कब्ज और बवासीर से परेशान हैं, तो इन 6 फूड्स से करें परहेज

अगर आप लंबे समय से बवासीर से जूझ रहीं हैं, तो आपको आहार में कुछ चीजों को शामिल करने से बचना चाहिए।

Foods to avoid piles
इसके आम लक्षण खुजली, दर्द, बेचैनी, आंतों के कार्य में विकार और रक्तस्राव हैं। चित्र शटरस्टॉक।
अंजलि कुमारी Published on: 21 September 2022, 21:08 pm IST
  • 147

लंबे समय से चली आ रही कब्ज बवासीर का कारण बन सकती है। इस समस्या में प्रेशर के कारण एनस के ब्लड वेसल स्ट्रेच कर जाते हैं, जिस वजह से स्वेलिंग और बल्ज की समस्या हो जाती है। वहीं एनस से ब्लीडिंग होना, दर्द, खुजली इत्यादि जैसी अन्य समस्याएं भी आपको परेशानी में डाल सकती हैं। जबकि कुछ फूड भी ऐसे हैं, जो इस समस्या को और ज्यादा ट्रिगर (Foods to avoid in piles) कर सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि आप इन्हें आहार में शामिल करने से बचें।

इस समस्या को नियंत्रित करना बहुत जरूरी है। यह एक ऐसी समस्या जिसके दर्द को हम रोक नहीं सकते। क्योंकि एनस हमारे नियमित दिनचर्या का एक अहम हिस्सा होता है। परंतु यदि आप चाहें तो इसमे नजर आने वाले लक्षण और दर्द को नियंत्रित कर सकती हैं। इसके लिए आपको अपनी नियमित दिनचर्या से कुछ खाद्य पदार्थों को कुछ दिनों के लिए अलविदा कहना होगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि कब्ज और खराब डाइजेशन इस समस्या में होने वाली परेशानियों को काफी बढ़ा देते हैं।

इन सभी बातों पर गौर करते हुए सबसे महत्वपूर्ण है अपनी डाइट को संतुलित रखना। तो चलिए जानते हैं कौन से ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिन्हें पाइल्स की समस्या होने पर नजरअंदाज करना बहुत जरूरी है।

piles
बबसीर में खानपान को लेकर सचेत रहें। चित्र:शटरस्टॉक

यहां जाने बवासीर में किन खाद्य पदार्थों से बनानी है दूरी

1. प्रोसेस्ड फूड्स

नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ डायबिटीज एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिजीज द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार बवासीर की समस्या में प्रोसैस्ड फूड जैसे कि फ्राइड फूड आइटम फास्ट फूड फ्रोजन मील और ऐसे खाद्य पदार्थ जीने पर जाने में परेशानी हो इन सभी से पूरी तरह परहेज रखने की आवश्यकता है।

इन सभी खाद्य पदार्थों में पोषक तत्वों की कमी होती है। इसके साथ ही अधिक मात्रा में नमक और अनहेल्दी फैट पाए जाते हैं, जिस वजह से इसे डाइजेस करना मुश्किल हो जाता है और कॉन्स्टिपेशन जैसी समस्या सामने आ सकती हैं।

2. मसालेदार भोजन

रिसर्च के अनुसार यदि आपको मसालेदार भोजन से प्यार है और आप पाइल्स की समस्या से पीड़ित हैं, तो ऐसे खाद्य पदार्थों को खाने से पहले 10 बार जरूर सोचें। क्योंकि इन्हें खाने के बाद जिस दर्दनाक स्थिति का सामना करना पड़ सकता है, वह टेस्ट बड्स की क्रेविंग्स को शांत रखने की तुलना में आपको कहीं ज्यादा परेशानी में डाल देगा। पिज़्ज़ा बर्गर और अन्य मसालेदार जंक फूड आपकी पाइल्स के लक्षण को और ज्यादा गंभीर कर सकते हैं।

Foods to avoid in piles
बबासीर में इन खाद्य पदार्थों से रखें परहेज। चित्र शटरस्टॉक।

3. डेयरी प्रोडक्ट्स

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ डायबिटीज एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिजीज द्वारा इस विषय पर प्रकाशित एक डेटा के अनुसार यदि आप बवासीर की समस्या से पीड़ित हैं, तो डेयरी प्रोडक्ट से जितना हो सके उतना परहेज रखें।

दूध से युक्त खाद्य पदार्थ जैसे की चीज का अधिक सेवन गैस की समस्या, पेट दर्द और कॉन्स्टिपेशन का कारण बन सकता है। जो पाइल्स में होने वाली परेशानियों को बढ़ा देती हैं। ऐसे में एक सीमित मात्रा में ही डेयरी प्रोडक्ट का सेवन करना आपके लिए उचित रहेगा।

4. आयरन युक्त खाद्य पदार्थ और दवाइयों से परहेज रखें

बवासीर से ग्रसित हैं तो आयरन सप्लीमेंट और अन्य दवाइयों के सेवन से जितना हो सके उतना दूरी बनाए रखने की कोशिश करें। क्योंकि आयरन सप्लीमेंट आपको कॉन्स्टिपेशन का शिकार बना सकती हैं।

वहीं सामान्य दवाइयों का सेवन आपको कब्ज से ग्रसित कर देगा। यदि आप बवासीर से ग्रसित हैं और आपको कब्ज की समस्या है, तो आप एक असहनीय दर्द का अनुभव करेंगी। वहीं यदि आप अन्य दवाइयों का सेवन करती हैं तो, ऐसे में कुछ खाद्य पदार्थों से दूरी बनाए रखें साथ ही डॉक्टर से मिलकर उचित सलाह लेना भी जरूरी है।

piles me alcohol se rhe dur
पाइल्स में एल्कोहल से रहें दूर. चित्र:शटरस्टॉक

5. अल्कोहल

अल्कोहल का सेवन शरीर में आवश्यक पोषक तत्वो की कमी का कारण बन सकता है। जिस वजह से डाइजेस्टिव बैलेंस खराब हो जाता है और यह आपके पाचन संबंधी समस्याओं का कारण बन सकता है। वहीं पाइल्स की समस्या में पाचन क्रिया का संतुलित रहना बहुत जरूरी है। इसके साथ ही शराब पीने से शरीर हाइड्रेटेड हो जाता है और यह आपकी आंतो पर भी प्रभाव डाल सकता है।

6. रेड मीट

बवासीर की समस्या में रेड मीट से परहेज रखना जरूरी है। रेड मीट को पचने में एक लंबा समय लगता है, जिस वजह से यह कब्ज जैसी समस्याओं का कारण बन सकती है। कब्ज बवासीर में होने वाली समस्याओं को ट्रिगर करता है। इसलिए इस दौरान जितना हो सके उतना गट फ्रेंडली फूड्स का सेवन करें।

यह भी पढ़ें : डिमेंशिया और पर्किंसंस जैसी मस्तिष्क संबंधी बीमारियों का जोखिम कम कर सकती है कॉफी

  • 147
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory