और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

हींग की तीखी गंध पसंद नहीं? तो जानिए इसके 5 स्वास्थ्य लाभों के बारे में, जो भुला देंगे इसकी गंध

Published on:18 March 2021, 15:04pm IST
हींग एक जादुई मसाला है जो कई तरह के लाभ प्रदान करती है। पाचन से लेकर श्वसन तक, आइए जानें हींग के स्वास्थ्य लाभ।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 80 Likes
इस अद्भुत मसाले के स्वास्थ्य लाभों का आनंद लेने के लिए तैयार हो जाएं। चित्र-शटरस्टॉक।

इसमें कोई आश्चर्य वाली बात नहीं है कि हींग की अप्रिय गंध कई लोगों को परेशान कर सकती है। हालांकि, इस मसाले को भारतीय व्यंजनों में स्वाद बढ़ाने के रूप में नहीं जाना जाता, बल्कि इसका व्यापक रूप से उपयोग इसलिए किया जाता है क्योंकि यह असंख्य स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है।

हींग का उपयोग पाचन संबंधी बीमारियों जैसे गैस, पेट फूलना, ब्लोटिंग और पेट खराब होने पर एक पारंपरिक उपाय के रूप में किया जाता है। मध्य एशिया के मुगल पहली बार 16 वीं शताब्दी में भारत में हींग लेकर आए। हींग फेरूला असा फेटिडा (Ferula Assa Foetida) पौधे की जड़ों से प्राप्त एक राल है और इसमें सल्फर यौगिकों की उपस्थिति के कारण एक विशिष्ट तीखी गंध और एक कड़वा स्वाद होता है।

न केवल पारंपरिक बल्कि पश्चिमी चिकित्सा में भी, हींग के स्वास्थ्य लाभों के बारे में अक्सर बात की गई है। वाष्पशील तेल (volatile oil) हींग का मुख्य सक्रिय घटक है, जो इसके चिकित्सीय महत्व के लिए जिम्मेदार है। 

इसका मुख्य फाइटोकेमिकल फेरुलिक एसिड है जिसमें कैंसर विरोधी, सूजन-रोधी, एंटी-वायरल, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी स्पास्मोडिक, हेपेटोप्रोटेक्टिव और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। हींग कार्ब्स, फाइबर, पोटेशियम, कैल्शियम और आयरन जैसे पोषक तत्वों से भी भरपूर होती है, जो मिलकर हींग के औषधीय गुणों को बढ़ाते हैं।

यहां जानिए हींग के विभिन्न स्वास्थ्य लाभ:

  1. भूख में कमी और अपच की समस्या

डाइट्री फाइबर से भरपूर होने के कारण हींग एक पाचन उत्तेजक की तरह काम करती है और मल त्याग को विनियमित करने में मदद करती है। यह पेट में एसिड के उत्पादन को बढ़ाती है और अधिक पित्त लवण को स्रावित करने के लिए यकृत के कार्यों में सुधार करती है। 

यह कार्ब्स, प्रोटीन और वसा के बेहतर पाचन में मदद करती है, जो बदले में भूख और अपच में सुधार करने में मदद करता है। इसके अलावा, अपने कार्मिनेटिव, एंटी-फ्लैटुलेंस और एंटीस्पास्मोडिक गुणों के कारण, हींग गैस, पेट फूलना, सूजन और पेट में गड़बड़ी जैसे अपच की समस्याओं को कम करने में मदद करती है।

हींग आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है। चित्र-शटरस्टॉक।
  1. श्वसन संबंधी विकार

हींग एक प्राकृतिक एक्सपेक्टोरेंट (expectorant) है जो अतिरिक्त बलगम को हटाने में मदद करता है, और खांसी से राहत दिलाने में मदद करता है। हींग में फाइटोकेमिकल यौगिक ब्रोन्कियल नलियों के अंदरूनी अस्तर की सूजन को कम करते हैं, जो श्वसन संबंधी स्थितियों जैसे ब्रोंकाइटिस और अस्थमा के उपचार के लिए सुविधा प्रदान करता है।

यह भी पढें: आपकी गट हेल्‍थ के लिए जरूरी हैं खमीरीकृत खाद्य पदार्थ, हम बता रहे हैं इसके 5 कारण

  1. सिरदर्द

हींग के मजबूत एंटीऑक्सीडेंट और विरोधी भड़काऊ गुण सिर में धड़कते रक्त वाहिकाओं को आराम देने में मदद करते हैं। इसके अलावा, हींग एक अवसादरोधी के रूप में काम करता है और तनाव से संबंधित सिरदर्द और पुरानी माइग्रेन की समस्या से राहत प्रदान करता है।

  1. कोलेस्ट्रॉल और एथेरोस्क्लेरोसिस

हींग शरीर के चयापचय में सुधार करके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करती है। यह रक्त वाहिकाओं की सूजन को कम करने में मदद करती है, जो एथेरोसिलेरोसिस के विकास और रक्त वाहिकाओं में कोलेस्ट्रॉल पट्टिका के जमाव का प्राथमिक कारण है।

  1. हाई ब्लड प्रेशर

हींग पोटेशियम का एक अच्छा स्रोत है, जो सोडियम के प्रभावों को संतुलित करता है। इसलिए यह ब्लड प्रेशर को बनाए रखने में कारगर साबित होता है। इसके अलावा, हींग धमनियों और रक्त वाहिकाओं को आराम देने में मदद करती है, जिससे पूरे शरीर में रक्त का प्रवाह प्रभावी ढंग से होता है।

व्हीटग्रास ब्लड प्रेशर को कम करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
हींग ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद करती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

प्रभावी रक्त प्रवाह धमनियों की भीतरी दीवारों के खिलाफ रक्त के दबाव को कम करता है और धमनियों और रक्त वाहिकाओं को चोट से बचाता है। हींग में मौजूद कंपाउंड कोमोरिन रक्त की धमनियों के भीतर थक्के जमने से रोकता है जिससे उच्च रक्तचाप कम होता है। इसलिए, यह मसाला समग्र हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

अब जानिए कैसे करना है हींग का उपयोग 

हींग के स्वास्थ्य लाभ आश्चर्यजनक हो सकते हैं, लेकिन ध्यान रखें कि कम मात्रा में (5 मिलीग्राम / दिन), हींग का उपयोग करना सुरक्षित है। हालांकि, बड़ी मात्रा में यह न केवल भोजन का स्वाद कड़वा बनाती है, बल्कि अम्लता का कारण भी बन सकती है। सिरदर्द, बर्पिंग या दुर्लभ मामलों में दस्त भी हो सकते हैं। 

इसके अतिरिक्त, इसकी गर्म क्षमता के कारण, गर्भावस्था, स्तनपान और जब रक्तस्राव विकारों, जठरांत्र संबंधी संक्रमण या अल्सर से पीड़ित होने पर, हींग के सेवन से बचा जाना चाहिए।

तो, हींग से सर्वश्रेष्ठ लाभ प्राप्त करने के लिए, इसे पकाते समय तेल या घी में किसी अन्य घटक को जोड़ने से पहले इसे गर्म करना याद रखें।

यह भी पढें: एजिंग को धीमा करने का अल्‍टीमेट उपाय है हड्डियों का शोरबा, जानिए यह कैसे असर करता है

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।