और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

जब आप पूरी तरह वेगन डाइट को फॉलो करती हैं, तो आपके स्वास्थ्य पर पड़ते हैं ये 6 प्रभाव

Published on:13 March 2021, 11:00am IST
किसी भी आहार पर पूरी तरह आश्रित होना आपको कुछ अच्‍छे और कुछ कम अच्‍छे अनुभव देकर जाता है। हम यहां आपको वीगन डाइट के ऐसे ही प्रभाव के बारे में बता रहे हैं।
विनीत
  • 86 Likes
Vegan diet ka aapke health par positive effect padta hai
वेगन डाइट को फॉलो करने पर आपके स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

इन दिनों वीगनिज्म ट्रेंड में है। बहुत सारे लोग मांसाहार छोड़ कर पूरी तरह प्‍लांट बेस्‍ड डाइट पर आना चाहते हैं। यह न केवल आपके शरीर को बदल सकता है, बल्कि यह हमारे ग्रह (planet) पर सकारात्मक प्रभाव भी डाल सकता है। जो लोग वेगन डाइट को फॉलो करते हैं, वे मांस खाने वालों और वेजिटेरियन आहार की तुलना में कुछ अलग-अलग चीजों का अनुभव कर सकते हैं, जिसमें उनके जोड़ों और हड्डियों के स्वास्थ्य से लेकर, रात में एक अच्छी नींद लेने तक कई चीजें शामिल हैं।

हम आपके साथ साझा करना चाहते हैं कि जब हम वेगन डाइट को फॉलो करते हैं, तो हमारे स्वास्थ्य पर इसके क्‍या प्रभाव पड़ते हैं। हालांकि इसके परिणाम सकारात्मक और नकारात्मक दोनों होते हैं।

वेगन डाइट को फॉलो करने पर आपके स्वास्थ्य पर पड़ते हैं ये 6 प्रभाव

  1. बेहतर नींद लेने में मदद मिलती है

ऐसा इसलिए है क्योंकि आमतौर पर वेगन्स (vegans) अधिक रेशेदार भोजन और कम सैचुरेटेड फैट का सेवन करते हैं। एक अध्ययन में पाया गया है कि यह रात में एक अच्छी नींद के लिए सही नुस्खा हो सकता है।

प्लांट-आधारित आहार के साथ, आपकी जटिल कार्बोहाइड्रेट खाने की अधिक संभावना है, जो सेरोटोनिन जारी करने को उत्तेजित करते हैं और आपको सोने में मदद करते हैं। इसका मतलब है कि बिस्तर पर जाने से पहले चावल और आलू जैसे स्टार्चयुक्त खाद्य पदार्थ खाने से आपको रात में बेहतर नींद लेने में मदद मिल सकती है।

नींद हमारे शरीर से ज्यादा हमारे दिमाग के लिए जरूरी होती है।चित्र-शटरस्‍टॉक
  1. वेट लॉस में भी है मददगार 

कई अध्ययनों से पता चला है कि वेगन डाइट फॉलो करने से आपके वजन पर असर पड़ता है। एक अध्ययन में, जिन वयस्कों और बच्चों ने वेगन डाइट को फॉलो किया, उन्होंने कम प्रोटीन, कोलेस्ट्रॉल और संतृप्त वसा का सेवन किया।

बल्कि, वेगन डाइट को फॉलो करने वाले बच्चों ने अध्ययन अवधि के दौरान औसतन 6.7 पाउंड (3.1 किलोग्राम) वजन कम किया।

  1. आपके हार्मोन्स में बदलाव हो सकता है

हालांकि सोया मांस के लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है, लेकिन इसका बहुत अधिक सेवन करने से आपके शरीर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकते हैं। यह तब हो सकता है जब आप नियमित रूप से मांस से प्राप्त होने वाले प्रोटीन को सोया प्रोटीन के साथ प्रतिस्थापित करते हैं।

यह भी पढें: अध्ययनों के अनुसार, वजन कम करने के साथ ही कैंसर से लड़ने में भी मददगार है हिबिस्कस टी

बड़ी मात्रा में सोया के सेवन को थायरॉयड ग्रंथि के कामकाज को बाधित करने के लिए दिखाया गया है, जो हार्मोनल संतुलन और नियंत्रण के लिए जिम्मेदार हैं। यह हार्मोन्स में असंतुलन का कारण बन सकता है, जिसका अर्थ है कि इसके अन्य विकल्पों की तलाश करना आपके लिए अधिक स्वास्थ्यवर्धक हो सकता है।

  1. जोड़ों में सूजन कम हो सकती है

मक्खन, पनीर और हैम्बर्गर जैसे खाद्य पदार्थ जोड़ों में सूजन पैदा कर सकते हैं, क्योंकि वे संतृप्त वसा में उच्च होते हैं। नए शोध से पता चलता है कि एक प्लांट-बेस्ड डाइट, विशिष्ट शाकाहारी (veganism), गठिया के लक्षणों को कम करने मदद कर सकती है।

आंशिक रूप से ऐसा इसलिए है क्योंकि आप उतना सैचुरेटेड फैट नहीं खाएंगे। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि आप उन खाद्य पदार्थों का सेवन अधिक कर रहे हैं, जो वास्तव में सूजन के खिलाफ लड़ते हैं।

घुटनों व जोड़ों में दर्द से राहत पाने में मदद मिल सकती है। चित्र- शटरस्टॉक।
  1. आप अधिक ब्लोटिंग का अनुभव कर सकती हैं

ब्रसेल्स स्प्राउट्स, ब्रोकोली और गोभी जैसी बहुत सारी सब्जियां खाने का मतलब यह हो सकता है कि आपका पेट अतिरिक्त गैस से भरा है। यह आपको फूला हुआ महसूस करवा सकता है, क्योंकि आपका शरीर सभी तरह के फाइबर को संसाधित नहीं कर सकता।

इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि आप यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपका पाचन तंत्र आपके भोजन को स्वस्थ तरीके से पचा रहा है, वेगन डाइट को फॉलो करने के साथ भरपूर पानी पिएं।

  1. आपकी त्वचा साफ हो सकती है

हम जो खाते हैं वह सीधे हमारी त्वचा को प्रभावित कर सकता है। अध्ययनों से पता चलता है कि प्लांट-बेस्ड डाइट त्वचा से मुंहासों को साफ कर सकती हैं और त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार कर सकती है।

अपने डेयरी उत्पादों के सेवन को सीमित करके, उन खाद्य पदार्थों का सेवन अधिक करना जो नेचुरल एंटीऑक्सीडेंट हैं, आपकी त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार करता है।

यह भी पढें: शाकाहारियों को ज्‍यादा होता है बोन फ्रैक्चर का खतरा, जानिए कैसे करना है बचाव 

विनीत विनीत

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए।