फॉलो

हार्ट हेल्‍थ से लेकर वेट लॉस तक में मददगार है मूंगफली, हम बताते हैं इसके सेवन का असान तरीका 

Updated on: 23 September 2020, 15:29pm IST
हर रोज मूंगफली का सेवन आपको कई बीमारियों के जोखिम से बचा सकता है। आइए जानें मूंगफली के स्‍वास्‍थ्‍य लाभ और डाइट में इसे एड करने के आसान तरीके। 
प्रेरणा मिश्रा
  • 90 Likes
मूंगफली पोषक तत्वो से है भरपूर। चित्र: शटरस्टॉक

सेलिब्रिटी डायटीशियन और न्यूट्रीशनिस्‍ट रुजुता दिवेकर के लिए मूंगफली सुपरफूड है। वे इसे डेली डाइट में शामिल करने की सलाह देती हैं। पर ये सलाह यूं ही नहीं है। असल में मूंगफली जितनी आसानी से और कम कीमत पर उपलब्‍ध होती है, यह उतनी ही ज्‍यादा सेहत के लिए फायदेमंद है। 

खासतौर से महिलाओं के लिए तो मूंगफली और भी ज्‍यादा फायदेमंद है। यह उन्‍हें डायबिटीज के साथ-साथ पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज (पीसीओडी) जैसी दर्दनाक बीमारियों से भी बचाती है। 

पहले करते हैं मूंगफली में मौजूद पोषक तत्‍वों की बात 

सेलिब्रिटी डाइटीशियन रूजुता दिवेकर अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर मूंगफली के पोषक तत्वों के बारे में विस्‍तार से बताती हैं। वे जानकारी देती हैं कि मूंगफली कैलोरीज़ और प्रोटीन में रिच फूड है।इसमें पानी की मात्रा के साथ-साथ कार्ब्स, शुगर, फाइबर, फैट, ओमेगा3 और ओमेगा 6 जैसे जरूरी पोषक तत्‍व भी पाए जाते हैं।

मूंगफली को अपने आहार में कैसे शामिल किया जाए?

 मूंगफली का उपयोग कच्चा खाने के बजाए आप अन्य उत्पादों जैसे मूंगफली का तेल, आटा और प्रोटीन के साथ शामिल कर सकते हैं। इन सामानों का उपयोग विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों में किया जाता है, जैसे कि डेजर्ट, केक, कन्फेक्शनरी, स्नैक्स और सॉस। इसके अलावा मूंगफली को अपनी डाइट में शामिल करने के सबसे आसान उपाय हैं – 

1 आप मूंगफली, धनिया, हरी मिर्च और सेंधा नमक की चटनी बनाकर इसे अपनी डाइट में शामिल कर सकती हैं। 

2 आप चाहें तो अपनी पोस्‍ट वर्कआउट ड्रिंक में मूंगफली को भी ग्राइंड करके मिक्‍स कर सकती हैं।

वर्कआउट ड्रिंक मे कर सकती है पीनट को शामिल। चित्र: शटरस्टॉक
वर्कआउट ड्रिंक मे कर सकती है पीनट को शामिल। चित्र: शटरस्टॉक

वर्कआउट ड्रिंक मे कर सकती है पीनट को शामिल। चित्र: शटरस्टॉक 3 अगर आप हर दिन व्‍यस्‍तता में यह सब नहीं कर पा रहीं हैं, तो सबसे आसान तरीका है – मूंगफली को पीसकर एक शीशी में भरकर डायनिंग टेबल पर रख दें। आप अपने हर रोज के खाने में एक चम्‍मच यह पाउडर एड कर सकती हैं। 

एक दिन में कितना करना चाहिए मूंगफली का सेवन?

वैज्ञानिक के अनुसार मूंगफली का सेवन एक दिन में 42-43 ग्राम से अधिक नहीं करना चाहिए। वरना यह आपके स्वास्थ के लिए नुकसनदायक भी हो सकता है।

आइए अब जानते हैं मूंगफली के लाभ

1.दिल को रखती है स्वस्थ

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन ने दिल के लिए मूंगफली को फायदेमंद माना है। मूंगफली दिल की बीमारी को दूर रखने में मददगार होती है, क्योंकि इनमें आवश्यक फैटी एसिड होते हैं जो हार्ट हेल्‍थ को बेहतर रखने में मददगार होते हैं। 

2.वेट लॉस में मददगार 

मूंगफली में उच्च वसा और कैलोरी की अधिक मात्रा के बावजूद, मूंगफली वजन बढ़ाने में योगदान नहीं करती है। मूंगफली वास्तव में वजन घटाने को बढ़ावा देती है क्योंकि इसके सेवन से पेट देर तक भरा रहता है। इससे आप गैर जरूरी क्रेविंग से बच जाती हैं।

पानी की कमी आपमें क्रेविंग बढ़ा देती है मूँगफली इसी क्रेविंग को कम करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
पानी की कमी आपमें क्रेविंग बढ़ा देती है मूँगफली इसी क्रेविंग को कम करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

मूंगफली में उच्च स्तर के प्रोटीन और मोनोअनसैचुरेटेड फैट ऊर्जा के खर्च को बढ़ाने में मदद करते हैं। इसके अलावा, मूंगफली में समृद्ध अघुलनशील आहारीय रेशे होते हैं जो वजन बढ़ाने के जोखिम को कम करते है।

3.टीनएजर्स को जरूर करना चाहिए मूंगफली का सेवन 

मूंगफली किशोरों के लिए भी स्वस्थ है। यह प्रोटीन से भरपूर हैं और सूक्ष्म पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। यह उनके ग्रोथ ईयर में जरूरी पोषण प्रदान करने में मददगार साबित होती है।

तनाव से रखता है मुक्त। चित्र: शटरस्टॉक
तनाव से रखता है मुक्त। चित्र: शटरस्टॉक

साथ ही यह टीनएज में होने वाले मूड स्विंग्‍स को भी कंट्रोल करने में सहायक है। 

4.गौलस्टोन में राहत मिलती है 

गौलस्टोंन छोटे कण होते हैं, जो गौल ब्लैडर में बनते हैं। अध्ययन बताते हैं कि पित्त की पथरी में ज्यादा कोलेस्ट्रॉल होता है और मूंगफली में कोलेस्ट्रॉल कम करने वाले गुण होते हैं जो गौलस्टोंन को रोकने में मदद कर सकते हैं।

5.प्रेगनेंसी में भी है फायदेमंद 

प्रेगनेंसी के समय आपको डबल पोषण की जरूरत होती है। ऐसे में मूंगफली उस पोषण की कमी को दूर करने में मददगार हो सकती है। मूंगफली वास्तव में गर्भवती महिलाओं के लिए एक स्मार्ट भोजन विकल्प है। इनमें प्रोटीन और फोलेट होता है।

प्रेगनेंसी में बच्चे और माँ के विकास के लिए मूँगफली एक अच्छा स्त्रोत है। चित्र: शटरस्‍टॉक
प्रेगनेंसी में बच्चे और माँ के विकास के लिए मूँगफली एक अच्छा स्त्रोत है। चित्र: शटरस्‍टॉक

जन्म के दोषों को रोकने में मदद करने के लिए गर्भावस्था के दौरान फोलेट और फोलिक एसिड की खुराक के लिए डॉक्टर द्वारा सलाह दी जाती है, विशेष रूप से विकासशील मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के लिए।

अगर मूंगफली से एलर्जी है तो ध्‍यान रखें 

कुछ लोगों को मूंगफली से एलर्जी होती है। ऐसे लोगों को किसी भी स्थिति में मूंगफली के सेवन से परहेज करना चाहिए। अगर आपको मूंगफली के सेवन से खांसी,सांस लेने में दिक्‍कत, उल्‍टी या जी मिचलाने लगता है तो इसका मतलब है कि आपको मूंगफली से एलर्जी है। इसके लिए जरूरी है कि डॉक्‍टर से सलाह किए बिना मूंगफली का सेवन बिल्‍कुल न करें।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रेरणा मिश्रा प्रेरणा मिश्रा

हेल्‍दी फूड, एक्‍सरसाइज और कविता - मेरे ये तीन दोस्‍त मुझे तनाव से बचाए रखते हैं।