वैलनेस
स्टोर

सिर्फ इम्युनिटी ही नहीं, आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी है विटामिन सी, एक्‍सपर्ट से जानिए क्‍यों

Published on:9 April 2021, 12:20pm IST
हम सभी जानते हैं कि विटामिन सी हमारे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए आवश्यक है। लेकिन इस माइक्रोन्यूट्रिएंट की आपके शरीर में बड़ी भूमिका है।
Dr Gaurav Jain
  • 87 Likes
विटामिन सी आपके समग्र स्‍वास्‍थ्‍य के लिए जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

जेम्स लिंड ने 1747 में एक जानलेवा बीमारी से जीतने में मदद की थी। एक नौसैनिक जहाज पर किए गए उनके प्रयोग से पता चला कि संतरे और नींबू स्कर्वी के इलाज में कारगर थे। जो कि विटामिन सी की कमी के कारण होने वाली बीमारी है। यही 1500 और 1800 के बीच दो मिलियन नाविकों की मौत का कारण बनी।

स्कर्वी प्रकोप के बाद से, यह एक ज्ञात तथ्य है कि माइक्रोन्यूट्रिएंट प्रतिरक्षा प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और उनकी कमी का प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

आज, एक सेंचुरी बाद, बदलते परिवेश और जीवनशैली के कारण ये महत्वपूर्ण हो गया है कि लोग विटामिन्स और मिनरल्स की आवश्यकता के बारे में जाने।

विटामिन को उनकी घुलनशीलता के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। जो पानी में घुल जाते हैं वे घुलनशील विटामिन कहलाते हैं। वसा में घुलनशील विटामिन के विपरीत, पानी में घुलनशील विटामिन जैसे विटामिन सी आमतौर पर शरीर में जमा नहीं होता है।

इसके अलावा, यह एक आवश्यक पोषक तत्व है, जिसे बायोसिंथेटिक मार्ग में एक महत्वपूर्ण एंजाइम के नुकसान के कारण मनुष्यों द्वारा संश्लेषित नहीं किया जा सकता है। इसलिए, उन्हें आहार से नियमित रूप से प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।

शरीर के लिए बेहद ज़रूरी है विटामिन C. चित्र : शटरस्टॉक

हमें स्वस्थ रहने के लिए विटामिन सी की आवश्यकता क्यों है?

विटामिन सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है, जो बीमारियों के जोखिम को कम करता है, उच्च रक्तचाप के प्रबंधन में मदद करता है, हृदय रोग के जोखिम को कम करता है, रक्त यूरिक एसिड के स्तर को कम करता है, आयरन की कमी को रोकता है, प्रतिरक्षा को बढ़ाता है और मनोभ्रंश के जोखिम को कम करता है।

मनुष्यों के लिए विटामिन सी एक महत्वपूर्ण माइक्रोन्यूट्रिएंट है, क्योंकि यह संयोजी ऊतकों के विकास और रखरखाव में मदद करता है। विटामिन सी घाव भरने, हड्डियों के निर्माण और स्वस्थ मसूड़ों के रखरखाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

यह बी विटामिन, फोलिक एसिड की सक्रियता और रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने वाले पित्त एसिड में कोलेस्ट्रॉल सहित कई चयापचय कार्यों में मदद करता है। विटामिन सी स्कर्वी और अन्य विटामिन सी की कमी वाले विकारों में उपयोग किया जाता है। सबसे महत्वपूर्ण बात, विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है, एलर्जी प्रतिक्रियाओं की गंभीरता को कम करता है और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है।

हाल ही में बुजुर्गों पर किए गए एक अध्‍ययन में सामने आया कि उत्‍तर भारत में 74% और दक्षिण भारत में 46% बुजुर्गों में विटामिन सी की कमी थी।

सर्दी और श्वसन संक्रमण जैसे तीव्र संक्रमणों में, विटामिन सी की कमी होती है और इसलिए, प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने के लिए सप्लीमेंट के माध्यम से विटामिन सी शरीर में पहुंचाया जाता है। मधुमेह, एथेरोस्क्लेरोसिस और हृदय रोग जैसी बीमारियों में, शरीर की विटामिन सी की स्थिति में कमी होती है। इसलिए, विटामिन सी की खुराक लेने से विटामिन सी में सुधार करने में मदद मिलेगी।

ज्‍यादातर बुजुर्गों में विटामिन सी की कमी देखी गई है। चित्र: शटरस्‍टॉक

विटामिन सी, जिसे एस्कॉर्बिक एसिड के रूप में भी जाना जाता है, एक पदार्थ कोलेजन बनाने के लिए आवश्यक है, जो शरीर में विभिन्न ऊतकों जैसे त्वचा, उपास्थि, हड्डी, स्नायुबंधन और रक्त वाहिका की दीवारों और दांतों की मरम्मत के लिए आवश्यक है। यह गट में आयरन और कैल्शियम और अन्य खनिजों के अवशोषण में सुधार करता है।

ये संकेत बताते हैं कि आपको विटामिन सी की कमी है

विटामिन सी की कमी के लक्षण थकावट, कमजोरी, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, त्वचा पर घाव, बालों का टूटना, मसूड़ों की सूजन और मलिनीकरण, मसूड़ों से अप्रत्याशित रक्तस्राव, घावों की खराब चिकित्सा, संक्रमण से लड़ने में समस्या और वजन कम होना है।

यदि समय पर निदान और इलाज नहीं किया जाता है, तो विटामिन सी की कमी से तंत्रिका समस्याएं, फिट्स, बुखार और सांस की तकलीफ हो सकती है।

जब आप विटामिन सी की कमी के लक्षणों का अनुभव करते हैं तो क्या करें:

यह सुनिश्चित करने के लिए डॉक्टर को दिखाना आवश्यक है कि इस आवश्यक सूक्ष्म पोषक तत्व की कमी तो नहीं है। डॉक्टर व्यक्ति को उनके आहार के बारे में पूछने और उनके द्वारा अनुभव किए गए लक्षणों को सुनने के बाद समस्या का पता लगा सकते हैं।

खट्टे खाद्य पदार्थ आपको विटामिन सी की आपकी दैनिक खुराक दे सकते हैं, पर हो सकता है कि आप इनका पर्याप्त सेवन न कर रहीं हों। चित्र : शटरस्टॉक

भोजन से आयरन के अवशोषण के लिए विटामिन सी की आवश्यकता होती है। इसलिए, आयरन की कमी अक्सर उन लोगों में देखी जाती है, जिनमें विटामिन सी की भी कमी होती है। डॉक्टर हड्डियों का परीक्षण करने के लिए एक्स-रे या स्कैन का सुझाव भी दे सकते हैं, क्योंकि विटामिन की कमी हड्डियों के पतले होने से जुड़ी है।

आहार में विटामिन सी की लगातार कमी से स्कर्वी नामक स्थिति हो सकती है। रक्तस्राव मसूड़ों, दुर्गंधयुक्त सांस, स्कर्वी के आमतौर पर देखे जाने वाले लक्षणों में से कुछ हैं। स्कर्वी को आपके चिकित्सक द्वारा अनुशंसित उच्च खुराक विटामिन सी की खुराक के साथ इलाज किया जा सकता है।

ये हैं विटामिन सी के आसान स्रोत 

विटामिन सी के प्राकृतिक स्रोत जैसे खट्टे फल, हरी पत्तेदार सब्जियां, स्ट्रॉबेरी, पपीता, ब्रोकली, आदि लंबे समय में इसकी डेफिशियेंसी और स्कर्वी को रोकने में मदद करते हैं।

एक स्वस्थ आहार के साथ, सप्लीमेंट शरीर में विटामिन-C की सही मात्रा को बनाए रखने में मदद करते हैं। दैनिक आहार में विटामिन सी का अनुशंसित सेवन उम्र और लिंग के अधीन है। उदाहरण के लिए, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसका अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए।

स्वस्थ आहार और सप्लीमेंट के साथ दूर की जा सकती है विटामिन सी की कमी

महामारी के दौरान स्वस्थ रहना समय की आवश्यकता है। मगर हम ऐसा कैसे कर सकते हैं? कई अध्ययनों में पाया गया है कि विकसित देशों में भी, जहां ताजे फल और सब्जियों की कोई कमी नहीं है, जो लोग सप्लीमेंट्स का सेवन करते हैं, उनमें विटामिन सी की काफी कमी होती है।

विटामिन-सी आपकी त्वचा को अंदर से निखारता है. चित्र : शटरस्टॉक

इसलिए, हमारा ध्यान प्रतिरक्षा प्रणाली पर होना चाहिए जो बीमारियों के खिलाफ शरीर को रक्षा प्रदान करती है। विटामिन सी की कमी हमारी इम्युनिटी को कमज़ोर कर सकती है और संक्रमण के कारण अधिक बार बीमारियां पैदा कर सकती है।

मगर यह एक स्वस्थ आहार खाने और विटामिन सी की खुराक लेने से पूरा किया जा सकता है। जैसा कि शरीर अपने आप विटामिन सी नहीं बनाता है, विटामिन सी से भरपूर भोजन नियमित रूप से करना चाहिए।

यह भी पढ़ें – एक मिनट भी पालथी मारकर नहीं बैठ पातीं? तो समझिए कि आपका शरीर क्‍या कहने की कोशिश कर रहा है

Dr Gaurav Jain Dr Gaurav Jain

Dr Gaurav Jain, Internal Medicine, Dharamshila Hospital