वैलनेस
स्टोर

कच्‍चे लहसुन से लेकर शतावरी तक, जानिए आपके लिए क्‍यों जरूरी हैं प्रीबायोटिक्‍स का सेवन

Published on:1 May 2021, 10:30am IST
आपने प्रोबायोटिक्‍स के बारे में तो सुना होगा, पर आज हम आपको प्रीबायोटिक्‍स के बारे में बताने जा रहे हैं। जो आपके समग्र स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहद जरूरी हैं।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
प्रीबायोटिक फूड अपने आहार में शामिल करें और पाएं ढ़ेरों स्वास्थ्य लाभ. चित्र : शटरस्टॉक

आपने प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थों के बारे में ज़रूर सुना होगा और आपको शायद यह भी पता होगा कि वे पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद होते हैं। प्रोबायोटिक्स जीवित बैक्टीरिया होते हैं, जो हमारे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट के अंदर पनपते हैं। इन्हें गुड बैक्टीरिया कहा जाता है, क्योंकि यह हमारी गट हेल्थ के लिए फायदेमंद होते हैं। इन्हें दही, पनीर और खट्टी क्रीम जैसे फर्मेंटेड डेयरी उत्पादों के माध्यम से शरीर में पहुंचाया जा सकता है।

मगर आज हम आपको बताएंगे प्रीबायोटिक फूड्स के बारे में, जो बिल्कुल प्रोबायोटिक्स की तरह ही होते हैं। इन दोनों को साथ में खाना आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

आखिर क्या हैं प्रीबायोटिक?

प्रीबायोटिक, नॉन-लिविंग इनडाइजेस्टेबल प्लांट फाइबर होते हैं। जो हमारे शरीर में गुड बैक्टीरिया द्वारा उपयोग किये जाते हैं। ये गट बैक्टीरिया की पोषक तत्वों का उत्पादन करने में मदद करता है और एक स्वस्थ पाचन तंत्र को बढ़ावा देता है।

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन के अनुसार प्रीबायोटिक्स – ब्यूटाइरिक, एसीटेट और प्रोपियोनेट जैसे शॉर्ट-चेन फैटी एसिड को बनने में मदद करते हैं। ये फैटी एसिड रक्त प्रवाह में भी अवशोषित हो सकते हैं और चयापचय स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं।

आप कच्‍चे लहसुन को भी अपने आहार में शामिल कर सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

तो, आइये जानते हैं ऐसे कौन से प्रीबायोटिक्स फूड्स हैं, जिन्हें आप अपने आहार में शामिल कर सकती हैं-

1 कच्चा लहसुन

लहसुन आपके खाद्य पदार्थों को बहुत अच्छा स्वाद देता है और आपको प्रीबायोटिक लाभ प्रदान करता है। लहसुन गट में फायदेमंद बिफीडो बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देकर एक प्रीबायोटिक के रूप में कार्य करता है। यह अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ावा देता है और हानिकारक बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकने में मदद करता है।

2 कच्चे या पके हुए प्याज

प्याज इंसुलिन और FOS (फ्रुक्टुलिगोसैकराइड्स, एक तरह का प्रीबायोटिक) से भरपूर होते हैं, जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद कर सकते हैं, आपके पेट के बैक्टीरिया के लिए क्षमता प्रदान करते हैं और पाचन में सुधार करते हैं। प्याज फ्लेवोनॉइड क्वेरसेटिन में भी समृद्ध है, जो प्याज को एंटीऑक्सीडेंट और एंटी कैंसर गुण प्रदान करता है।

3 लीक

लीक्स, प्याज और लहसुन की तरह ही होते हैं, और समान स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। इसके साथ ही, वे प्रीबायोटिक इनुलिन फाइबर और विटामिन के में उच्च होते हैं। लीक्स फ़्लेवोनोइड्स में भी अधिक होते हैं, जो आपके शरीर को ऑक्सीडेटिव तनाव की प्रतिक्रिया का समर्थन करते हैं। लीक में विटामिन K की उच्च मात्रा होती है जो हृदय और हड्डियों के लिए लाभदायक है।

4 कच्चे शतावरी

शतावरी एक लोकप्रिय सब्जी है और प्रीबायोटिक्स का एक और बढ़िया स्रोत है। ये प्रीबायोटिक फाइबर और एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध है। शतावरी हेल्दी गट बैक्टीरिया को बढ़ावा देती है और कैंसर को रोकने में मदद कर सकती है। इसके साथ ही, 100 ग्राम शतावरी में लगभग 2 ग्राम प्रोटीन भी होता है।

प्रीबायोटिक का अच्छा स्त्रोत है. चित्र : शटरस्टॉक

5 कच्चे या पके हुए केले

केले विटामिन, खनिज और फाइबर में समृद्ध होते हैं। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन के अनुसार केला – हेल्दी गट बैक्टीरिया को बढ़ावा देने और सूजन को कम करने में सक्षम है। इसके अलावा कच्चे केले में प्रीबायोटिक प्रभाव होता है जो पाचन तंत्र के लिए फायदेमंद है।

6 फ्लैक्स सीड्स

फ्लैक्स सीड्स प्रीबायोटिक्स का एक बड़ा स्रोत हैं। इनमें मौजूद फाइबर नियमित मल त्याग को बढ़ावा देता है। ये एलडीएल कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और आपके शरीर द्वारा पचने वाले वसा की मात्रा को कम करता है। फेनोलिक एंटीऑक्सीडेंट के कारण, फ्लैक्स सीड्स में कैंसर विरोधी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं और रक्त शर्करा के स्तर को विनियमित करने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़ें : एंटी एजिंग से लेकर फैट बर्नर तक, आपका बेस्‍ट फ्रेंड है शहतूत, जानिए इसके आश्‍चर्यजनक फायदे

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।