फॉलो

मैंने वेटलॉस के लिए शुरू की इंटरमिटेंट फास्टिंग और वजन घटने की बजाए बढ़नेे लगा

Published on:1 August 2020, 10:00am IST
सोशल मीडिया और कई और जगहों पर इंटरमिटेंट फास्टिंग की खूब तारीफ की जाती है, पर मेरे साथ इसका अनुभव बिल्‍कुल उलट रहा। आइए जानते हैं क्‍यों -
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 89 Likes

कभी-कभी एक्‍सपेरीमेंट भी सेहत को परेशानी में डाल देते हैं। खैर, यही हुआ जब मैंने इंटरमिटेंट डायट ट्राय करने का फैसला किया।

असल में, इसमें दिन के कुछ घंटों को खाने के लिए (ईटिंग विंडो) और शेष घंटों (फास्टिंग विंडो) को उपवास करने के लिए रखा जाता है। यह फास्टिंग आप कभी भी कर सकते हैं ।

24 घंटे में से आप 12 से 16 तक फास्टिंग करते हैं।

करवाचौथ  मेरे लिए किसी यातना से कम नहीं है । तो जाहिर है, मैंने 24 घंटे के उपवास को चुनने की बजाए 18 घंटे के फास्टिंग विंडो का चुनाव किया। जो रात के 8:00 बजे से शुरू हुआ (तब तक मैंने रात का खाना समाप्त कर दिया)  और दोपहर 2:00 बजे तक चला।

अगले दिन, मैंने एक बड़ा गिलास पानी, फलों और कोल्‍ड कॉफी के साथ अपना उपवास तोड़ दिया। 30 मिनट के अंतराल पर इन्‍हें लेने के बाद मैंने 400 कैलोरी का दोपहर का भोजन, एक हल्का ईवनिंग स्‍नैक्‍स और 400-कैलोरी का डिनर लिया।

क्‍या वाकई इंटरमिटेंट डाइट वेटलॉस में फायदेमंद है? चित्र : शटरस्‍टॉक

आप हैरान होंगे कि मैंने इस आहार को ट्राय करने का फैसला क्यों किया ?

यदि आप इंटरमिटेंट डाइट के प्रबल समर्थक/अनुयायी हैं, तो मुझे क्षमा करें कि मैं इसे ‘जीवन शैली’ मानने के बजाय ‘आहार’ ही कहूंगी। इंटरमिटेंट डाइट जल्दी ही मेरी लाइफ से आउट हो गई। यह वाकई मेरा स्‍टाइल नहीं है। इसलिए, मेरे लिए, यह एक आहार है जिसके लिए मैंने कोशिश की और थोड़ा पछतायी भी।

खैर, मुख्‍य बिंदु पर आते हैं, क्‍या हमें इसे ट्राय करना चाहिए?

मेरे इस साहसी कदम का कारण सिर्फ वेट लॉस ही नहीं था, बल्कि सोशल मीडिया पर हो रही इसकी तारीफ भी था। वास्तव में, कई हेल्‍थ इंफ्लुएंसर इसका पालन कर रहे हैं।

कई लाभ जो वे इंटरमिटेंट डाइट के समर्थन में बताते हैं, उनके बारे में मैंने डॉ. नामिता नदार से बात की। डॉ. नमिता फोर्टिस अस्पताल, नोएडा द्वारा में प्रमुख पोषण विशेषज्ञ  हैं। उन्‍होंने मुझे समझाया कि क्‍यों यह मुझे सूट नहीं की।

वह कहती हैं, “ बहुत से लोगों ने इंटरमिटेंट डाइट के फायदों जैसे ऊर्जा बढ़ाने, ग्लूकोज होमोस्टेसिस में सुधार, वृद्धि हार्मोन (जीएच) उत्पादन में वृद्धि, ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने, ट्राइग्लिसराइड (टीजी) के स्तर और रक्त को कम करने जैसे असंख्य स्वास्थ्य लाभ हैं महसूस किए। इसके अलावा यह स्‍ट्रेस, ब्रेन फंक्‍शन, प्रतिरक्षा विकार, कैंसर, हृदय रोग, स्ट्रोक, नेत्र रोग, अल्जाइमर और दीर्घायु को बढ़ावा देने का भी काम करती है।”

वेट लॉस के बारे में वे कहती हैं (जो मेरे मामले में वास्तविक प्रेरणा थी), इंटरमिटेंट फास्टिंग अगर ठीक ढंग से लागू की जाए तो यह वजन घटाने के साथ-साथ स्‍वास्‍थ्‍य को भी बेहतर बना सकती है।

Intermittent Fasting
इंटरमिटेंट फास्टिंग सनक या फैब? चित्र : शटरस्टॉक

“ कुछ लोग वास्तव में इस तथ्य को पसंद कर सकते हैं कि आपको इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान एक साथ भरपूर मात्रा में भोजन कर सकते हैं। इससे आप में एक अलग तरह की भावना विकसित होती है। इसके अतिरिक्त, दूसरा तथ्य यह भी है कि इसमें आहार संबंधी कोई बदलाव नहीं करना होता। इसलिए यह कई लोगों को पसंद आती है।”

तो, क्या इससे मुझे फायदा हो सकता है?

