आपके एजिंग पेरेंट्स के लिए किसी वरदान से कम नहीं है अखरोट, जानिए इसके स्वास्थ्य लाभ

Published on: 27 November 2021, 14:00 pm IST

सर्दियां बहुत सुहावनी होती हैं, पर आपके पेरेंट्स के लिए ये एक दर्द के साथ आती हैं। जिससे अखरोट उन्हें बचा सकता है।

walnuts ke fayde
जानिए कैसे अखरोट आपके एजिंग पेरेंट्स के लिए वरदान है। चित्र : शटरस्टॉक

सर्दियों का मौसम सभी को बहुत पसंद होता है। मगर बड़े – बूढ़ों पर यह मौसम थोड़ा कहर बरपा सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस मौसम में मांसपेशियां अकड़ने लगती हैं, जिसकी वजह से जोड़ों में दर्द रहने लगता है। यह सब इसलिए होता है क्योंकि सर्दियों के मौसम में आपकी गतिशीलता भी कम होने लगती है और वातावरण में नमी भी कम हो जाती है।

ऐसे में अगर आपके घुटनों में दर्द रहता है या आपको गठिया की समस्या है, तो आपके हृदय रोग का जोखिम भी बढ़ जाता है। रुमेटाइड अर्थराइटिस या सोरियाटिक गठिया जैसे अन्य प्रकार के सूजन संबंधी बीमारियों से ग्रस्त लोग भी इसके जोखिम में हैं।

गठिया की बीमारी और अखरोट

एनएचएस के अनुसार, गठिया एक सामान्य स्थिति है, जो सभी उम्र के लोगों को प्रभावित करती है। यूके में लगभग 10 मिलियन लोगों को गठिया है। ऑस्टियोआर्थराइटिस और रुमेटाइड गठिया सबसे आम प्रकार हैं। आप अपने दैनिक आहार में छोटे-छोटे बदलाव करके गठिया के लक्षणों को कम कर सकते हैं। ऐसा दावा किया जाता है कि नियमित रूप से अखरोट खाने से गठिया के दर्दनाक लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।

walnuts khane ke fayde
नियमित रूप से अखरोट खाने से गठिया के दर्दनाक लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

जानिए क्या कहता है अध्ययन

अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन ( U.S. Food and Drug Administration) के अध्ययन से पता चलता है कि नट्स खाने से, विशेष रूप से अखरोट आपके जोखिम को कम कर सकते हैं।

यूं तो सभी मेवे पौष्टिक होते हैं। मगर अखरोट में वास्तव में उच्च मात्रा में कैल्शियम, मैग्नीशियम, विटामिन ई, प्रोटीन और अल्फा-लिनोलेनिक होते हैं। जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देते हैं। विशेष रूप से, अखरोट ओमेगा -3 फैटी एसिड में उच्च होते हैं, जो ऑस्टियोआर्थराइटिस और रूमेटाइड गठिया दर्द को कम करने में मदद करते हैं।

घुटनों के दर्द में फायदेमंद साबित हो सकते हैं अखरोट

अखरोट कुछ प्रकार के गठिया से बचाने में मदद कर सकता है, जिसमें रुमेटाइड गठिया भी शामिल है। इनमें ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है, जो शरीर में सूजन की मात्रा को नियंत्रित करने का काम करता है।

नट्स पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। चित्र- शटरस्टॉक।
नट्स पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। चित्र- शटरस्टॉक।

अखरोट एक प्रकार की शॉर्ट-चेन ओमेगा -3 फैटी एसिड होते हैं, जो बाद में शरीर में सहायक लंबी-श्रृंखला ओमेगा -3 फैटी एसिड में परिवर्तित हो जाते हैं।

ओमेगा -3 पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड कुछ लोगों को सूजन प्रकार के गठिया जैसे रूमेटाइड गठिया, प्रतिक्रियाशील गठिया, सोराटिक गठिया और एंकिलोज़िंग स्पोंडिलाइटिस में मदद करने के लिए दिखाया गया है।

ये पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड दो मुख्य समूहों, ओमेगा -3 और ओमेगा -6 में विभाजित हैं। बहुत अधिक ओमेगा -6 शरीर में सूजन को बढ़ा सकता है। लेकिन ओमेगा -3 फैटी एसिड, विशेष रूप से लॉन्ग – चेन, सूजन संबंधी गठिया में उपयोग के लिए माना जाता है।

इसलिए इन सर्दियों में अपने एजिंग पेरेंट्स को अखरोट खिलाना न भूलें। भले ही अभी उन्हें इस दर्दनाक बीमारी ने अपनी चपेट में नहीं लिया है।

यह भी पढ़ें : सेहतमंद है बाजरा, पर क्या आप जानती हैं बाजरा की रोटी खाने का सही समय!

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें