वैलनेस
स्टोर

क्या आपको भी दालचीनी पसंद है? जानिए अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए इसे कैसे करना है डाइट में शामिल 

Published on:22 March 2021, 18:58pm IST
दालचीनी भारतीय घरों में मौजूद सबसे पसंदीदा मसालों में से एक है। जो कि आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है। लेकिन अगर आप इसके लाभों को बेहतर तरीके से प्राप्त करना चाहती हैं, तो आपको दालचीनी की उस किस्म पर ध्यान देना चाहिए जिसका आप उपभोग कर रही हैं।
Parul Malhotra Bahl
  • 86 Likes
दालचीनी आपकी योनि के लिए अच्छी है। चित्र-शटरस्टॉक।

क्या आप भी अपनी हर फ्लेवर्ड ड्रिंक और डेजर्ट में दालचीनी एड करना पसंद करती हैं? या क्या आप स्वास्थ्य और फिटनेस के प्रति बहुत सजग हैं, और अपने अद्भुत स्वास्थ्य लाभों के लिए दालचीनी का प्रयोग करना चाहती हैं? तो इसके लिए यह जान लेना भी जरूरी है कि आप उसका बेस्‍ट लाभ कैसे ले सकती हैं। क्‍योंकि सबसे जरूरी बात है यह जानना कि आप किस तरह की दालचीनी का प्रयोग कर रहीं हैं।

यह मीठा सुगंधित मसाला, भारत में एक लोकप्रिय और आमतौर पर सबसे ज्यादा इस्तेमाल किये जाने वाले किचन इंग्रीडिएंट्स में से एक है। हजारों वर्षों से, दालचीनी का उपयोग पारंपरिक चिकित्सा में अपनी जादुई चिकित्सा शक्तियों के लिए किया जाता रहा है। आधुनिक विज्ञान ने अब उसे साबित कर दिया है जिसे हमारी दादी-नानी सदियों से जानती थीं।

कौन सी दालचीनी का सेवन है आपके लिए सही

यह दालचीनी के पेड़ की अंदरूनी छाल से बना एक मसाला है। मुख्य रूप से दो प्रकार की दालचीनी उपलब्ध होती हैं: वेरम प्रजाति (verum species), जो कि दालचीनी की वास्तविक प्रजाति है। वेरम (Verum) का अर्थ है ‘सत्य’, इस प्रकार इसे ‘सच्ची दालचीनी’ (true cinnamon) या सीलोन दालचीनी (ceylon cinnamon) भी कहा जाता है।

इन दिनों, सच्ची दालचीनी को कैसिया दालचीनी (cassia cinnamon) के रूप में भी जाना जाता है, जो कि बहुत सस्ती और सामान्यतः आसानी से उपलब्ध होती है।

दालचीनी ब्‍लड शुगर लेवल को कंट्रोल कर सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
दालचीनी शक्ति को कम न आंके। चित्र: शटरस्‍टॉक

सच्ची दालचीनी (True cinnamon) नाजुक और नरम होती है, जिसका आसानी से पाउडर बनाया जा सकता है। जबकि कैसिया एक खुरदरी और कठोर किस्म है, जिसका पाउडर बनाना मुश्किल है। सच्ची दालचीनी में कैसिया दालचीनी के कठोर और तीखे स्वाद की तुलना में अधिक कोमल और मीठा स्वाद होता है।

यह भी पढें: सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है नेचर्स सीरियल बाउल, यहां हम आपके लिए लाए हैं इसकी परफेक्ट रेसिपी

इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि कैसिया दालचीनी में कौमारिन (coumarin) नामक एक यौगिक होता है, जिसका बड़ी मात्रा में सेवन करना विषाक्त हो सकता है। यदि कैसिन दालचीनी का बहुत अधिक सेवन किया जाता है, तो कौमारिन (coumarin) की ऊपरी सीमा को पार करना काफी आसान है। इसका सिर्फ एक या दो चम्मच सेवन किसी व्यक्ति के लिए दैनिक सीमा से अधिक हो सकता है।

हालांकि कैसिया और सीलोन दालचीनी दोनों स्वस्थ हैं, क्योंकि इसकी उच्च कौमारिन के स्तर के कारण कैसिया दालचीनी का दैनिक उपयोग किया जाना असुरक्षित है। सीलोन दालचीनी में अपेक्षाकृत कम मात्रा में कौमारिन होता है। इस प्रकार, दैनिक आधार पर दालचीनी का उपयोग करने के लिए उपभोक्ताओं को सीलोन दालचीनी को चुनना चाहिए, क्योंकि इसकी गुणवत्ता बेहतर है और उपयोग करने के लिए अधिक सुरक्षित है।

इस स्वादिष्ट सुगंधित मसाले के सुरक्षित उपयोग से लोगों को निम्नलिखित स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने में मदद मिल सकती है:

  1. डायबिटीज को मैनेज करने में आपकी मदद कर सकता है

दालचीनी इंसुलिन (डायबिटीज के प्रमुख हार्मोन) के उत्पादन को नियंत्रित करने में मदद करता है और शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध को कम करता है। यह ब्लड शुगर लेवल को प्रबंधित करने में मदद करता है। अपने दैनिक आहार में एक चुटकी दालचीनी शामिल करना ग्लाइसेमिक स्तरों को सुधारने और उन्हें बनाए रखने के लिए दिखाया गया है।

  1. पाचन में सुधार करता है

आयुर्वेद में, दालचीनी को पाचन को बेहतर बनाने एक प्राकृतिक उपचार माना जाता है, जो पाचन को बढ़ावा देता है, और पेट फूलना, पेट दर्द और गैस से राहत देता है। पाचन को बढ़ावा देकर, यह पेट की चर्बी को जलाने में भी मदद करता है। इसके अलावा, यह पाचन को मजबूत करने, अवशोषण में सुधार और स्वस्थ ब्लड शुगर का समर्थन करते हुए जीआई ट्रैक्ट (GI tract) को डिटॉक्स करने में मदद करता है।

दालचीनी पेट के स्वास्थ्य में भी सुधार करती है। चित्र-शटरस्टॉक।
  1. सांस के संक्रमण (respiratory infections) के इलाज में मदद करता है

दालचीनी में सुरक्षात्मक एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में होते हैं, जो फ्री रेडिकल्स डैमेज को कम करते हैं और उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करते हैं। यह शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करता है और ऊतक को नुकसान पहुंचाने वाले एजेंटों की मरम्मत करता है।

इसके वार्मिंग गुण आराम, शांत और वायु मार्ग को साफ करने में मदद करते हैं। जिससे यह श्वसन संक्रमण (यहां तक ​​कि सामान्य सर्दी के लिए) के उपचार के हिस्से के रूप में उपयोगी होता है।

  1. गठिया के दर्द और सिरदर्द को कम करें

गठिया और सिरदर्द जैसी स्थितियों में दर्द का प्राथमिक कारण सूजन है। दालचीनी में पाए जाने वाले फ्लेवोनोइड्स पूरे शरीर में सूजन से प्रभावी रूप से लड़ते हैं और प्रणालीगत सूजन को कम करने में मदद करते हैं, जिससे गठिया के दर्द और सिरदर्द दोनों में सुधार होता है।

  1. हृदय जोखिम कारकों को कम करता है

दालचीनी उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर, उच्च ट्राइग्लिसराइड स्तर और उच्च रक्तचाप सहित कई अन्य हृदय रोग के लिए जिम्मेदार कारकों को जोखिम को कम करने में मदद करता है। जो हृदय के कामकाज को बनाए रखने और रोग मुक्त रखने में मदद करता है।

अब जानिए कि आप दालचीनी को अपने आहार में कैसे शामिल कर सकती हैं

दालचीना का पानी इसके स्वास्थ्य लाभों को प्राप्त करने के लिए सबसे अच्छा है। चित्र-शटरस्टॉक।
  1. इसे अपने आहार में शामिल करने का सबसे अच्छा तरीका है दालचीनी के पानी का सेवन। दालचीनी की छाल को रात भर पानी में भिगोकर रखें और अगले दिन इस पानी का सेवन करें।
  2. दालचीनी की चाय पिएं। एक कप काली चाय या ग्रीन टी बनाएं, उसमें एक चुटकी दालचीनी, अदरक, तीन से चार काली मिर्च, एक चम्मच कच्चा शहद और ताजे नींबू का रस मिलाएं। यह सर्दी के मौसम में आम सर्दी और खांसी के लिए सबसे अच्छा उपाय है।
  3. पुलाव की तैयारी के दौरान या नियमित रूप से चावलों को उबालते समय इसमें दालचीनी के कुछ टुकड़े डालें।
  4. दालचीनी के दिव्य स्वाद और स्वास्थ्य लाभों का आनंद लेने के लिए अपने पसंदीदा चॉकलेट मूस / केक / पुडिंग या कॉफी के ऊपर दालचीनी का पाउडर छिड़कें।

यह भी पढें: आपकी गट हेल्‍थ के लिए जरूरी हैं खमीरीकृत खाद्य पदार्थ, हम बता रहे हैं इसके 5 कारण

Parul Malhotra Bahl Parul Malhotra Bahl

Parul Malhotra Bahl is a clinical nutritionist and a certified diabetes educator with an experience of over 12 years in the health industry. She did her Post Graduate DDPHN from Delhi University followed by MSc. Nutrition from Bristol University, U.K. She has worked with multiple renowned hospitals like Medanta The Medicity, Sir Ganga Ram hospital, and Sitaram Bhartia Institute. Currently she is running her own practice under the name of Diet Expression (www.dietexpression.com)