वैलनेस
स्टोर

इस नवरात्रि सेलिब्रेट करें आलू की गुडनेस, क्‍योंकि पोषक तत्‍वों में अब भी ये बहुत खास है

Published on:12 April 2021, 12:27pm IST
अगर आप वजन बढ़ने का ठीकरा आलू के सिर फोड़ना चाहती हैं, तो सॉरी आप बिल्‍कुल गलत हैं। आपके कुकिंग के तरीके ने इसे एक्‍स्‍ट्रा फैट से लोड कर दिया है। वरना आलू तो अब भी सब्जियों का राजा है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 88 Likes
आलू अपने पोषक गुणों के कारण बहुत खास है। चित्र: शटरस्‍टॉक
आलू अपने पोषक गुणों के कारण बहुत खास है। चित्र: शटरस्‍टॉक

आलू अधिकांश भारतीय घरों में खानपान का अभिन्न हिस्सा है। हम में से अधिकांश लोग आलू का किसी न किसी रुप में सेवन करते हैं। सच कहें, तो आलू के बिना खाने की कल्पना करना मुश्किल है। अधिकांश सब्जियों में आलू का इस्तेमाल होता है। आलू से अलग-अलग तरह की चीजें बनती हैं।

लेकिन कुछ लोग अब आलू का सेवन करने से कतराने लगे हैं। ऐसा माना जाने लगा है कि आलू का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है और यह कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के जोखिम को बढ़ाता है। यही कारण है कि लोग इसे पूरी तरह से अपने आहार में काटने पर विचार करने लगे हैं। लेकिन क्या वाकई आलू को अपने आहार से हटाना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है? खैर, हम ऐसा नहीं मानते हैं, क्योंकि आलू पोषक तत्वों का भंडार है और कई स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है।

ऐसे में यदि आप अपने आहार में से आलू का पूरी तरह से बहिष्कार करने पर विचार कर रही हैं, तो ऐसा न करने के लिए हम यहां आपको आलू के 6 स्वास्थ्य लाभ बता रहे हैं।

यहां जानिए आलू के 6 स्वास्थ्य लाभ

1. पोषक तत्वों से भरपूर है

आलू कई विटामिन और खनिजों का एक बेहतरीन स्रोत है। आलू में प्रोटीन, फाइबर, विटामिन सी, विटामिन बी 6, पोटेशियम, मैग्नीशियम, मैंगनीज, फास्फोरस, नियासिन और फोलेट जैसे कई विटामिन और मिनरल्स भरपूर मात्रा में होते हैं।

आलू पोषक तत्‍वों का खजाना है। चित्र: शटरस्‍टॉक
आलू पोषक तत्‍वों का खजाना है। चित्र: शटरस्‍टॉक

हालांकि, आलू की पोषण सामग्री विविधता के आधार पर भिन्न हो सकती है। साथ ही उन्हें कैसे तैयार किया जाता है। उदाहरण के लिए, आलू को तलने से उन्हें पकाने से अधिक कैलोरी और वसा मिलती है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आलू की त्वचा में विटामिन और मिनरल की एक बड़ी मात्रा होती है। आलू का छिलका उतारने से उनकी पोषण सामग्री काफी कम हो जाती है।

2. आलू में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं

आलू फ्लेवोनोइड्स, करॉटिनाइड्स और फेनोलिक एसिड जैसे यौगिकों में समृद्ध हैं। ये यौगिक फ्री रेडिकल्स के संभावित हानिकारक अणुओं को बेअसर करके शरीर में एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करते हैं। जब फ्री रेडिकल्स जमा होते हैं, तो वे हृदय रोग, मधुमेह और कैंसर जैसी पुरानी बीमारियों के जोखिम को बढ़ा सकते हैं।

उदाहरण के लिए, एक टेस्ट-ट्यूब अध्ययन में पाया गया कि आलू में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट लीवर और कोलन कैंसर कोशिकाओं के विकास को दबा सकते हैं।

अध्ययन में यह भी पाया गया है कि बैंगनी आलू जैसे रंगीन आलू में सफेद आलू की तुलना में तीन से चार गुना अधिक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। यह उन्हें फ्री रेडिकल्स को बेअसर करने में संभावित रूप से अधिक प्रभावी बनाता है।

3. ब्लड शुगर कंट्रोल में सुधार हो सकता है

आलू में एक विशेष प्रकार का स्टार्च होता है, जिसे प्रतिरोधी स्टार्च (resistant starch) के रूप में जाना जाता है। यह स्टार्च टूट कर पूरी तरह से शरीर द्वारा अवशोषित नहीं होता है। इसके बजाय, यह बड़ी आंत में पहुंचता है, जहां यह आपकी आंत में फायदेमंद बैक्टीरिया के लिए पोषक तत्वों का स्रोत बन जाता है।

आलू ब्‍लड शुगर को कंट्रोल करने में भी मददगार साबित हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
आलू ब्‍लड शुगर को कंट्रोल करने में भी मददगार साबित हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

शोध ने प्रतिरोधी स्टार्च को इंसुलिन प्रतिरोध (insulin resistance) को कम करने सहित कई स्वास्थ्य लाभों के साथ जोड़ा है, जो बदले में ब्लड शुगर कंट्रोल में सुधार करता है।

टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों के एक अध्ययन में पाया गया कि प्रतिरोधी स्टार्च वाले भोजन का सेवन भोजन के बाद अतिरिक्त ब्लड शुगर को हटाने में मदद करता है।

4. पाचन स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है

आलू में मौजूद प्रतिरोधी स्टार्च पाचन स्वास्थ्य में भी सुधार कर सकता है। जब प्रतिरोधी स्टार्च बड़ी आंत में पहुंचता है, तो यह फायदेमंद आंत के बैक्टीरिया के लिए एक अच्छा भोजन बन जाता है। ये बैक्टीरिया इसे पचाते हैं और इसे शॉर्ट-चेन फैटी एसिड (short-chain fatty acids) में बदल देते हैं।

आलू से प्रतिरोधी स्टार्च ज्यादातर शॉर्ट-चेन फैटी एसिड बूटिरेट में बदल जाता है। जो कि आंत के बैक्टीरिया के लिए पसंदीदा खाद्य स्रोत है।

अध्ययनों से पता चला है कि बुटीरेट (butyrate) कोलन में सूजन को कम कर सकता है। कोलन के बचाव को मजबूत कर सकता है और कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम को कम कर सकता है।

यह भी पढ़ें – सावन में रखती हैं व्रत, तो बनाएं आलू का टेस्टी हलवा, ये रही रेसिपी

5. प्राकृतिक रूप से ग्लूटेन-फ्री है

ग्लूटेन-फ्री आहार दुनिया भर में सबसे लोकप्रिय आहारों में से एक है। इसमें ग्लूटेन को खत्म करना शामिल है, जो कि अनाज में पाए जाने वाले प्रोटीन का एक परिवार है जैसे कि स्पेल्ट, गेहूं, जौ और राई।

आलू सिर्फ आपके किचन का ही नहीं ब्यूटी रूटीन का भी महत्वपूर्ण हिस्सा हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यदि आप एक ग्लूटेन-फ्री आहार का पालन करते हैं, तो आपको अपने आहार में आलू को शामिल करने पर विचार करना चाहिए। वे स्वाभाविक रूप से ग्लूटेन-फ्री हैं। जिसका अर्थ है कि वे असुविधाजनक लक्षणों को ट्रिगर नहीं करते हैं।

6. अविश्वसनीय रूप से पेट भरने वाले हैं

पोषक तत्वों से भरपूर होने के अलावा, आलू अविश्वसनीय रूप से पेट भरने वाले भी हैं। एक अध्ययन में, 11 लोगों को 38 आम खाद्य पदार्थ खिलाए गए थे। उन्‍हें खाद्य पदार्थों को रेट (rate) करने के लिए कहा गया था कि वे कैसे पेट भरते हैं। आलू को उन सभी की सर्वोच्च परिपूर्णता रेटिंग प्राप्त हुई।

आलू को क्रोइसैन्ट (Croissant) से सात गुना अधिक पेट भरने वाले भोजन के रूप में रेट किया गया था। जिसे कम से कम पेट भरने वाले खाद्य पदार्थ के रूप में रैंक किया गया था।

यह भी पढ़ें – पॉलिश्ड बनाम अनपॉलिश्ड : जानिए कौन सी दाल है आपकी सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद 

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।