इस सवाल का जवाब मैंने शुरू में ही दे दिया, पर इसे और स्‍पष्‍ट करूं तो सीधा सा जवाब है कि इसने मेरा वजन बढ़ा दिया।

जैसे कि नाश्ता छोड़ना और सुबह खाली पेट खुद को काम पर लगाना मेरे लिए किसी यातना से कम नहीं था। इसका खामियाजा मुझे बढ़े हुए वजन के रूप में उठाना पड़ा। और एक साथ भोजन करने के बाद होने वाली असुविधा से निपटना एक और समस्या था। आप समझ रहे होंगे कि मेरा क्या मतलब है, है ना?

अगर आपको भोजन करने के बाद बेहतर महसूस करने के लिए अजवायन निगलनी पड़े, तो ऐसे आहार का क्‍या मतलब है?

लेकिन, मुझे यह क्यों छोड़नी पड़ी?

नदार ने इस आहार के निम्नलिखित कारणों का हवाला देते हुए इस रहस्य का समाधान किया जिसने मेरे लिए इसे तनावपूर्ण बना दिया था:

1 खाने के सामाजिक पहलुओं में हस्तक्षेप : भोजन एक सामाजिक गतिविधि भी है। जब आप इसके बारे में सोचते हैं, तो हमारे सभी समारोह, मील के पत्थर और विशेष अवसर भोजन के आसपास घूमते हैं। यह नया भोजन पैटर्न ज्यादातर लोगों की सामान्य खाने की शैली से मेल नहीं खाता है। यह आपके खाने के लिए कम समय सीमा के कारण है। सामाजिक समारोहों में आपके लिए यह मुश्किल हो सकता है, जहां सभी खाना खा रहे हैं और आप उनसे बिल्‍कुल अलग खड़े हैं।

इसके अलावा, सुनो:

2 बिंज फास्टिंग: वह बताती हैं, “ जब आप लंबी अवधि तक भूखे रहते हैं, तो आपकी भावनाएं अलग तरह से काम करती हैं और आप खाने पर टूट पड़ते हैं। यह ओवर ईटिंग आपका वजन घटाने की बजाए बढ़ा सकती है।”

मैं इससे इन्‍कार नहीं कर सकती कि लंबे समय तक भूखे रहने के बाद मैंने भी अनियंत्रित तरीके से खाना खाया। और कैलोरी का हिसाब खो दिया। लेकिन खाने के लिए तरसते एक भूखे व्‍यक्ति से आप क्‍या उम्‍मीद कर सकते हैं, है न?

3 पाचन संबंधी समस्याएं: वह इसके बारे में समझाती हैं, “जब हम एक छोटी अवधि में अपनी भोजन की सभी आवश्‍यकताएं पूरी करने की कोशिश करते हैं, तो यह हमारे पाचन तंत्र को डिस्‍टर्ब कर देता है। इससे आपके गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट पर अतिरिक्त तनाव हो सकता है, जिससे अपच और सूजन हो जाती है।”

4 पोषण की कमी: नदार के अनुसार, इंटरमिटेंट फास्टिंग पोषक तत्वों की कमी, इलेक्ट्रोलाइट असामान्यताओं, साथ ही महिलाओं में प्रजनन क्षमता और प्रजनन का गंभीर खतरा पैदा कर सकती है।

Intermittent fasting
इंटरमिटेंट डाइट आप में पोषण की कमी कर सकती है। चित्र: शटरस्टॉक

मैं इस कारण से पूरी तरह सहमत हूं, क्‍योंकि इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान मैंने खुद को काफी थका हुआ और कमजोर महसूस किया। खासकर फास्टिंग विंडो के दौरान। भोजन करने के बाद सुस्ती, भारीपन और असुविधा एक अलग तरह की समस्‍या रही।

5 धीमी चयापचय:  इंटरमिटेंट फास्टिंग आपके चयापचय को धीमा कर सकती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जब आपका शरीर भूखा रहता है, तो यह आपकी मांसपेशियों में मौजूद प्रोटीन को ईंधन के स्रोत के रूप में उपयोग करना शुरू कर देता है और आपकी मांसपेशियों को तोड़ना शुरू कर देता है। नदार चेतावनी देती हैं और कहती हैं कि यह लंबे समय तक आपके स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

तो निष्‍कर्ष यही रहा कि इंटरमिटेंट फास्टिंग के कसीदे चाहें सोशल मीडिया पर कितने भी पढ़े जाएं, यह मेरे टाइप का डाइट नहीं है।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

संबंधि‍त सामग्री