वैलनेस
स्टोर

अकसर कुछ रख कर भूल जाती हैं! तो पता करें कहीं आप में विटामिन बी 12 की कमी तो नहीं

Updated on: 10 December 2020, 12:47pm IST
आपके दिमाग के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है विटामिन बी-12। इसकी कमी से बहुत सारी समस्याएं पैदा हो सकती हैं, इसलिए आपको पूरी जानकारी दे रहे हैं हम।
विदुषी शुक्‍ला
  • 83 Likes
क्यों होती है विटामिन बी-12 की कमी। चित्र- शटरस्टॉक।

विटामिन बी-12 जिसे कोबालमिन भी कहते हैं, हमारे मस्तिष्क के लिए सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्वों में से एक है। चिंताजनक बात यह है कि इसकी कमी से होने वाले नुकसान अपरिवर्तनीय हैं। ऐसे में यह जानना जरूरी है कि विटामिन बी-12 की कमी के लक्षण क्या हैं। हम आपको बताएंगे विटामिन बी-12 क्यों जरूरी है, इसके प्रमुख स्रोत क्या हैं और इसकी कमी होने पर क्या गंभीर समस्या हो सकती हैं।

क्यों इतना महत्वपूर्ण है विटामिन बी-12

विटामिन बी-12, सभी विटामिन बी कंपाउंड की तरह वाटर सॉल्युबल होता है, यानी यह हमारे खून में मौजूद होता है और किडनी के माध्यम से शरीर से बाहर भी निकल सकता है। मानव शरीर में विटामिन बी-12 चार साल तक स्टोर रह सकता है।

विटामिन की कमी होने पर क्या करें. चित्र : शटरस्‍टॉक

यह विटामिन हमारे दिमाग और नर्वस सिस्टम के लिये बहुत ज्यादा जरूरी है। यही नहीं खून में मौजूद रेड ब्लड सेल्स बनाने के लिए भी विटामिन बी-12 आवश्यक होता है। डीएनए में भी विटामिन बी-12 बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह शरीर में फॉलिक एसिड अब्सॉर्ब करने का काम करता है जिससे एनर्जी बनती है।

हमारे शरीर को हर मिनट लाखों रेड ब्लड सेल्स की जरूरत पड़ती है, और विटामिन बी-12 की कमी में यह बन नहीं पातीं। अब आप समझ चुके होंगे कि यह विटामिन इतना महत्वपूर्ण क्यों है।

क्या होते हैं विटामिन बी-12 की कमी के लक्षण

विटामिन बी-12 का सामान्य से थोड़ा भी कम स्तर गंभीर लक्षण पैदा कर सकता है। लेकिन यह लक्षण इतने आम हैं कि हम ध्यान नहीं दे पाते, जिसके कारण स्थिति हाथ से निकल जाती है।

आपके दिमाग के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है विटामिन बी-12।चित्र- शटरस्टॉक।

पहचानें विटामिन बी-12 की कमी के संकेत

· याद रखने में समस्या और हमेशा कंफ्यूज रहना
· थकान
· कब्ज और वजन घटना
· भूख ना लगना
· डिप्रेशन
· हाथों-पैरों का सुन्न हो जाना
· संतुलन बनाने में कठिनाई
· एकदम से कांपना और फिर अपने आप बन्द हो जाना

विटामिन बी-12 की कमी से परमानेंट ब्रेन डैमेज हो सकता है। यही नहीं इस महत्वपूर्ण विटामिन की कमी से सायकोसिस, डिमेंशिया और मेनिया जैसे मानसिक रोग हो सकते हैं।
इसके अतिरिक्त इसकी कमी से रेड ब्लड सेल्स बनने बन्द हो जाते हैं, जिससे एनीमिया और हृदय की समस्या भी हो सकती हैं।

इन फूड्स को अपने भोजन में जरूर शामिल करें-

विटामिन बी-12 के स्रोत का आपके आहार में होना बहुत जरूरी है।

1. यह अधिकतर मांसाहार में ही पाया जाता है। चिकन, बीफ, पोर्क इत्यादि सभी प्रकार की मीट में विटामिन बी-12 होता है।

2. हाडॉक और टूना मछली में विटामिन बी-12 भरपूर मात्रा में होता है।

3. शाकाहारी भोजन में दूध, दही और चीज़ में भी यह विटामिन मौजूद होता है।

दूध, दही और चीज में भी यह विटामिन मौजूद होता है। चित्र: शटरस्टॉक

4. अंडों में भी पर्याप्त मात्रा में विटामिन बी-12 पाया जाता है।

इसके अतिरिक्त विटामिन बी-12 के सप्लीमेंट्स मेडिकल स्टोर और ऑनलाइन उपलब्ध हैं, लेकिन इन्हें लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें। अब जब आप जानते हैं विटामिन बी-12 आपके लिए कितना महत्वपूर्ण है, इसके स्रोत अपने आहार में शामिल करें। आप संतुलित आहार लें यह बहुत जरूरी है।

बाजार में फोर्टिफाइड प्रोडक्ट भी मौजूद हैं, जिनमें अलग से विटामिन बी-12 मिलाया जाता है, तो आप इन प्रोडक्टस को भी चुन सकते हैं। अगर आपको कोई भी लक्षण नजर आता है तो अपने डॉक्टर से सम्पर्क करें।

विदुषी शुक्‍ला विदुषी शुक्‍ला

पहला प्‍यार प्रकृति और दूसरा मिठास। संबंधों में मिठास हो तो वे और सुंदर होते हैं। डायबिटीज और तनाव दोनों पास नहीं आते।