आपके हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है हल्दी की चाय, जानिए कैसे बनानी है

ये साधारण चाय से अलग बिना शक्कर और दूध वाली हल्दी की चाय है। जो न सिर्फ आपके लिवर को दुरुस्त करती है, बल्कि हृदय के कार्य में भी सुधार लाती है।

haldi ki chay pien
हल्‍दी दर्दनिवारक गुणों से भरपूर है। चित्र: शटरस्‍टॉक
निशा कपूर Updated on: 14 September 2022, 17:03 pm IST
  • 148

स्वास्थ्य के लिए हल्दी का प्रयोग सदियों से किया जाता रहा है। यह एक आयुर्वेदिक औषधि है, जो शरीर को रोग-मुक्त रखने का कार्य कर सकती है। वहीं, इसका प्रयोग कर बनने वाली हल्दी की चाय (Turmeric Tea) भी सेहत के लिए गुणकारी मानी जाती है। असल में, इसमें हल्दी के अधिकांश गुण समाहित होते हैं, जिस वजह से इसे हल्दी के सेवन का एक फायदेमंद तरीका माना जाता है। आइए जानते हैं आपके स्वास्थ्य को कैसे फायदा पहुंचाती है हल्दी की चाय।

जानिए क्‍या है हल्‍दी की चाय ?

हल्दी की चाय सामान्य चाय की तरह ही होती है, लेकिन इस चाय में चाय पत्ती और चीनी का प्रयोग नहीं किया जाता है। इनकी जगह पानी, हल्दी, दालचीनी, अदरक, नींबू का रस और शहद का प्रयोग किया जाता है। आयुर्वेदिक सामग्रियों से युक्त यह चाय स्वास्थ्य के लिए कई प्रकार से लाभकारी हो सकती है, जिसके बारे में आगे लेख में बताया गया है।

health-benefits-of-turmeric-water.jpg
हल्दी है स्किन के लिए वरदान। चित्र शटरस्टॉक

कैसे बनाये हल्‍दी की चाय?

सामग्री- आधा चम्मच हल्दी, 1 कप पानी, चुटकी भी काली मिर्च, शहद स्वादानुसार, कुछ बूंद नींबू का रस (स्वाद के लिए)

इस तरह तैयार करें हल्दी की चाय

  • एक पैन में पानी डालकर उसे गर्म होने के लिए रख दें।
  • जैसे ही पानी गर्म हो उसमें हल्दी और काली मिर्च डालकर अच्छे से उबाल लें।
  • अब इसे किसी कप में छान लें और स्वाद के लिए नींबू का रस और शहद मिलाकर इसका सेवन करें।

जानिए आपकी सेहत के लिए कैसे फायदेमंद है हल्‍दी की चाय

1 लिवर को डिटॉक्स करने के लिए

लिवर से विषाक्त तत्व निकालने और लिवर को डिटॉक्सीफाई करने में हल्दी की चाय मददगार हो सकती है। इस विषय पर चूहों पर एक स्टडी की गयी, जिसे एनसीबीआई (National Center for Biotechnology Information) की वेबसाइट पर प्रकाशित एक रिसर्च के मुताबिक, हल्दी में एंटीऑक्सीडेंट और डिटॉक्सिफिकेशन गुण पाए जाते हैं। हल्दी में पाए जाने वाले ये गुण मरकरी युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन, खासतौर पर सी फूड के सेवन की वजह से होने वाली लिवर टॉक्सिटी से बचाव में सहायता कर सकते हैं।

2 हृदय के लिए फायदेमंद

हल्दी का प्रयोग हृदय को स्वस्थ रखने में भी मददगार हो सकता है। रिसर्च के मुताबिक, सूजन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस की वजह से हार्ट फेल होने का जोखिम बढ़ सकता है। यहां हल्दी की चाय के कुछ हद तक फायदे देखे जा सकते हैं।

ye apki heart health ke liye achchhi hai
हेल्दी हार्ट के लिए हल्दी की चाय का सेवन करें। चित्र : शटरस्टॉक

असल में, हल्दी का सबसे महत्वपूर्ण घटक करक्यूमिन में एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होते हैं। ये गुण सूजन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने में लाभदायक हो सकते हैं, जिस वजह से इसके उपयोग से हृदय रोग के जोखिम को दूर किया जा सकता है।

इसके अतिरिक्त, करक्यूमिन एक कार्डियोवास्कुलर प्रोटेक्टिव एजेंट (हृदय की सुरक्षा करने वाला) की तरह भी कार्य कर सकता है।

3 डायबिटीज में भी है फायदेमंद

हल्दी की चाय का सेवन डायबिटीज के जोखिम को भी कम करने में मदद कर सकता है। रिसर्च में पाया गया कि हल्दी के जरूरी घटक करक्यूमिन में डायबिटीज की परेशानी को कम करने की क्षमता पाई जाती है।

करक्यूमिन में पाई जाने वाली इस क्षमता के पीछे इसमें मौजूद एंटीडायबिटिक गुण कार्य करते हैं। एंटीडायबिटिक गुण रक्त में मौजूद ग्लूकोज के स्तर को कम करने में सहायक हो सकते हैं, जिससे डायबिटीज को नियंत्रित किया जा सकता है।

diabetes aur breakfast
डायबिटीज में समय पर नाश्ता करना ज़रूरी है। चित्र : शटरस्टॉक

4 कैंसर से बचाती है

कैंसर के जोखिम से बचने के लिए हल्दी की चाय का सेवन किया जा सकता है। शोध के मुताबिक, हल्दी में पाया जाने वाला करक्यूमिन ट्यूमर सेल्स को कम करके उसके प्रसार को रोकने में सहायता कर सकता है। इसमें एंटीकैंसर गुण मौजूद होते हैं।

हल्दी में पाया जाने वाला यह गुण प्रोस्टेट, कोलन, स्तन, अग्नाशय और मस्तिष्क के कैंसर के जोखिम से बचाव कर सकता है। लेकिन यह ध्यान रखें कि हल्दी की चाय किसी भी प्रकार से कैंसर का इलाज नहीं है। यदि किसी को कैंसर है, तो उस व्यक्ति के लिए डॉक्टरी इलाज ही पहली प्राथमिकता होनी चाहिए।

इन बातों का रखें ध्यान

  • ज्यादा मात्रा में इसके सेवन से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल अपसेट (जैसे कब्ज और दस्त) सीने में जकड़न, स्किन पर चकत्ते और स्किन की सूजन की समस्या हो सकती है।
  • हल्दी की चाय में पाए जाने वाले करक्यूमिन से एलर्जी की परेशानी भी हो सकती है।
  • इसकी ज्यादा मात्रा लिवर टॉक्सिटी की वजह भी बन सकती है।

यह भी पढ़े- क्या आपके घुंघराले बाल भी झाड़ू की तरह दिखने लगे हैं? तो इन 3 हेयर मास्क से दें उन्हें सही पोषण

  • 148
लेखक के बारे में
निशा कपूर निशा कपूर

देसी फूड, देसी स्टाइल, प्रोग्रेसिव सोच, खूब घूमना और सफर में कुछ अच्छी किताबें पढ़ना, यही है निशा का स्वैग।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory