मानसून लंच के लिए परफेक्ट रेसिपी है बाजरा-पालक की खिचड़ी, यहां जानिए बनाने का तरीका और स्वास्थ्य लाभ

खिचड़ी सेहत के लिए काफी स्वस्थ और हल्का खाना है। मानसून में जब आपकी इम्युनिटी कमजोर होने लगती है, तब ये खास खिचड़ी रेसिपी आपके पूरे परिवार के पोषण के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है।
bajre or palak ki khichdi
पालक और बाजरे की खिचड़ी अपने आप में एक पौष्टिक और संतुलित भोजन है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 6 Jul 2023, 09:30 am IST
  • 145

खिचड़ी को पूरी दुनिया के आहार एवं पोषण विशेषज्ञ बेहतरीन आहार बताते हैं। बच्चे से लेकर बुजुर्गों तक के स्वास्थ्य के लिए यह फायदेमंद है। खिचड़ी को एक बहुत ही पौष्टिक आहार माना जाता है। आमतौर पर हम सभी के घर दाल और चावल को मिक्स करके खिचड़ी बनाई जाती है, लेकिन आज हमारे पास एक ऐसी स्वादिष्ट रेसिपी है, जो न केवल पौष्टिक है, बल्कि टेस्टी भी है। इस खिचड़ी को आप भारत के पारंपरिक तरीके से खा सकते है। जिसमें घी, आचार, पापड़ को शामिल किया जा सकता है। तो चलिए तैयार करते हैं बाजरा-पालक खिचड़ी रेसिपी (palak bajra khichdi recipe)।

मानसून के लिए परफेक्ट डाइट है खिचड़ी

वैसे मानसून दस्तक दे चुका है और कई बार बारिश में भीगने के कारण सर्दी-खांसी जुकाम हो जाता है इसलिए इस मौसम में गर्मा गर्म खिचड़ी का आनंद लेना काफी अच्छा हो सकता है। खिचड़ी पोषक आहार और मानसून के मौसम में ये और भी ज्यादा फायदेमंद हो सकता है।

यह पालक और बाजरे की खिचड़ी अपने आप में एक पौष्टिक और संतुलित भोजन है। यह पालक और बाजरा की वजह से फाइबर, प्रोटीन, विटामिन और खनिजों से भरपूर है, जो इसे स्वस्थ आहार के लिए एक पौष्टिक विकल्प बनाता है।

anti diabetic khichdi ki recipe
कई लोगों के लिए सुपरफूड हैं ये खिचड़ी रेसिपीज। चित्र : एडॉबीस्टॉक

यहां हैं मानसून में खिचड़ी खाने के फायदे

1 पोषण संतुलन

खिचड़ी एक पौष्टिक भोजन है जिसमें अनाज , दाल और मसालों का मिश्रण होता है। यह प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, विटामिन और खनिज जैसे आवश्यक पोषक तत्वों का अच्छा संतुलन प्रदान करता है। अनाज और दाल का संयोजन प्रोटीन का एक संपूर्ण स्रोत प्रदान करता है, जो इसे एक पौष्टिक विकल्प बनाता है।

2 हाइड्रेशन

मानसून का मौसम अक्सर उच्च नमी वाला और कभी-कभी पाचन समस्याओं का कारण बनता है। खिचड़ी आमतौर पर पर्याप्त मात्रा में पानी के साथ तैयार की जाती है, जो शरीर को हाइड्रेटेड रखने में मदद करती है।

3 रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है

खिचड़ी में इस्तेमाल होने वाले मसाले जैसे हल्दी, जीरा और अदरक में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले गुण होते हैं। हल्दी में करक्यूमिन होता है, जिसमें एंटीऑक्सीडेंट और सूजन-रोधी गुण होते हैं। जीरा और अदरक अपने पाचन गुणों के लिए जाने जाते हैं और मानसून के दौरान होने वाली पाचन संबंधी परेशानी को कम करने में मदद कर सकते हैं।

कैसे बनाएं बाजरे और पालक की खिचड़ी (palak bajra khichdi)

बाजरे पालक की खिचड़ी बनाने के लिए आपको चाहिए

बाजरा 1 कप
पीली मूंग दाल 1/2 कप
पालक के पत्ते, बारीक कटे हुए 2 कप
1 छोटा प्याज, बारीक कटा हुआ
लहसुन की 2-3 कलियाँ, बारीक काट लें
अदरक का टुकड़ा, कद्दूकस किया हुआ 1 इंच
जीरा 1 चम्मच
हल्दी पाउडर 1 चम्मच
घी या तेल 1 चम्मच
नमक स्वाद अनुसार
आवश्यकतानुसार पानी

agar aap teekha khana pasand karti hain toh ise apne hisab se tadka den
मिलेट या बाजरा कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। चित्र- अडोबी स्टॉक

अब जानते हैं कैसे बनानी है खिचड़ी (How to make palak bajra khichdi)

बाजरे और मूंग की दाल को पानी से अच्छी तरह धो लें। इन्हें करीब 30 मिनट तक पानी में भिगोकर रखें और फिर छान लें

प्रेशर कुकर या गहरे बर्तन में घी या तेल गर्म करें, जीरा डालें और तड़कने दें

कटा हुआ प्याज, पीस हुआ लहसुन और कसा हुआ अदरक डालें। प्याज हल्का होने तक भूनें

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

भीगा हुआ बाजरा, मूंग, हल्दी पाउडर और नमक डालें, अच्छी तरह से मलाएं

इसमें कटे हुए पालक के पत्ते डालें और अच्छी तरह मिलाएं

सभी सामग्री डालने के बाद अंत में पानी डालें

अगर प्रेशर कुकर का उपयोग कर रहे हैं, तो ढक्कन बंद करें और 3-4 सीटी आने तक पकाएं। यदि बर्तन का उपयोग कर रहे हैं, तो ढक्कन से ढक दें और मध्यम आंच पर तब तक पकाएं जब तक कि बाजरा और दाल नरम न हो जाएं, बीच-बीच में हिलाते रहें और यदि आवश्यक हो तो अधिक पानी डालें

एक बार पकने के बाद, प्रेशर कुकर से प्रेशक को स्वाभाविक रूप से निकलने दें या बर्तन में कुछ और मिनटों के लिए खिचड़ी को उबलने दें

गरमा गरम पालक और बाजरे की खिचड़ी को अपनी पसंद के दही, अचार या रायते के साथ परोसें

ये भी पढ़े- कुछ लोग सावन में छोड़ देते हैं प्याज-लहसुन खाना, न्यूट्रीशनिस्ट से जानते हैं इसका हेल्थ कनेक्शन

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख