Thanksgiving day: ‘शुक्रिया’ सिर्फ एक शब्द नहीं, संबंधों का गोंद है, यहां हैं खास लोगों के साथ सेलिब्रेशन के 5 रोचक तरीके

किसी के प्रति आभार व्यक्त करना न केवल अच्छी आदतों और गतिविधियों को प्रोत्साहित करता है, बल्कि ये आपके मन को भी शांति प्रदान करता है। यहां ऐसे ही कुछ खास टिप्स दिए गए हैं जो मन की शांति के लिए जरूरी हैं।
जब आप तनावग्रस्त और अशांत महसूस कर रही हैं, तो ऐसे व्यक्ति के पास जाएं जो आपकी बात सुनते हैं। और आज के दिन से बेहतर अवसर भला कौन सा होगा। चित्र : शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published on: 24 November 2022, 19:01 pm IST
ऐप खोलें

हमारा मन अशांत रहता है। हम शांति की तलाश में रहते हैं। इसके कई कारण हो सकते हैं। वे कारण भले ही हमारे वश के बाहर हों। पर एक छोटी सी चीज जो बहुत आसान है, हम उसे भी लगातार इग्नोर करते हैं। जी हां, हम शुक्रिया, धन्यवाद जैसे आसान, परंतु जादुई शब्दों को भूलते जा रहे हैं। हम सोचते हैं कि मैंने दूसरों के लिए बहुत कुछ किया। पर दुसरे लोगों ने मेरे लिए कुछ नहीं किया। हम उन घटनाओं को नजरंदाज कर देते हैं या भूल जाना चाहते हैं, जिनमें हमें दूसरों से मदद मिली होती है।

दूसरों को थैंक्स कहने की कोशिश करें (say thanks to others)

यदि कोई हमें कुछ सिखाता है या हमारी मदद करता है, तो सामने वाले को धन्यवाद या शुक्रिया भी नहीं कहते हैं। हमारी लाइफस्टाइल ऐसी हो गई है कि हमारे पास दूसरों को थैंक्स कहने के लिए भी शब्द नहीं है। शायद इसीलिए अमेरिका जैसे देश में थैंक्सगिविंग डे सेलिब्रेट किये जाते हैं। ये दिन हमें अपने सुकून के लिए कुछ खास पल मुहैया करवाते हैं। साथ ही उन लोगों से जोड़ते हैं, जो हमारे जीवन में महत्वपूर्ण हैं। मन की शांति कैसे पाई (how to get peace ) जा सकती है, यह जानने से पहले थैंक्सगिविंग डे (how to celebrate thanksgiving day) के बारे में जानते हैं।

क्या है धन्यवाद दिवस (Thanksgiving day)

धन्यवाद दिवस या थैंक्स गिविंग डे को संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में नेशनल हॉलिडे के रूप में मनाया जाता है। यह दिन नवंबर में चौथे गुरुवार (4th Thursday of November) को मनाया जाता है। इस वर्ष 24 नवंबर को चौथा गुरुवार है। यह दिन अमेरिका में फसल तैयार होने और प्रकृति, बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद मिलने पर धन्यवाद कहने के लिए मनाया जाता है।

ग्लोबलाइजेशन के कारण यह दिन भारत सहित दुनिया के कई देशों में मनाया जाने लगा है। जबकि आभार जताना या शुक्रिया कहना भारतीय संस्कारों की नींव में है। हम मानते हैं कि किसी भी व्यक्ति को धन्यवाद कहने पर आंतरिक ख़ुशी मिलती है और मन को शांति भी।

थैंक्सगिविंग डे मनाने के लिए हमारे पास हैं 5 सादा मगर प्रभावशाली तरीके

1 जो आपसे प्यार करते हैं, उनसे बातचीत करें (communicate with those who love you)

