डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है काले चने का पानी, जानिए कैसे करना है सेवन

Published on: 3 April 2022, 10:00 am IST

क्या आप जानती हैं कि प्रोटीन युक्त काले चने डायबिटीज़ को भी नियंत्रित रखने में मदद कर सकते हैं? चलिये जानते हैं डायबिटीज के मरीजों के लिए कैसे फायदेमंद है काल एचने का पानी।

diabetes mein faydemand hai chane ka paani
चने का स्वाद ही अलग होता है। चित्र : शटरस्टॉक

मधुमेह इन दिनों एक आम स्वास्थ्य स्थिति बन गई है। हर दूसरा व्यक्ति मधुमेह से पीड़ित है जिससे सामान्य जीवन जीना मुश्किल हो रहा है। मधुमेह के रोगी को क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, इसका बहुत ध्यान रखना पड़ता है। उन्हें अपने ब्लड शुगर के स्तर (Blood Sugar level) पर प्रत्येक भोजन के प्रभाव की सावधानीपूर्वक जांच करने की आवश्यकता है। ऐसे कई टिप्स और जीवनशैली में बदलाव हैं जो मधुमेह (Diabetes) को प्रबंधित करने में फायदेमंद हैं।

कुछ खाद्य पदार्थ आपके रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में आपकी मदद कर सकते हैं जिन्हें आप अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं। ऐसा ही एक फूड है काला चना। काला चना लोकप्रिय रूप से प्रोटीन के अच्छे स्रोत के रूप में जाना जाता है। मगर क्या आप जानते हैं कि काले चने का पानी डायबिटीज़ में और भी ज़्यादा फायदेमंद है? हम बताते हैं कैसे –

डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है काले चने का पानी

काला चना मधुमेह रोगियों के लिए एक आदर्श भोजन है। काले चने की एक सर्विंग में 13 ग्राम डाइटरी फाइबर होता है। उच्च फाइबर सामग्री बेहतर रक्त शर्करा के स्तर में योगदान करती है। इसमें घुलनशील और अघुलनशील दोनों तरह के फाइबर होते हैं। तो, अपने रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रण में रखने के लिए आपको बस एक कप काले चने की आवश्यकता है।

सिर्फ मधुमेह ही नहीं, यह आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर (Cholesterol Level) को प्रबंधित करने में भी आपकी मदद करेगा। अगर आप वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं तो काला चना आपके लिए एक अच्छा विकल्प है। इसकी फाइबर सामग्री वजन घटाने को भी बढ़ावा देगी और आपकी पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करेगी।

ब्लड शुगर को नियमित करता है

काले चने में जटिल कार्ब्स धीरे-धीरे पचते हैं और घुलनशील फाइबर रक्त में शर्करा के अवशोषण को नियंत्रित करते हैं। छोले का निम्न ग्लाइसेमिक इंडेक्स (Glycemic Index) 28 है, यह रक्त शर्करा में अचानक वृद्धि को रोकता है, आपको लंबे समय तक तृप्त रखता है और इस प्रकार भूख के दर्द से बचता है।

black gram water
सुबह खली पेट चने का पानी पीने से डायबिटीज कम हो सकती है. चित्र : शटरस्टॉक

दिल को स्वस्थ रखता है

काले चने एंटीऑक्सिडेंट, एंथोसायनिन, साइनाइडिन, डेलफिंडिन, फाइटोन्यूट्रिएंट्स का एक अच्छा मिश्रण हैं जो स्वस्थ रक्त वाहिकाओं को बनाए रखने में मदद करते हैं। फोलेट, मैग्नीशियम और अन्य खनिजों से भरपूर होने के कारण, ये फलियां धमनियों, रक्त के थक्कों में पट्टिका के निर्माण को रोकती हैं। अच्छे हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए दिन में कम से कम दो बार अपने आहार में काले चने का पानी शामिल करें।

आयुर्वेद भी मानता है काले चने के फायदों को

आयुर्वेद के अनुसार, काला चना तीनों दोषों – वात, कफ और पित्त को संतुलित करता है। प्राचीन चिकित्सा में चना को पचाने में आसान लेकिन कब्ज पैदा करने वाला बताया गया है। जबकि यह पित्त और कफ दोषों को प्रभावी ढंग से संतुलित करता है, यह वात दोष को भी बढ़ाता है और शरीर के उच्च तापमान और रक्त संबंधी समस्याओं से पीड़ित लोगों के लिए अनुशंसित है।

कैसे तैयार करें काले चने का पानी

आप काले चनों को रातभर भिगोने के लिए रख दें। इसे पानी सहित उबाल लें, चाहें तो इसमें और पानी भी डाल सकती हैं। चने के पकने का इंतज़ार करें और पानी को छान लें। चने का पानी तैयार है। आप इसमें थोड़ा सा नींबू या काला नमक भी मिला सकती हैं, इससे इसका स्वाद और बढ़ जाएगा।

यह भी पढ़ें : साधारण नमक को करें सेंधा नमक से रिप्लेस, आपकी सेहत को ये 5 लाभ दे सकता है सेंधा नमक का सेवन

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें