क्या डायबिटीज के मरीज खा सकते हैं कटहल? जानते हैं इस पर क्या है एक्सपर्ट की राय

Published on: 22 July 2022, 10:00 am IST

कटहल को उसके पोषक तत्वों के कारण वीगन्स का मीट कहा जाता है। यह एक विदेशी फल है, लेकिन मधुमेह से ग्रस्त लोगों को इसे खाना चाहिए या नहीं, इस पर अभी भी बहस जारी है।

jackfruit apke swaasthy ke liye faydemand hai
कटहल फायदेमंद होता है। चित्र: शटरस्टॉक

मधुमेह एक जीवन शैली संबंधी विकार है और इससे कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। यह तब होता है जब शरीर की इंसुलिन का उत्पादन या प्रतिक्रिया करने की क्षमता कम हो जाती है। इसकी वजह से, रक्त में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है। हालांकि, उचित आहार और स्वस्थ जीवन शैली विकल्पों के साथ, इसे आसानी से प्रबंधित किया जा सकता है।

कटहल के क्या फायदे हैं?

कटहल को लोकप्रिय रूप से वीगन मीट (vegan meat) कहा जाता है और यह एक विदेशी फल है। इसके बहुत सारे फायदे हैं। मगर यह जानना ज़रूरी है कि डायबिटिक लोग इसे खा सकते हैं या नहीं।

अपोलो स्पेक्ट्रा हॉस्पिटल, बेंगलुरु की चीफ क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट, शरण शास्त्री ने हेल्थ शॉट्स को बताया कि – “कटहल फाइटोन्यूट्रिएंट्स से बना होता है, जैसे कि लिग्नन्स, सैपोनिन, आइसोफ्लेवोन्स और एंटीऑक्सिडेंट मौजूद होते हैं। जिनमें कैंसर-रोधी, अल्सर-रोधी, एंटीहाइपरटेन्सिव, एंटी-एजिंग और इम्युनिटी बढ़ाने वाले गुण होते हैं। हाल के अध्ययनों से पता चलता है कि यह कोलन कैंसर के उपचार में प्रभावी है क्योंकि कटहल में मौजूद अघुलनशील फाइबर कोलन कैंसर को रोकने के लिए एक बोतल ब्रश के रूप में कार्य करता है।

क्या मधुमेह से पीड़ित लोग कटहल का सेवन कर सकते हैं?

शास्त्री ने कहा – “कटहल, जब समग्र रूप से सेवन किया जाता है, तो रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। इसलिए, यह वास्तव में उन लोगों के लिए नहीं बना है जो मधुमेह से पीड़ित हैं। हालांकि, कुछ अध्ययनों से पता चला है कि कटहल के बीज, जो सूक्ष्म पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और जिनमें बीटा कैरोटीन एपॉक्साइड, फाइटोस्टेरॉल और फ्लेवोनोइड होते हैं, इंसुलिन स्राव को प्रेरित करने और रक्त शर्करा को नियंत्रण में रखने के लिए जाने जाते हैं। हालांकि, इसके पीछे सटीक यौगिक अज्ञात है।”

इसका जब घर के बगीचे से सेवन किया जाता है, तो यह हानिकारक नहीं है क्योंकि यह मिलावटी नहीं होता है। इसलिए यह आपके रक्त शर्करा के स्तर को नहीं बढ़ाता है। जब डिब्बाबंद या प्रोसेस्ड कटहल मधुमेह के लिए हानिकारक है क्योंकि इसमें चीनी होती है, जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है। इसलिए, मधुमेह वाले लोग कटहल के बीज की चटनी या कटहल के बीज का पाउडर, सूखा और भुना हुआ ले सकते हैं, जिसका उपयोग स्मूदी और सलाद के लिए भी किया जा सकता है।

jackfruits ke fayde
कटहल प्रोटीन का संपन्‍न स्रोत है। चित्र: शटरस्‍टॉक

कटहल का सेवन किसे नहीं करना चाहिए?

अनियंत्रित हाइपरग्लेसेमिया वाले लोग

जो महिलाएं गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं या जो अपनी पहली तिमाही में हैं क्योंकि यह गर्भाशय के संकुचन को प्रेरित करने के लिए जाना जाता है।

जिन लोगों को लेटेक्स या बर्च के पेड़ों से एलर्जी है, उन्हें कटहल से एलर्जी होने की संभावना है।

मधुमेह रोगियों के लिए कटहल से जुड़े कुछ मिथ और तथ्य

मिथ – कटहल कैलोरी से भरपूर होता है और ब्लड शुगर लेवल को बढ़ाता है

तथ्य – शास्त्री ने कहा ”कटहल फाइबर से भरपूर होता है और इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स (60-65) कम होता है। वास्तव में मधुमेह रोगियों के लिए अच्छा होता है यदि इसका सेवन सही समय और सही अनुपात में किया जाए।”

मिथ – मधुमेह रोगियों को कटहल का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए

तथ्य – कटहल कई तरह से फायदेमंद होता है। कटहल के बीज इंसुलिन स्राव को प्रेरित करने के लिए जाने जाते हैं। इस प्रकार, अपने आहार में आप इसे शामिल करें। हरे कटहल का आटा, जो दक्षिणी क्षेत्र में काफी लोकप्रिय है। यह मधुमेह वाले लोगों के लिए भी अच्छा है।

मधुमेह में कटहल की सही मात्रा कितनी है?

फ्रुक्टोज की उपस्थिति के कारण कोई भी फल प्राकृतिक रूप से मीठा होता है और कटहल भी वही है। इसे दिन दोपहर 11 बजे के आसपास लेना बेहतर है और मात्रा के मामले में यह आपकी एक हथेली में फिट होने वाली किसी भी चीज़ से अधिक नहीं होनी चाहिए। और आप कटहल के आटे से इडली / डोसा जैसी चीज़ें सप्ताह में केवल एक बार बना सकती हैं।

यह भी पढ़ें ; मानसून की औषधि हैं नीम की पत्तियां, स्किन केयर के लिए जानिए कैसे करना है इनका इस्तेमाल

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें