ऐप में पढ़ें

जानिए क्यों खास है मिथिला का मखाना, इसका पोषण मूल्य और स्वास्थ्य लाभ

Published on:16 December 2021, 13:10pm IST
मिथिला के मखाने का स्वाद वाकई लाजवाब है। आज हम आपको इसके स्वास्थ्य लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं।
Mithila ke makhane
मिथिला के मखाने है बहुत खास। चित्र:शटरस्टॉक

आमतौर पर उपवास में इस्तेमाल होने वाले मखाने हेल्दी स्नैकिंग का हिस्सा रहे हैं। इसके लाभकारी गुण और स्वाद इसकी लोकप्रियता को बढ़ाते हैं। अभी हाल ही में मिथिला के मखानों की जीआई टैगिंग की गई है। यानी कुछ तो खास है मिथिला के मखानों में, जो इसे औरों से खास बना देता है। तो आइए जानते हैं क्यों खास हैं मिथिला के मखाने और क्या हैं इसके स्वास्थ्य लाभ। 

क्यों खास है मिथिला का मखाना?  

मखानों ने मिथिला को पूरे विश्व में प्रसिद्ध कर दिया है। जीआई टैगिंग (GI tagging) के बाद बिहार के इस मखाने को पूरी दुनिया में मिथिला मखाना के नाम से जाना जाएगा। जीआई कुछ उत्पादों पर इस्तेमाल किया जाने वाला नाम या संकेत हैं, जो उस प्रोडक्ट के मूल भौगोलिक स्थान से मेल खाता है।

मिथिला के मखाने अपने स्वाद, पोषक तत्व और प्राकृतिक रूप से उगाए जाने के लिए प्रख्यात है। भारत के 90% मखानों का उत्पादन यहीं से होता है। लेकिन आप सोच रहे होंगे कि मिथिला ही क्यों? यह दुनिया की एकमात्र फसल है, जिसे नदी में उगाया जाता है। इस फसल को बहुत कठिनाई से उगाया जाता है। 

Makhana ko ugana difficult hai
पोषक तत्वों से भरपूर – मखाने बहुत मुश्किल से उगाए जाते हैं। चित्र:शटरस्टॉक

यह रीढ़ की हड्डी और किडनी को मजबूत करने में मदद करते हैं। अखरोट, काजू और अन्य सूखे मेवों की तुलना में इसके पोषक तत्व बहुत खास होते हैं।  

इसके पोषक तत्वों की बात करें तो फॉक्स नट्स यानी मखाने की तुलना में सब फ़ीकें पड़ जाते हैं। भारतीय व्यंजन इनका भरपूर उपयोग करते हैं। स्वादिष्ट उपचार प्रदान करने के लिए उन्हें मसालों के साथ भुना जा सकता है। 

जानिए क्या है मखाना का पोषण मूल्य 

सुपरफूड मखाना प्रोटीन और फाइबर से भरपूर और वसा में कम होता है। 100 ग्राम मखाने से लगभग 347 कैलोरी ऊर्जा मिलती है।

मखाने में करीब 9.7 ग्राम प्रोटीन और 14.5 ग्राम फाइबर होता है। यह कैल्शियम का बहुत अच्छा स्रोत है। इनमें मैग्नीशियम, पोटेशियम और फास्फोरस भी अच्छी मात्रा में होते हैं। मखाने में कुछ विटामिन कम मात्रा में भी मौजूद होते हैं।

मखाने के स्वास्थ्य लाभ  

  • फॉक्स नट यानी मखाना  कोलेस्ट्रॉल, वसा और सोडियम में कम हैं। यह उन्हें भोजन के बीच की भूख को तृप्त करने के लिए एक आदर्श नाश्ता बनाता है। 
  • उच्च रक्तचाप, हृदय रोग और मोटापे से पीड़ित लोगों के लिए उनके उच्च मैग्नीशियम और कम सोडियम सामग्री के कारण फायदा होता है। 
  • मधुमेह रोगियों के लिए मखाने की सिफारिश की जाती है, उनके कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स के कारण। 
  • इन बीजों में एक एंटी-एजिंग एंजाइम क्षतिग्रस्त प्रोटीन की मरम्मत में मदद करने के लिए जाना जाता है। 
  • इसके अलावा, केम्पफेरोल (kaempferol) नामक एक प्राकृतिक फ्लेवोनोइड (flavonoid) की उपस्थिति, सूजन को रोकने में मदद करती है और उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करती है। 
  • आयुर्वेदिक मान्यताएं  बताती हैं कि फॉक्स नट्स कसैले गुण से समृद्ध होते हैं जो किडनी को लाभ पहुंचाते हैं। 
  • मखाना लस मुक्त, प्रोटीन से भरपूर और कार्बोहाइड्रेट में उच्च होते हैं। यह ग्लूटन से अलर्जिक लोगों के लिए स्वस्थ विकल्प है। 
  • वे कैलोरी में कम होते हैं, जो उन्हें वजन घटाने के लिए एक आदर्श नाश्ता बनाते हैं।
  • आयुर्वेदिक और यूनानी चिकित्सा के अनुसार उनमें कामोत्तेजक गुण होते हैं। यह आपको दिन भर ऊर्जा प्रदान करने में मदद करते हैं। 
Healthy snack ka kaam karta hai makhana
हेल्दी स्नैक का काम करता है मखाना। चित्र:शटरस्टॉक

तो हर दिन कितने मखाने का सेवन करना चाहिए?

यह अनुमान लगाया गया है कि 100 ग्राम मखाना में लगभग 347 कैलोरी होती है। इसके अलावा, 100 ग्राम मखाना की पोषण सामग्री में 9.7 ग्राम प्रोटीन, 0.1 ग्राम वसा, 76.9 ग्राम कार्बोहाइड्रेट और 14.5 ग्राम फाइबर शामिल हैं। इसका मतलब है कि आपको अपनी आवश्यकताओं के अनुसार पर्याप्त मात्रा में उपभोग करने की आवश्यकता है। 

उदाहरण के लिए, यदि आप वजन घटाने का लक्ष्य रखते हैं, तो रोजाना 30 ग्राम फॉक्स नट का सेवन करना फायदेमंद होता है। हालांकि, अपनी विशिष्ट आवश्यकताओं के आधार पर मखाना के दैनिक सेवन को जानने के लिए, पोषण विशेषज्ञ या आहार विशेषज्ञ से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।

पर ध्यान रखें, अधिक सेवन से साइड इफेक्ट हो सकते हैं 

  • अधिक मखाना खाने से कुछ साइड इफेक्ट का भी सामना करना पड़ सकता है। जैसे: 
  • कब्ज, गैस और फूला हुआ महसूस होना जैसी पाचन संबंधी समस्याएं।
  • मधुमेह के रोगियों में इंसुलिन के स्तर में वृद्धि से रक्त शर्करा का स्तर काफी कम हो सकता है। इसलिए अधिक सेवन से बचना चाहिए।
  • मखाना कुछ लोगों में एलर्जी पैदा कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: डिनर में खाई ये 5 चीजें, तो आपकी रात हो सकती है बर्बाद

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !