Navratri 2022 : अपने व्रत की शुरुआत करें कुछ टेस्टी और लाइट खाकर, जानिए साबुदाना पराठे की रेसिपी

Published on: 1 April 2022, 08:00 am IST

साबुदाना ग्लूटेन फ्री है और वेट लॉस में भी मददगार है। यह एनर्जी देता है और कुल मिलाकर आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है। तो चलिये जानते हैं नवरात्रि के लिए साबुदाना पराठे की टेस्टी रेसिपी।

janiye sabudana paratha kii recipe
जानिए साबूदाना पराठा रेसिपी हिंदी में। चित्र : शेफ कुनाल कपूर

व्रत में हम कुछ टेस्टी और लाइट खाना चाहते हैं। कुछ ऐसा, जो भारीपन या ब्लोटिंग का कारण न बने। इसपर यदि आप वेट लॉस डाइट पर हैं, तो यह और भी ज़्यादा मुश्किल हो जाता है। मगर आपको चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं है, कुओंकी आपके नवरात्रि के व्रत (Navratri Vrat 2022) के लिए हम लाएं हैं साबुदाना पराठे (Sabudana Paratha) की टेस्टी और हेल्दी रेसिपी।

साबूदाना (Sabudana) को टैपिओका पर्ल (Tapioca Pearl) के रूप में भी जाना जाता है, साबूदाना टैपिओका की जड़ों से निकाला गया एक स्टार्च है और एक स्वस्थ भोजन विकल्प के रूप में काम कर सकता है। साबूदाना कैलोरी में उच्च होता है जिसमें फाइबर, प्रोटीन, कैल्शियम और ऊर्जा सहित महत्वपूर्ण आवश्यक पोषक तत्व होते हैं।

यह ग्लूटेन फ्री (Gluten Free) है और गेहूं आधारित आटे और अनाज के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प के रूप में काम कर सकता है। कार्बोस में उच्च, यह खाद्य पदार्थ आवश्यक वसा ऊतकों और हड्डियों की मरम्मत के निर्माण में मदद करता है।

साबूदाने का पराठा बनाने के लिए आपको चाहिए

साबूदाना – ½ कप + 3 बड़े चम्मच
पानी – 1¼ कप
आलू (उबला और मैश किया हुआ) – 1 कप
सेंधा नमक (सेंधा नमक) – स्वाद के लिए
भुना जीरा – 1½ छोटा चम्मच
हरी मिर्च कटी हुई – 1no
भुनी हुई मूंगफली – 3 बड़े चम्मच
हरा धनिया कटा हुआ– मुट्ठी भर
बटर पेपर/प्लास्टिक शीट – 2nos
तेल – हल्की चिकनाई के लिए
घी – हल्का तलने के लिए

साबूदाने का पराठा बनाने की विधि

साबूदाना पराठा बनाने के लिए आधा कप साबूदाने को पानी में धो कर प्याले में डालिये। अब इसमें 1¼ कप पानी डालें और 4 घंटे के लिए भीगने के लिए अलग रख दें। बचे हुए 3 बड़े चम्मच साबूदाना को मिक्सर ग्राइंडर में डालकर बारीक पाउडर पाउडर बना लें। इस पाउडर को अभी के लिए अलग रख दें।

भीगने के 4 घंटे बाद साबूदाने का अतिरिक्त पानी निकाल लें। इस भीगे हुए साबूदाने को एक बड़ी प्लेट या प्लेट में रख लीजिए।

अब उबले और मसले हुए आलू, में सेंधा नमक, जीरा, हरी मिर्च, साबूदाना पाउडर, कुटी मूंगफली और कटा हरा धनिया डालें।

सभी सामग्री को मिलाकर आटे की एक बड़ी लोई बना लें। हाथों को धोकर सुखा लीजिये। हाथों पर थोड़ा सा तेल लगाकर आटे की छोटी छोटी लोइयां बना लीजिये। इस रेसिपी से आपको साबूदाना आलू पराठे के आटे की लगभग 6 बॉल्स मिल जानी चाहिए।

किचन काउंटर पर बटर पेपर या प्लास्टिक शीट रखें, ऊपर से तेल या घी से हल्का सा चिकना कर लें। आटे की एक लोई को बीच में रखिये, उंगलियों पर हल्का सा तेल लगाकर, हल्के हाथ से दबा कर चपटा कर लीजिये। आटे को फैलाते समय किनारों में दरार आ जाती है, इसलिए किनारों को दबाएं और उन्हें बाहर से अंदर की ओर थपथपाएं ताकि वे सख्त हो जाएं।

अगर आटा बहुत चिपचिपा हो जाता है और लगभग 6 इंच या उससे कम व्यास में फैल जाता है तो उंगलियों पर तेल लगाएं। आलू परांठे के ऊपर तेल छिड़कें, ध्यान से बटर पेपर उठाएं और इसे ऊपर की ओर नीचे की ओर गर्म तवे या तवे पर रखें। बटर पेपर को सावधानी से हटा दें और पराठा नीचे से पकने दें। ऊपर से घी या तेल डालें और परांठे को पलट कर दूसरी तरफ भी सेक लें।

परांठे को पकाते और पलटते समय टूट सकता है, इसलिए हमें यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि एक तरफ अच्छी तरह से पका लें ताकि पराठा सख्त हो जाए और फिर एक पतली फ्राइंग चम्मच का उपयोग करके इसे पलट दें।

पक जाने के बाद व्रत के स्पेशल आलू पराठे को साबूदाने से दही के साथ परोसिये और खाइये। बचे हुए आटे के साथ भी ऐसा ही दोहराएं।

apke faydemand hai sabudanaसाबूदाने की ये रेसिपी थोड़ी अलग है। चित्र : शटरस्टॉक

साबूदाना की पोषण सामग्री:

U.S.D.A (यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर) द्वार शोध किए गए आंकड़ों के अनुसार, साबूदाने की एक कप सर्विंग में मौजूद पोषण सामग्री है:

पानी: 14 ग्राम
कैलोरी: 544
कार्बोहाइड्रेट: 135 ग्राम
फाइबर: 1.37 ग्राम
प्रोटीन: 0.29 ग्राम
वसा: 0.03 ग्राम
कैल्शियम: 30.4 मिलीग्राम
आयरन: 2.4 मिलीग्राम
मैग्नीशियम: 1.52 मिलीग्राम
पोटेशियम: 16.7 मिलीग्राम
सोडियम: 2 मिलीग्राम

व्रत में आपके स्वास्थ्य के लिए कैसे फायदेमंद है साबुदाना

ऊर्जा बनाए रखे

व्रत में हम कम खाना चाहते हैं। कुछ ऐसा जो भरी न पड़े और हेल्दी भी हो। साबूदाने में कैलोरीज (Calories) और कर्ब्स (Carbs) की मात्रा उच्च होती है। इसलिए थोड़ा सा खाने के बाद ही आप ऊर्जावान महसूस करने लगेंगी।

हड्डियों के लिए फायदेमंद

साबूदाना प्राकृतिक कैल्शियम का बेहतरीन स्रोत होने के कारण बढ़ते बच्चों की हड्डियों को मजबूत करता है। यह वृद्ध लोगों में बोन डेंसिटी को भी बढ़ाता है और ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) के लक्षणों को कम करने में सहायता करता है।

खून की कमी दूर करे

आयरन की कमी (Iron Deficiency) से होने वाला एनीमिया (Anemia) हर साल अनगिनत भारतीय पुरुषों, महिलाओं और बच्चों को प्रभावित करता है। साबूदाना आयरन का एक पावरहाउस है, जो रक्त में कम हीमोग्लोबिन के स्तर का अनुभव करने वाले लोगों के लिए वरदान के रूप में कार्य करता है, इस प्रकार एनीमिया का प्रभावी ढंग से इलाज करता है।

यह भी पढ़ें : साधारण नमक को करें सेंधा नमक से रिप्लेस, आपकी सेहत को ये 5 लाभ दे सकता है सेंधा नमक का सेवन

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें