फॉलो

सॉरी लेडीज, लौंग और काली मिर्च आपको कोविड-19 से नहीं बचा सकती, पर ये आपकी इम्यूनिटी बढ़ाती हैं

Updated on: 29 June 2020, 18:10pm IST
यदि आप भी कोविड- 19 से बचने के लिए कालीमिर्च और लौंग चबा रही हैं, तो आपको यह लेख पूरा पढ़ना चाहिए।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 75 Likes
लौंग और काली मिर्च आपकी इम्‍यूनिटी बढ़ाने में कारगर हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

कोविड-19 ने सबके जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया है। कोई ऐसा व्यक्ति नहीं जिसका जीवन कोरोनावायरस से प्रभावित न हुआ हो। जहां अकेले मुम्बई में वुहान के टोटल मामलों का आंकड़ा पार हो चुका है, वहीं दिल्ली का हाल न्यूयॉर्क की स्थिति को दोहराता दिखाई पड़ रहा है। जो तेज बढ़ोतरी कोविड-19 पॉजिटिव मामलों में देखी जा रही है, उससे लोगों में दहशत साफ़ नज़र आ रही है।

इन्हीं मामलों के साथ ही लोगों के वे जुगाड़ भी बढ़ते जा रहे हैं, जिन्हें वे कोरोनावायरस से बचने के लिए आजमा रहे हैं। पिछले दिनों जहां लहसुन को कोविड-19 से बचने का रामबाण इलाज बताया जा रहा था, वहीं आजकल लौंग और काली मिर्च का गुणगान किया जा रहा है।

ऐसे में क्या है सच, यह आपके लिए जानना बहुत ज़रूरी है। क्या यह उपचार कारगर है या फ़िर महज़ अफवाह, आइये जानते हैं।

लौंग-कालीमिर्च बढ़ाती हैं इम्यूनिटी

लौंग और कालीमिर्च के सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, इसमें कोई संदेह नहीं है। ‘क्रिटिकल रिव्यु’ में छपे शोध के अनुसार काली मिर्च में भरपूर मात्रा में एन्टी ऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं जो इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करते हैं। साथ ही इसमें मौजूद एन्टी माइक्रोबियल और गैस्ट्रो-प्रोटेक्टिव प्रोपर्टीज के कारण यह गले और कंठनली (Larynx) की इम्यूनिटी बढ़ाती हैं।

जर्नल ऑफ इम्यूनोटॉक्सीकोलॉजी में प्रकाशित शोध ने सुझाया कि लौंग में भी एन्टी माइक्रोबियल गुण होते हैं, जिससे लौंग का सेवन शरीर के लिए लाभदायक होता है।

मगर क्या इनके सेवन से SARS-CoV-2 से खुद को बचाया जा सकता है? यह अभी भी एक रहस्य ही है क्योंकि सभी स्वास्थ्य एंजेंसियां इस विषय पर चुप्पी साधे हुए हैं।

मेडिकल विशेषज्ञ से जानते हैं सम्पूर्ण सच

डॉ कुणाल शाह के अनुसार यह मसाले शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता तो बढ़ाते हैं मगर कोविड 19 से नहीं बचा सकते। “इस बात में कोई शक नहीं कि कुछ औषधि रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती हैं। आयुर्वेद में लौंग और कालीमिर्च जैसे मसालों का उपयोग हमेशा से होता आया है। गले से जुड़े कई रोगों का उपचार लौंग से किया जाता है।”

डॉ शाह इस विषय को आगे बढ़ाते हुए कहते हैं,”कोविड-19 वायरस सबसे पहले गले पर ही प्रभाव डालता है, शायद यही कारण है कि लौंग और कालीमिर्च को कोविड-19 का इलाज माना जा रहा है। परंतु असल में यह कोरोना का इलाज नहीं है।

डॉ शाह स्पष्ट करते हैं कि कोई शोध या स्टडी लौंग या कालीमिर्च के सेवन को कोरोना का बचाव नहीं मानती। मगर अच्छी इम्यूनिटी आपको कोविड-19 वायरस का शिकार होने से बचा ज़रूर सकती है। अगर आपकी इम्यूनिटी दुरुस्त है, तो कोरोना से रिकवरी के चान्सेस भी बढ़ जाते हैं।
यानी कि दुरुस्त इम्यूनिटी से आप अपने आपको सुरक्षित रख सकती हैं। स्वस्थ शरीर होम आइसोलेशन में भी कोविड-19 वायरस को मात दे सकता है।

तो इन सारे तथ्यों का सार यह है कि लौंग और कालीमिर्च जहां कोविड-19 का इलाज नहीं हैं, वहीं दूसरी ओर शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति को बढ़ाकर उससे लड़ने में कारगर जरूर हैं। अगर आप हर रोज कड़वा काढ़ा पीकर परेशान हैं, तो ज्यादा सोचिए मत और बस पी जाइए। क्योंकि तंदुरुस्त शरीर ही आपको कोविड-19 से बचा सकता है।

यह भी पढ़ें-

इन चार कारणों से वज़न घटाने में कामयाब है त्रिफला, जानिए कैसे करना है इस्‍तेमाल

यदि आप कोविड-19 से बचाव के लिए नमक के पानी से गरारे कर रहे हैं, तो इसे अभी पढ़ें

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

संबंधि‍त सामग्री