अकेले जीवन जीना मुश्किल है। अकेलापन थोड़ी देर की शांति दे सकता है, लेकिन ज्यादा देर तक नहीं। इसलिए ऐसे लोगों से मिले-जुलें, उनसे बातचीत करें, जो आपसे प्यार करते हैं। स्वस्थ संबंध ही शांत मन की नीव हैं। कोशिश करें कि बातचीत हमेशा पॉजिटिव हो। निगेटिव बातचीत मन को अशांत कर देता है। जब आप तनावग्रस्त और अशांत महसूस कर रही हैं, तो ऐसे व्यक्ति के पास जाएं जो आपकी बात सुनते हैं। और आज के दिन से बेहतर अवसर भला कौन सा होगा।

2 गलतियों को माफ़ कर दें (practice forgiving)

वाद-विवाद, गुस्सा ये सभी अशांति बढाते हैं। यदि आपको किसी ने चोट पहुंचाई है या आपके साथ बुरा किया है, तो उन्हें माफ़ कर दें। माफ़ नहीं करने पर आपको उनके विचार अशांत करते रहेंगे। यह आपको कड़वाहट की ओर ले जाएगा। जीवन में कड़वाहट घोलने की बजाय माफ़ करना चुनें, शांति मिलेगी।

3 रचनात्मकता के साथ करें सेलिब्रेट (Celebrate with creativity)

तनाव से राहत और शांति पाने के लिए रचनात्मकता सबसे अधिक जरूरी है। तो जब आप थैंक्सगिविंग डे सेलिब्रेट कर रहीं हाें तो उसके लिए भी किसी बड़ी पार्टी की जरूरत नहीं है।

अपनी पसंद का काम करने पर  भी आपका मन ख़ुशी से भर सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

बल्कि आप छोटे-छोटे रचनात्मक तरीकों से भी इसे सेलिब्रेट कर सकती हैं। मसलन किसी कार्ड पर कुछ आभार व्यक्त करती हूं पंक्तियां लिखना, या अपनी पसंद का कार्ड बनाना। साथ बैठकर पढ़ना, कुछ लिखना, पेंटिंग करना, गाना गाना, यह कुछ भी हो सकता है। कुकिंग या गार्डनिंग का काम भी शुरू कर सकती हैं। अपनी रुचि का काम शुरू करते ही आप पाएंगी कि आपका मन शांत हो रहा है।

4 अच्छी चीजों काे याद करें (showing gratitude to others)

यदि आपके साथ किसी ने अच्छा किया है या आपकी मदद की है, तो उन्हें आभार प्रकट करना नहीं भूलें। साथ ही अपने साथ एक डायरी रखें, जिसमें मदद और व्यक्ति के प्रति आभार प्रकट करने को नोट भी कर लें। कुछ दिनों बाद जब आप उन आभार प्रकट किये गये वाक्यों को पढ़ेंगी, तो आपको ख़ुशी मिलेगी और मन शांत भी होगा।

5 वर्तमान को करें सेलिब्रेट (live in the present)

हम भविष्य की योजनाओं को लेकर चिंतित होते रहते हैं। पर कभी-कभी पुरानी बातों को लेकर भी मन में कड़वाहट भरे रहते हैं। चिंता करना और पुरानी बातों को गांठ बांधकर बैठना हमें ऐसा महसूस कराता है जैसे हम कुछ महत्वपूर्ण कर रहे हैं। जबकि इसके उलट हम बेकार का कार्य कर रहे होते हैं।

हमें सबसे पहले भविष्य की चिंता करना छोड़कर वर्तमान में जीना सीखना चाहिए। चित्र : शटरस्टॉक

चिंता से हम अवसादग्रस्त होते हैं और मन अशांत होता है। हमें सबसे पहले भविष्य की चिंता करना छोड़कर वर्तमान में जीना सीखना चाहिए। हमें जो कुछ भी प्राप्त हुआ, उसके प्रति लोगों को आभार प्रकट कर खुश रहना चाहिए। इससे मन भी शांत होगा।

यह भी पढ़ें :-सावधान ! देश भर में बच्चों में फैल रहा है खसरा का संक्रमण, जानिए क्यों अचानक बढ़ने लगी है ये बीमारी

लेखक के बारे में
स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
Next Story