इम्यूनिटी बूस्टर फूड है अमरूद, यहां जानें अमरूद से बनी एक खास मिठाई गोईबाड़ा की रेसिपी

ब्लड शुगर लेवल और डाइजेस्टिव हेल्थ के लिए फायदेमंद होने के साथ ही अमरूद पीरियड क्रैम्प्स को भी नियंत्रित रखता है। यहां है अमरूद से बनी स्वादिष्ट मिठाई की आसान सी रेसिपी।

guava recipe
इम्यूनिटी बूस्टर फूड है अमरूद। चित्र शटरस्टॉक।
अंजलि कुमारी Published on: 1 September 2022, 14:00 pm IST
  • 137

अमरूद का सीजन शुरू हो चुका है। बरसात और गर्मी में तरह-तरह के फल खाने के बाद अब अमरूद का लुत्फ उठाने की बारी है। अमरूद को न केवल फल के रूप में खाया जाता है बल्कि विभिन्न प्रकार के मीठे व्यंजनों को बनाने में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है। इतना ही नहीं मीठे के साथ अमरूद से बनी नमकीन चटनी भी सब को काफी पसंद होती है। आज हम आपके लिए लेकर आए हैं, अमरूद से बनी खास मिठाई गोइबाड़ा (Goiabada)। ये न केवल आपके त्योहारों में मिठास घोल देगी, बल्कि आपको अमरूद के पोषक तत्व भी देगी।

रेसिपी से पहले जान लेते हैं अमरूद के फायदे

1. ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखे

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित अध्ययन के अनुसार अमरूद ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखता है। इसके साथ ही इन्सुलिन रेजिस्टेंस को भी कंट्रोल करता है। वहीं एक अध्ययन मे अमरूद की पत्तियों से बनी चाय के फायदों के बारे में बताया गया, यह चाय डायबिटीज के मरीजों के ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखती हैं।

guava benefits in periods cramps
पीरियड्स के दर्द से राहत पाने में मदगार। चित्र: शटरस्‍टॉक

2. पीरियड्स क्रैम्प्स में राहत देता है

पीरियड्स के दौरान महिलाएं क्रैम्प्स से काफी ज्यादा परेशान रहती हैं। वहीं पेट दर्द उनकी नियमित दिनचर्या को बुरी तरह प्रभावित करता है। ऐसे में अमरूद का सेवन इसमें आपकी मदद कर सकता है। इसके साथ ही नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार अमरूद की पत्तियां पीरियड्स पेन में काफी ज्यादा असरदार हो सकती हैं।

3. डाइजेस्टिव हेल्थ को बनाए रखे

अमरूद में पर्याप्त मात्रा में डाइटरी फाइबर मौजूद होते हैं। जो गट हेल्थ के लिए काफी ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। इतना ही नहीं यह कॉन्स्टिपेशन जैसी पेट से जुड़ी कई अन्य समस्याओं का भी उपचार हो सकता है।

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार अमरूद का पल्प डाइजेस्टिव हेल्थ के लिए फायदेमंद होता है। साथ ही यह डायरिया की इंटेंसिटी को भी कम कर सकता हैं।

guava benefits
पाचन को मजबूत बनाने के लिए प्रभावी माना जाता है। चित्र: शटरस्टॉक

4. अमरुद में एंटी कैंसर इफेक्ट पाए जाते हैं

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के अनुसार अमरूद का सेवन कैंसर सेल्स को बढ़ने से रोकता है। अमरूद में एंटी ऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा मौजूद होती है, जो कि फ्री रेडिकल्स से होने वाले सेल डैमेज से बचाव का काम करता है।

सेल्स डैमेज कैंसर का एक प्रमुख कारण होता है। पब मेड सेंट्रल द्वरा की गई रिसर्च की मानें, तो अमरूद की पत्तियों से बना तेल भी कैंसर से बचाव में काफी ज्यादा प्रभावी होता है।

5. इम्यूनिटी बूस्ट करने में मददगार

अमरूद विटामिन सी का एक बेहतरीन स्रोत है। शरीर में विटामिन सी की पर्याप्त मात्रा इंफेक्शन और बीमारियों की संभावना को कम कर देती है। नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार विटामिन सी इम्यून हेल्थ को बनाए रखता है। विटामिन सी कोल्ड एंड कफ जैसी समस्याओं की अवधि को भी कम कर सकता है। इसमें एंटीमाइक्रोबॉयल बेनिफिट्स होते हैं, जो शरीर में मौजूद बैड बैक्टीरिया और वायरस से फैलने वाले इन्फेक्शन को रोकने का काम करते हैं।

amarud khane se vitamic c milta hai
अमरूद में है भरपूर विटामिन सी । चित्र: शटरस्‍टॉक

तो अब नोट कीजिए अमरुद से बनी मिठाई “गोईबाड़ा” की रेसिपी

इसके लिए आपको चाहिए

लाल अमरूद

पानी

ब्राउन शुगर

बटर या घी

इन स्टेप्स के साथ तैयार करें गोईबाड़ा (How to make goiabada, guava sweet)

1 सबसे पहले अमरूद को अच्छी तरह धो लें और इसे छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें। अब इन टुकड़ों को बॉईल कर लें, या अच्छी तरह ब्लेंड कर लें।

2 इसके बाद यदि आप इसे उबाल रहीं हैं, तो उबल जाने के बाद इसका पेस्ट तैयार करें। अगर आपने इसे ब्लेंड किया है, तो ब्लेंड करने के बाद इसे कॉटन के कपड़े या छननी से अच्छी तरह छान लें, ताकि बीज के अंश बाहर आ जाए।

amrood ke fayde
सबसे पहले अमरूद को अच्छी तरह धो लें और इसे छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें। चित्र शटरस्टॉक।

3 अब एक नॉन स्टिक पैन को मध्यम आंच पर चढ़ाएं और उसमें हल्का सा घी लगाएं। अब इस पेस्ट को उसमें डाल कर अच्छी तरह चलाती रहें। ध्यान रहे कि यह नीचे पैन में न चिपके।

4 जब अमरूद के पेस्ट का पानी पूरी तरह सूख जाए, तो इसमें ब्राउन शुगर मिलाएं और इसे वापस से चलाना शुरु कर दें। धीरे-धीरे आपको मिक्सचर की रंगत और कंसिस्टेंसी में बदलाव नजर आएगा।

5 इसे तब तक अच्छी तरह चलाती रहें। जब तक यह खुद कड़ाही के किनारों को नहीं छोड़ने लगे साथ ही इसकी कंसिस्टेंसी भी गाढ़ी हो जाएगी। फिर गैस बंद कर दें।

6 अब एक ट्रे लें उसके नीचे सतह पर घी और मक्खन लगा लें। फिर इस पेस्ट को इसमें निकाल लें और इसे कुछ देर ठंडा होने के लिए छोड़ दें। फिर इसे पतले पतले स्लाइस में काट लें।

7 आपका गोईबाड़ा बनकर तैयार है। यह आसान सी रेसिपी आप सभी को बहुत पसंद आएगी, तो जल्दी से ट्राई करें।

यह भी पढ़ें : मिलेट ईयर को सेलिब्रेट करने के लिए नोट करें बाजरा डोसा की ये हेल्दी रेसिपी

  • 137
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी- नई दिल्ली में जर्नलिज़्म की छात्रा अंजलि फूड, ब्लॉगिंग, ट्रैवल और आध्यात्मिक किताबों में रुचि रखती हैं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory