वैलनेस
स्टोर

Potassium : जानिये क्‍यों आपके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए जरूरी है पोटेशियम रिच डाइट

Published on:13 June 2021, 12:00pm IST
हम सभी को यह पता है कि पौष्टिक आहार हमारे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। मगर शायद ही हम यह जानते हैं कि किसी भी एक पोषक तत्व की कमी हमारे शरीर में कई समस्याएं पैदा कर सकती है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 90 Likes
आपको अपने आहार में पो‍टेशियम रिच फूड्स को शामिल करना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक

पौष्टिक और संतुलित आहार हमारे शरीर के लिए ईंधन का काम करता है। इसमें हर विटामिन और खनिज की अपनी अहमियत होती है। ऐसा ही एक खनिज है पोटेशियम, जिसकी हमारे शरीर को उतनी ही आवश्‍यकता होती है, जितनी आयरन या कैल्शियम की। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन के अनुसार पोटेशियम युक्त आहार कई शक्तिशाली स्वास्थ्य लाभों से जुड़ा हुआ है। यह रक्तचाप और वॉटर रिटेंशन को कम करने, स्ट्रोक से बचाने और ऑस्टियोपोरोसिस और गुर्दे की पथरी को रोकने में मदद कर सकता है।

क्या है पोटेशियम?

पोटेशियम एक खनिज और एक प्रकार का इलेक्ट्रोलाइट है। यह आपकी नसों को काम करने और मांसपेशियों को सिकोड़ने में मदद करता है। यह आपके दिल की धड़कन को नियमित रखने में मदद करता है। यह पोषक तत्वों को कोशिकाओं में और अपशिष्ट पदार्थों को कोशिकाओं से बाहर ले जाने में भी मदद करता है।

आपकी मांसपेशियों के ठीक से काम करने के लिए इस खनिज की आवश्‍यकता होती है। चित्र : शटरस्टॉक

आपके शरीर में लगभग 98% पोटेशियम आपकी कोशिकाओं में पाया जाता है। इसमें से 80% आपकी मांसपेशियों की कोशिकाओं में पाया जाता है। जबकि अन्य 20% आपकी हड्डियों, यकृत और लाल रक्त कोशिकाओं में पाया जा सकता है।

क्यों ज़रूरी है पोटेशियम रिच डाइट?

1. यह शरीर में द्रव्य संतुलन बनाए रखने में मदद करता है

शरीर लगभग 60% पानी से बना है। इस पानी का 40% आपकी कोशिकाओं के अंदर इंट्रासेल्युलर द्रव (ICF) नामक पदार्थ में पाया जाता है। शेष आपकी कोशिकाओं के बाहर आपके रक्त, रीढ़ की हड्डी के द्रव और कोशिकाओं के बीच के क्षेत्रों में पाया जाता है। पोटैशियम इलेक्ट्रोलाइट है इसलिए, इंट्रासेल्युलर द्रव का संतुलन बनाए रखने में मदद करता है।

2. यह तंत्रिका तंत्र के लिए ज़रूरी है

पोटेशियम आपके तंत्रिका तंत्र में नर्व इम्पल्स को सक्रिय करने में एक आवश्यक भूमिका निभाता है। तंत्रिका आवेग मांसपेशियों के संकुचन, दिल की धड़कन, सजगता और कई अन्य प्रक्रियाओं को विनियमित करने में मदद करते हैं।

केला भी पोटेशियम का अच्‍छा स्रोत है। चित्र- शटरस्टॉक।

यहां जानिए पोटेशियम के आहार स्रोत

हरे पत्तेदार साग, जैसे पालक और सरसों
फल, जैसे जामुन, ब्लैकबेरी
जड़ वाली सब्जियां, जैसे गाजर और आलू
खट्टे फल, जैसे संतरा और अंगूर
राजमा, सोयाबीन, मछली कुछ अन्य विकल्प हैं

कितना पोटेशियम है जरूरी

आपको प्रतिदिन 4,700 मिलीग्राम पोटेशियम की जरूरत होती है। अगर आपको किडनी की बीमारी है, तो आपकी जरूरतें अलग हो सकती हैं। गुर्दे की बीमारी वाले कुछ लोगों को 4,700 मिलीग्राम दिशानिर्देश से कम पोटेशियम मिलना चाहिए। यदि आपके गुर्दे ठीक से काम नहीं करते हैं, तो आपके शरीर में बहुत अधिक पोटेशियम रह सकता है, जिससे तंत्रिका और मांसपेशियों की समस्या हो सकती। तो, चिकित्सीय सलाह ज़रूर लें!

यह भी पढ़ें – इम्‍युनिटी बढ़ाने में मददगार हो सकता है मछली का तेल, जानिए इसके 5 स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।