ड्राई फ्रूट्स को खाने से पहले भिगोना चाहिए या नहीं? जानिए क्या है इनके सेवन का सबसे अच्छा तरीका

पोषण विशेषज्ञ मानते हैं कि सूखे मेवों और नट्स को भिगोना उनके स्वाद में वृद्धि कर देता है। पर क्या ये सेहत के लिए भी फायदेमंद हैं?
क्या नट्स को खाने से पहले भिगोना है या बस उन्हें ऐसे ही खा लेना है। चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 7 December 2021, 14:57 pm IST
ऐप खोलें

जब हम हेल्दी नाश्ते के बारे में सोचते हैं, तो ड्राई फ्रूट और नट्स से बेहतर विकल्प कोई समझ नहीं आता। हम उनका सेवन करते हैं, क्योंकि वे हमें स्वस्थ वसा और प्रोटीन देते हैं। लेकिन एक सवाल जिसे ज्यादातर लोग पूछते हैं, कि स्वस्थ आहार में ड्राई फ्रूट्स का सेवन कैसे किया जाना चाहिए? क्या नट्स को खाने से पहले भिगोना है या बस उन्हें ऐसे ही खा लेना है। कई लोगों का मानना है कि भीगे हुए ड्राई फ्रूट्स काफी फायदेमंद होते हैं ।

तो क्या वास्तव में नट्स को भिगोना आवश्यक है?  हेल्थ वॉच न्यूट्रिशन क्लिनिक की संस्थापक न्यूट्रिशनिस्ट जुबेदा तुम्बी कहती हैं, “हां, बिल्कुल!

न्यूट्रीशनिस्ट जुबेदा तुम्बी बताती हैं, “ड्राई फ्रूट्स को भिगोने से अंकुरण में मदद मिलेगी, उनकी पोषण सामग्री में वृद्धि होगी। नट्स के छिलकों में फाइटेट और ऑक्सालेट होते हैं। जो पोषक तत्वों को अवॉइड करता है, इन तत्वों में एक बड़ा नाम विटामिन बी है। भिगोने से इन फाइटेट्स के प्रभाव को कम करने में मदद मिलती है और नट्स को पचाने में आसानी होती है। 

नट्स को भिगोने से उनमें मौजूद प्रोटीन आंशिक रूप से पच जाता है। इसलिए सेवन करने से पहले नट्स को भिगोना अच्छा है।”

जबकि किशमिश और प्रून जैसे सूखे मेवों को अच्छी तरह से धोकर साफ पानी में भिगोना चाहिए। ताकि उन्हें संरक्षित करने के लिए इस्तेमाल किए गए सल्फाइट उनकी सतह से हट जाएं।

कच्चे मेवों में फाइटिक एसिड होता है, जो अनाज और फलियों में भी पाया जाता है। जिस तरह हम अनाज और फलियां भिगोते हैं, ठीक उसी तरह पाचन के लिए इन्हें भी भिगोना जरूरी है।

जब आप बिना भिगोए नट्स का सेवन करती हैं, तो आपको इन परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है 

इनमें मौजूद फाइटिक एसिड आपके जठरांत्र संबंधी मार्ग में खनिजों को बांधता है।

 यह आंतों में पोषक तत्वों के अवशोषण को रोकता है।

 प्रक्रिया के दौरान बंधे हुए खनिजों से शरीर में खनिजों की कमी हो सकती है।

 नट्स में मौजूद एंजाइम इन्हिबिटर भी इन्हें पचाना थोड़ा मुश्किल बना सकते हैं।

ये कुछ कारण हैं जिनकी वजह से बिन भिगोए मेवे पचने में मुश्किल हो जाते हैं। नट्स को भिगोने से उचित पाचन की अनुमति देने वाले एंजाइम अवरोधक निष्क्रिय हो जाते हैं। इस प्रकार, सूखे मेवों से संपूर्ण पोषण लाभ प्राप्त करना आसान हो जाता है। सूखे मेवों को भिगोने से उनका स्वाद भी बढ़ सकता है और उनका पोषण मूल्य भी बढ़ सकता है।  

नट्स को अपनी डाइट का हिस्सा बनायें। चित्र- शटरस्टॉक

ड्राई फ्रूट्स को भिगोने का सही तरीका यहां दिया गया है।

 एक ढक्कन वाला कांच का कंटेनर लें और उसमें पानी भर दें।

 इसमें अपनी पसंद के नट्स या सूखे मेवे मिलाएं।

 इसे 20 मिनट से 2 या 3 घंटे के लिए कहीं भी ढककर रख दें।

खाने से पहले नट्स को साफ पानी से धो लें। अगर आप भीगे हुए मेवों को हर समय संभाल कर रखना चाहते हैं, तो याद रखें कि खराब होने से बचाने के लिए हर दिन गंदा पानी बदलें। 

यह भी पढ़े : आपकी वेट लॉस यात्रा को थोड़ा और आसान बना सकती है मटर, हम बता रहे हैं कैसे

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
Next Story