वैलनेस
स्टोर

शरद पूर्णिमा की ये हेल्दी खीर रेसिपी आपको देगी सेहत की सम्पदा

Updated on: 10 December 2020, 12:38pm IST
शरद पूर्णिमा की रात खीर बनाकर चांदनी में रखने का रिवाज है। आइये इस बार खीर को एक हेल्दी ट्विस्ट दें।
विदुषी शुक्‍ला
  • 81 Likes
चांदी के बर्तन आपके बेबी की सेहत के लिए फायदेमंद है। चित्र- शटरस्टॉक।

शरद पूर्णिमा में खीर खाने का पारम्परिक महत्व है। माना जाता है कि इस रात चंद्रमा की रोशनी में खीर रखने से खीर में औषधीय गुण आ जाते हैं। मान्यता ऐसी भी है कि आज के ही दिन समुद्र मंथन में देवी लक्ष्मी प्रकट हुई थीं। इसलिए, कई संस्कृतियों में शरद पूर्णिमा पर लक्ष्मी पूजन भी होता है।

लेकिन आप सोच रही होंगी कि चांद से खीर का क्या लेना-देना? दरअसल, हमारे लगभग सभी उत्‍सवों के पीछे विज्ञान है और इस परंपरा के साथ भी ऐसा ही है।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

शरद पूर्णिमा में खीर खाने का वैज्ञानिक महत्व।
शरद पूर्णिमा में खीर खाने का वैज्ञानिक महत्व। चित्र- शटरस्टॉक।

वेदिक एस्ट्रोलॉजी के अनुसार शरद पूर्णिमा की तिथि को चांद धरती के सबसे करीब होता है। इस रात चांद से पॉजिटिव एनर्जी सबसे ज्यादा निकलती है।

यह एनर्जी दूध में लैक्टिक एसिड के सिंथेसिस को बढ़ा देती है। यही कारण है कि चांदनी में रखी हुई खीर अधिक पौष्टिक बन जाती है।

अब जब आप इस खीर का महत्व जान चुकी हैं, हम बताते हैं इसकी पौष्टिक रेसिपी

आपको क्या क्या चाहिए

चूंकि हम इस खीर को सेहतमंद बना रहे हैं इसलिए हम चीनी का प्रयोग नहीं करेंगे। उसकी जगह हम छुआरा और खजूर इस्तेमाल करेंगे।

आप ब्राउन शुगर या गुड़ का भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

·दो कप दूध
· एक कप चावल
· 15 से 20 खजूर या छुआरे
·एक मुट्ठी बादाम
·एक मुट्ठी मखाना
·थोड़ी सी किशमिश, चिरौंजी और काजू
·आधा चम्मच इलायची पाउडर

शरद पूर्णिमा की ये हेल्दी खीर रेसिपी
शरद पूर्णिमा की हेल्दी खीर रेसिपी। चित्र: शटरस्‍टॉक

इस तरह बनाएं खीर

1. खजूर को गुनगुने पानी में एक से दो घण्टे के लिए भिगो दें।

2. चावल को अच्छी तरह धो कर पानी में भिगाेकर छोड़ दें। इसे बस 5 से 10 मिनट छोड़ना है जितनी देर में आप बाकी तैयारियां करेंगी।

3. खजूर को पानी से निकालकर छोटा छोटा काट लें। बादाम, मखाने और अन्य मेवों को भी काट लें।

4. एक भारी तले की कढ़ाई या भगौने में दूध चढ़ा दें। दूध को उबलने दें और बीच-बीच मे चलाती रहें ताकि दूध तली में चिपके ना।

5. अब इसमें चावल डालें और दूध को चलाती रहें। जब चावल थोड़ा गलने लगे तो दूध में खजूर मिला दें।  अगर आप गुड़ या चीनी इस्तेमाल कर रही हैं तो उसे भी चावल गलने के बाद ही मिलाएं।

6. धीमी आंच पर इसे 8 से 10 मिनट तक पकने दें। इलाइची पाउडर मिला दें। दूध गाढ़ा हो जाए और आपको मनचाही कंसिस्टेंसी मिल जाये तो आंच तेज करके सभी मेवे मिला दें।

7. अब एक से दो मिनट तक खीर को तेज आंच पर लगातार चलाते हुए पकाएं और गैस बंद कर दें।

8. हल्का ठंडा होने के बाद इस खीर को एक बाउल में डालें। ऊपर से जाली या छलनी ढक दें और बालकनी/ छत पर रख दें।

सुबह उठकर इस खीर को प्रसाद रूप में ग्रहण करें।
ऊपर से जाली वाला ढक्कन रखें ताकि रात में कोई कीड़ा खीर में ना गिर जाए।

सामान्य ढक्कन ना इस्तेमाल करें क्योंकि वह चांद की किरणों को पड़ने से रोकेगा।

विदुषी शुक्‍ला विदुषी शुक्‍ला

पहला प्‍यार प्रकृति और दूसरा मिठास। संबंधों में मिठास हो तो वे और सुंदर होते हैं। डायबिटीज और तनाव दोनों पास नहीं आते।