प्रोटीन पाउडर लेने से बहुत बेहतर हैं प्रोटीन रिच फूड का सेवन, जानिए इसके फायदे 

स्वास्थ्य विशेषज्ञ मानते हैं कि प्रोटीन पाउडर लेने की बजाय प्रोटीन रिच फूड को अपने आहार में शामिल करें। इससे शरीर तंदुरुस्त होने के साथ-साथ वेट लॉस भी हो पाएगा।
प्रोटीन पाउडर से ज्यादा सेहतमंद है नेचुरल प्रोटीन। चित्र: शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published on: 10 September 2022, 14:00 pm IST
ऐप खोलें

इन दिनों प्रोटीन पाउडर लेने का चलन बढ़ा है। कई अलग-अलग ब्रांड के प्रोटीन पाउडर से बाजार भरा हुआ है। समय की व्यस्तता की वजह से ऑफिस गोअर्स प्रोटीन पाउडर घोल कर पी लेती हैं। जिम गोअर्स भी वेट और मसल्स मैनेजमेंट के लिए प्रोटीन पाउडर लेती हैं। वे इस बात को लेकर आश्वस्त रहती हैं कि प्रोटीन पाउडर पीने से उनके शरीर को पर्याप्त प्रोटीन मिल गया। अब उनका शरीर हर रोग और बीमारी से दूर रहेगा। विशेषज्ञ बताते हैं कि कई बार प्रोटीन पाउडर का शरीर पर हानिकारक प्रभाव भी पड़ सकता है। कुछ लोगों में प्रोटीन पाउडर के साइड इफेक्ट्स (Protein Powder side effect) देखे जाते हैं। तो आइए जानें प्रोटीन पाउडर और नेचुरल प्रोटीन युक्त भोजन (natural protein vs protein powder) में से क्या है ज्यादा बेहतर और क्यों। 

प्रोटीन पाउडर शरीर के लिए जरूरी है या नहीं, यह जानने के लिए हमने बात की नोएडा इंटरनेशनल इंस्टीट्यूशन ऑफ मेडिकल साइंसेज में डाइटीशियन नीलम चौहान से। आइए सबसे पहले जानते हैं हमारे शरीर के लिए प्रोटीन क्यों जरूरी है।

बॉडी बिल्डिंग ब्लॉक है प्रोटीन

डॉ. नीलम बताती हैं, ‘शरीर की वृद्धि, मांसपेशियों के निर्माण, कोशिकाओं के टूट-फूट की मरम्मत, हार्मोन के निर्माण, खून को थक्का बनाने जैसे कई महत्वपूर्ण कार्यों के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती है। कोशिकाएं प्रोटीन से बनी होती हैं। इसलिए इनके निर्माण के लिये भी प्रोटीन जरूरी होता है। इसे बॉडी बिल्डिंग ब्लॉक भी कहा जाता है। वजन कम करने के लिए भी प्रोटीन एक जरूरी न्यूट्रिएंट होता है। इसके सेवन से पेट लंबे समय तक भरा रहता है।’

कैसे बनता है प्रोटीन पाउडर (Whey Protein)

प्रोटीन पाउडर दूध, छाछ, कैसिइन, सोया, मटर, चावल, आलू, अंडे से पाउडर फॉर्म में तैयार किया जाता है। इसे पौष्टिक बनाने के लिए शुगर, विटामिन और मिनरल्स भी मिक्स किए जाते हैं। जब हम नेचुरल प्रोटीन आहार नहीं ले पाते हैं, तो उसकी मात्रा को पूरा करने के लिए पाउडर का इस्‍तेमाल किया जाता है। 

प्रोटीन पाउडर बनाने के लिए मिनरल्स और विटामिन मिलाए जाते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

इससे आपको पेट भरे होने का एहसास होगा, दिन भर एनर्जेटिक महसूस करेंगी और वजन कम करने में मदद मिलेगी। ध्यान रहे कि प्रोटीन पाउडर लेने के साथ-साथ एक्सरसाइज भी जरूरी होता है।

प्रोटीन पाउडर बढ़ाता है वजन

यदि आप ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करती हैं, तो पेट दर्द, सिर दर्द, थकान, एक्ने-पिंपल्स होने की संभावना हो सकती है। इससे शरीर में फैट की मात्रा भी बढ़ सकती है। बाजार में मिलने वाले कुछ प्रोटीन पाउडर में मेटल्स भी पाए गए हैं, जो कैंसर कारक हो सकते हैं।

डॉ. नीलम कहती हैं, ‘मैं प्रोटीन पाउडर लेने की कभी सलाह नहीं देती हूं।

वजन कम करने के लिये 0.18 -1 gm/kg बॉडी वेट प्रोटीन की जरूरत होती है। प्रोटीन की इतनी मात्रा आसानी से प्रोटीन रिच फूड लेने से मिल सकती है।’

उन्होंने प्रोटीन रिच फूड का एक चार्ट दिया, जिसमें यह बताया गया है कि कौन से प्रोटीन फूड को लेने से कितना प्रोटीन शरीर को मिलता है। 

यहां हैं नेचुरल प्रोटीन रिच फूड

टोफू-100 ग्राम- प्रोटीन 15 ग्राम

फिश 100 ग्राम- प्रोटीन 25 ग्राम

फैट फ्री पनीर 100 ग्राम- प्रोटीन 18 ग्राम

चिकन बोनलेस ब्रेस्ट 100 ग्राम- प्रोटीन 25 ग्राम

लेग्यूम्स 100 ग्राम – प्रोटीन 15 ग्राम

टोंड मिल्क 500 एमएल- प्रोटीन 18 ग्राम

1 अंडा- प्रोटीन 4.66 ग्राम

उबले अंडो को करें अपनी डाइट में शामिल। चित्र: शटरस्टॉक

पीनट्स 28 ग्राम- प्रोटीन 7 ग्राम

लेंटिल्स मिक्स दाल 100 ग्राम- प्रोटीन 18 ग्राम

सोया चंक्स 50 ग्राम- प्रोटीन 25 ग्राम

यह भी पढ़ें:-वीगन हैं ताे हेल्दी और टेस्टी बादाम मिल्क शेक रेसिपी करें ट्राई  

लेखक के बारे में
स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
Next Story