉक

किस काम की डेडलाइन नजदीक है। उसी के अनुरूप काम करने की कोशिश करें। आप पाएंगी कि जैसे ही आप प्रायोरिटी के अनुरूप काम करना शुरू करती हैं, आपका दिमाग डीक्लटर होना शुरू हो जाता है।

5 कम करें मल्टीटास्किंग(Multitasking)

हम खुद को सर्वश्रेष्ठ साबित करने के लिए अपने ऊपर कई तरह के काम लाद लेते हैं। यह मल्टीटास्किंग हमारे दिमाग को प्रभावित करने लगता है। मल्टीटास्किंग सुनने में तो अच्छा लगता है, पर हुमेन बिहेवियर पर हुई स्टडी बताती है कि वास्तव में यह व्यक्ति की प्रोडक्टिविटी को कम कर देता है। इसलिए कई काम में हाथ डालने की बजाय अपना ध्यान 1 काम पर केंद्रित करें। आप टाइमर सेट कर सकती हैं कि आप किसी दिए गए कार्य पर कितना समय व्यतीत करना चाहती हैं।

यह भी पढ़ें :-बॉडी शेमिंग से परेशान हैं, तो जानिए आप कैसे बदल सकती हैं अपना नजरिया

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है। ...और पढ़ें

अगला लेख