अगर आप भी इटैलियन खाने की शौकीन हैं, तो जानिए कितना हेल्दी है आपका पसंदीदा पास्ता

पारंभ में इटली में जो पास्ता बनाया जाता था, मौजूदा पास्ता उससे बहुत अलग है। अब ये कई फ्लेवर और कई वैरायटी में उपलब्ध है। पर क्या यह वाकई हेल्दी है?
जानिए कितना सेहतमंद है पास्ता। चित्र:शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 28 November 2021, 10:00 am IST
ऐप खोलें

पास्ता ऐसी डिश है जो बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी को पसंद है। शायद ही कोई हो जिसे पास्ता खाना न पसंद हो। इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि इसका अपना कोई स्वाद नहीं होता। इसलिए आप जिस तरह इसे बनाना चाहें बना सकते हैं। ये किसी भी तरह के टेक्स्चर और स्वाद में ढल सकता है। 

अब जब यह इटैलियन डिश हर किसी के बीच इतनी पॉपुलर है, तो यह समझना बहुत ज़रूरी है कि यह सेहत के लिए कितनी हेल्दी है? पास्ता खाने से क्या लाभ होता है और क्या नुकसान यह भी आपको पास्ता लवर होने के नाते पता होना चाहिए। 

तो चलिये सबसे पहले समझ लेते हैं कि पास्ता क्या है 

मूल रूप से इटली में, पास्ता को ड्यूरम गेहूं से बनाया जाता है – इसे विभिन्न आकारों में बनाया जा सकता है, जैसे कि लंबी पतली स्ट्रिप्स या नूडल्स की तरह। कुछ लोग इसे घर पर भी बनाते हैं, लेकिन आप इसे ताजा या सुखाकर भी खरीद सकते हैं।

मूल रूप से पास्ता इटली में बनाया जाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

ताजा पास्ता मैदा, पानी और अंडे का उपयोग करके बनाया जाता है। आटा गूंथकर और फिर रोल करके मनचाहे आकार में काट लिया जाता है। ताजा पास्ता केवल एक या दो दिन तक रहता है। सुपरमार्केट में जो पास्ता आपको मिलता है उसे कई दिनों तक कम तापमान पर सूखने के लिए छोड़ दिया जाता है। जिससे इसे लंबी अवधि के लिए रखा जा सके।

अब जानिए पास्ता का पोषण मूल्य

पास्ता मुख्य रूप से एक कार्बोहाइड्रेट है, लेकिन इसमें अच्छी मात्रा में फाइबर और कुछ प्रोटीन भी होता है। होलमील पास्ता में सफेद पास्ता की तुलना में लगभग दोगुना फाइबर होता है।

पास्ता में कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन और जिंक के साथ-साथ B विटामिन सहित अच्छी खनिज सामग्री होती है।

तो क्या पास्ता हेल्दी है?

ज़्यादातर लोग रिफाइंड पास्ता का इस्तेमाल करते हैं, जो की मैदा से बना होता है। रिफाइंड पास्ता कैलोरी में अधिक और फाइबर में कम होता है। यह उच्च फाइबर, साबुत अनाज पास्ता खाने की तुलना में खाने के बाद तृप्ति की भावना को कम कर सकता है। एनसीबीआई (NCBI) के अनुसार रिफाइंड कार्ब्स खाने से हृदय रोग, उच्च रक्त शर्करा और इंसुलिन प्रतिरोध का खतरा बढ़ जाता है।

पास्ता में कार्ब्स की मात्रा अधिक होती है। उच्च-कार्ब आहार रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ा सकते हैं और मधुमेह, चयापचय सिंड्रोम और मोटापे के बढ़ते जोखिम से जुड़े हो सकते हैं। इसके अलावा पास्ता में ग्लूटेन भी हो सकता है, जो कुछ लोगों को सूट नहीं करता है। 

मगर पास्ता के कई प्रकार होते हैं

पास्ता कई तरह के आटों से बनाया जा सकता है, जो कि फायदेमंद भी होता है। होलवीट पास्ता में फाइबर, मैंगनीज और सेलेनियम की अच्छी मात्रा होती है। रिफाइंड पास्ता कैलोरी, कार्ब्स, B विटामिन और आयरन में अधिक होता है लेकिन फाइबर और अधिकांश अन्य सूक्ष्म पोषक तत्वों में कम होता है।

अच्छी सेहत के लिए पास्ता में बहुत सब्जियों का इस्तेमाल करें। चित्र:शटरस्टॉक

नेशनल पास्ता एसोसिएशन के अनुसार, पास्ता खाने वालों में आयरन, फोलेट, डाइटरी फाइबर, मैग्नीशियम सहित अन्य पोषक तत्वों का सेवन बेहतर था।

आप इन टिप्स के साथ पास्ता को हेल्दी बना सकती हैं 

  1. होल-व्हीट या मल्टीग्रेन पास्ता चुनें
  2. इसे उबालें और ताजी सब्जियों, अंडे, मीट और चीज़ के साथ पकाएं
  3. तेल का कम प्रयोग करें या अपने नियमित तेल को जैतून के तेल से बदलें। पास्ता सैलिड बहुत फिलिंग और स्वास्थ्यवर्धक होते हैं, इसलिए ज़रूर ट्राइ करें। 

तो पास्ता ज़रूर खाएं। मगर हेल्दी पास्ता चुनें और उसे अच्छी तरह से सब्जियों के साथ बनाएं। और ध्यान रखें कि हर चीज़ मॉडरेशन में ही अच्छी होती है।

यह भी पढ़ें: सेहतमंद है बाजरा, पर क्या आप जानती हैं बाजरा की रोटी खाने का सही समय!

लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
Next Story