वैलनेस
स्टोर

कौन सा शहद है सबसे अच्छा और कब हो जाता है शहद खराब, जानिए शहद से जुड़े ऐसे ही 5 तथ्य

Published on:14 September 2021, 18:30pm IST
क्या आप भी शहद से जुड़ी भ्रांतियों के चक्र में फंस गए हैं? अगर समझ नहीं आ रहा है, तो हम समझाते हैं कैसे।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 102 Likes
shahd ke myth
आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है शहद। चित्र: शटरस्टॉक

आप जानती होंगी कि चीनी के लिए शहद सबसे अच्छा विकल्प है। यह एक मीठा, चिपचिपा और खाने योग्य पदार्थ है जो मधुमक्खियों द्वारा फूलों के अर्क से बनाया जाता है। यह सुनहरा अमृत जीवाणुरोधी, एंटिफंगल और साथ ही एंटीऑक्सीडेंट सहित कई स्वास्थ्य लाभों के लिए जाना जाता है।

अमेरिका स्थित नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन की एक शोध रिपोर्ट के अनुसार, शहद में प्रोटीन, अमीनो एसिड, विटामिन, एंजाइम, खनिज और रोगाणुरोधी गुण होते हैं। स्पष्ट रूप से, यह स्वस्थ रहने के लिए आवश्यक सभी सामग्रियों का एक पावरहाउस है! इसलिए हमारे घरों में शहद का खूब इस्तेमाल होता है। विभिन्न स्वास्थ्य लाभों से लेकर हमारी त्वचा और बालों पर इसके सकारात्मक प्रभाव तक, शहद वास्तव में शक्तिशाली सामग्री है।

हालांकि शहद सेहत के लिए फायदेमंद होता है, वहीं कुछ ऐसे मिथ भी हैं जिनसे हमें सावधान रहने की जरूरत है!

यहां शहद से जुड़े 5 मिथ हैं जिनसे आपको सावधान रहने की आवश्यकता है:

मिथ 1: अगर यह क्रिस्टलाइस्ड है, तो यह खराब है

तथ्य: क्रिस्टलाइजेशन प्रकृति का शहद को संरक्षित करने का तरीका है। यदि आपका शहद क्रिस्टलाइस्ड हो गया है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि यह खराब हो गया है। यदि आप बोतल को गर्म पानी में खड़ा करके और धीरे से हिलाते हुए बोतल को गर्म करते हैं, तो यह अपने तरल रूप में वापस आ जाएगा। और क्रिस्टलाइजेशन के बाद भी शहद स्वाद और पोषक तत्वों में समान रहता है।

मिथ 2: शहद को गर्म नहीं करना चाहिए

तथ्य: यह सबसे बड़े मिथ में से एक है कि शहद को गर्म नहीं करना चाहिए क्योंकि यह विषाक्त पदार्थ छोड़ता है। गर्म होने पर, प्राकृतिक शहद जहर और विषाक्त पदार्थों का उत्सर्जन नहीं कर सकता क्योंकि वे शुरू में इसमें मौजूद नहीं होते हैं। लेकिन ध्यान रखें कि कुछ पोषक तत्व गरम करने पर खत्म हो जाते हैं, इसलिए सुनिश्चित करें कि यह बहुत गर्म न हो।

shahad ke myth
इन मिथ पर भूलकर भी भरोसा न करें। चित्र: शटरस्टॉक

मिथ 3: सभी प्रकार के शहद स्वाद में समान होते हैं

तथ्य: शहद कई रंगों और स्वादों में आता है। यह समझने के लिए कि ‘सभी प्रकार के शहद का स्वाद और एक जैसा दिखना’ एक मिथ है, हमें बताएं कि शहद कहां से आता है? जी हां, आपने सही अनुमान लगाया… फूलों से। शहद का रंग उस फूल पर निर्भर करता है जिससे मधुमक्खियां अमृत चूसती हैं, और स्वाद और गंध भी फूल पर निर्भर करता है।

लेकिन क्या सभी फूल एक जैसे होते हैं? बिल्कुल नहीं। तो शहद के स्रोत में परिवर्तन के रूप में शहद का स्वाद, रंग और गंध बदल जाता है।

मिथ 4: गाढ़ा शहद बेहतर गुणवत्ता का होता है

तथ्य: पतले और गाढ़े शहद के बीच मुख्य अंतर इसकी नमी और अन्य पोषक तत्वों की मात्रा पर निर्भर करता है। अब हम पहले से ही जानते हैं कि स्रोत में परिवर्तन शहद के रंग और स्वाद को कैसे प्रभावित कर सकता है। इसी तरह, यह शहद की चिपचिपाहट को प्रभावित करता है, जो मौसम, नमी, वर्षा, मिट्टी, परिदृश्य, फूल और मधुमक्खी जैसे विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है।

मिथ 5: शहद कभी खराब नहीं होता

तथ्य: यह शहद के बारे में सबसे लोकप्रिय मिथ है, जो तकनीकी रूप से सच है। हालांकि, अगर शहद को ठीक से स्टोर न किया जाए तो वह अपनी सुगंध और स्वाद खो सकता है। यह हमेशा के लिए रह सकता है, लेकिन इसका स्वाद अच्छा नहीं होगा या इसके स्वास्थ्य लाभ नहीं होंगे। इसलिए शहद का ताजा सेवन सबसे अच्छा होता है। उम्र के साथ शहद भी काला होता जाता है।

तो इन मिथ पर भरोसा करने की गलती न करें!

यह भी पढ़ें : वेट लॉस के लिए मम्मी का पसंदीदा नुस्खा है कड़ी पत्ता, जानिए इसके सेवन का सही तरीका

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।