वैलनेस
स्टोर

ब्लोटिंग की समस्या को दूर करने में मदद करेंगे क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्‍ट के बताए ये 5 टिप्‍स 

Published on:12 February 2021, 09:00am IST
एक क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट ब्लोटिंग सी समस्या को दूर रखने के कुछ सरल तरीकों का खुलासा करते है, जो यह सुनिश्चित करता है कि आपका पेट स्वस्थ रहे।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 83 Likes
आपको अपने पेट का अधिक ख्याल रखने की जरूरत है। चित्र-शटरस्टॉक।

क्या आपको भोजन के बाद असहज महसूस हुआ है? अगर यह असुविधा आपके जीवन का एक नियमित हिस्सा बन गई है, तो आपको इसके पीछे के कारणों के बारे में जानने की जरूरत है। इसका कारण यह हो सकता है कि आपने जो खाया वह सही नहीं था या यह कि आपका पाचन तंत्र अच्छी तरह काम नहीं कर रहा है। यह दोनों के संयोजन के कारण भी हो सकता है।

एक डिस्‍टर्ब पाचन के क्या लक्षण हैं

खराब पाचन तंत्र से जुड़े लक्षणों में एसिडिटी, रिफ्लक्स, ब्लोटिंग, पेट दर्द, संक्रमण शामिल हैं और कुछ मामलों में आपको निरंतर गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संकट के परिणामस्वरूप माइग्रेन का अनुभव हो सकता है। आखिरकार, मन और आंत का एक अभिन्न संबंध है, जिसके बारे में हम में से अधिकांश लोग नहीं जानते हैं।

तो, हम यह कैसे सुनिश्चित कर सकते हैं कि हमारा पेट स्वस्थ रहे?

आप देखते हैं, यह सुनिश्चित करते हुए कि आपकी प्लेट की सामग्री में उच्चतम गुणवत्ता वाली सामग्री में  बेहतर पोषण होना आवश्यक है। यह बदले में आपके पेट को अच्‍छा रखता है। इसलिए, हमारे सभी पाचन मुद्दों की जड़ में हमारे भोजन की प्रकृति है। इसका मतलब यह है कि हम वह भोजन नहीं खा रहे हैं जो आंत के लिए है।

यह भी पढ़ें:

ऐसे आहार का सेवन करना जो वर्तमान में चलन पर आधारित है, बजाय इसके कि जैविक रूप से शरीर के लिए अधिक अनुकूल है, जैसा कि आम तौर पर देखा जाता है। उदाहरण के लिए, हम नियमित रूप से ऐसे लोगों के सामने आते हैं जो हमें बताते हैं कि वे अपनी एसिडिटी (acidity) को कम करने के लिए दूध का सेवन करते हैं। जब उनसे इस बारे में पूछा जाता है, तो वह बताते हैं कि उनके माता-पिता ने उन्हें इस इलाज के बारे में बताया है!

ब्लोटिंग बहुत गंभीर समस्या है। चित्र: शटरस्‍टॉक

खैर, सच्चाई यह है कि दूध एसिडिटी (acidity) को कम नहीं करता है, बल्कि आंत पर अत्यधिक अम्लीय प्रभाव (acidic effect) डालकर नुकसान पहुंचाता है। यह दूध का ठंडा तापमान है जो इससे अस्थायी राहत देता है, लेकिन एक सेलुलर और नैदानिक ​​स्तर पर, यह अम्लीय खाद्य पदार्थों की सूची में मांस के बाद में है।

तो जानिए कि आप अपने पेट का ख्‍याल कैसे रख सकते हैं 

इसका एकमात्र समाधान घर का बना ताजा भोजन है। हम एक स्वस्थ आंत और आपके समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए कुछ परिवर्तनों को उजागर करने जा रहे हैं:

  1. पहले के सामान्य संदिग्धों को समाप्त करने के साथ इसे शुरू करें। आपको निश्चित रूप से ब्रेड और चीनी जैसे प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों में कटौती करने की आवश्यकता है। उन्हें कुछ अनाज, जैसे बाजरा, रागी, ज्वार, गेहूं की उबालें, और जई के साथ बदलें।
  2. सोया और उसके डेरिवेटिव जैसे आनुवंशिक रूप से संशोधित खाद्य पदार्थों का सेवन करने के बजाय, मटर, ब्रोकोली और मशरूम जैसे अन्य प्रोटीन युक्त शाकाहारी खाद्य पदार्थ लें। घुलनशील और अघुलनशील फाइबर आंत के सूक्ष्मजीव को बेहतर बनाने में मदद करेंगे, जो बदले में आंत के स्वास्थ्य को बढ़ावा देंगे।
  3. अपनी दैनिक दालों और फलियों में लहसुन और हींग को जोड़ना ब्लोटिंग और पेट फूलने की समस्या से राहत प्रदान करेगा।
  4. पशु आधारित प्रोटीन का सेवन सूजन का कारण बनता है। आप यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपके जठरांत्र संबंधी मार्ग स्वस्थ और स्वच्छ रहे, इसके लिए आप दूध आधारित खाद्य पदार्थों और मीट की खपत को समाप्त या कम कर सकते हैं। इसके बजाय, बादाम दूध और नट्स जैसे विकल्पों का सेवन करें।
  5. अपने आहार में अदरक, अजवाईन, हल्दी और काली मिर्च के साथ हर्बल चाय को शामिल करने से भी सूजन को कम करने में मदद मिलेगी। वास्तव में, ये मसाले हर भारतीय रसोई में आसानी से उपलब्ध है। हमें अपने दैनिक पोषक तत्वों को प्राप्त करने की समस्या को हल करने के लिए बाहर जाने, विदेशी सामग्रियों को खरीदने और उन पर अधिक खर्च करने की आवश्यकता नहीं है।

यह भी पढ़ें:

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।