हर मील के बाद जानिए क्यों होती है एक हेल्दी स्नैक्स की जरूरत, एक्सपर्ट बता रहीं हैं 5 कारण 

दाल-चावल, रोटी-सब्जी मूलत: कार्ब्स आधारित आहार हैं। पर जब आप हर मील के के कुछ घंटों बाद नट्स, सीड्स, फल या कुछ और हेल्दी स्नैक्स लेती हैं, तो ये आपको माइक्रो और मैक्रो न्यूट्रीएंट्स की भी आपूर्ति करते हैं।  

फल, कम फैट वाले डेयरी प्रोडक्ट्स, नट्स, फलियां और साबुत अनाज ऐसे स्नैक्स के उदाहरण हैं, जो आवश्यक मिनरल्स और न्यूट्रीएंट्स से भरपूर होते हैं। चित्र: शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published on: 23 August 2022, 16:55 pm IST
  • 128

क्या आप हर मील के बाद अपने लिए कॉफी का कप तैयार करने लगती हैं? या उस छोटी सी भूख को शांत करने के लिए आप चिप्स या वैफर्स का पैकेट खोल लेती हैं? अगर ऐसा है तो आप वजन बढ़ने, डायबिटीज रिस्क और असंतुलित ब्लड प्रेशर के लिए तैयार हो जाइए। हमें दिन भर काम करने के लिए न सिर्फ अच्छे भोजन की जरूरत होती है, बल्कि हेल्दी स्नैकिंग भी उतनी ही जरूरी है। जब आप इसे नजरंदाज करती हैं, तो आपको अपनी सेहत के साथ बहुत सारी समस्याएं महसूस होने लगती हैं। इसलिए यह जरूरी है कि आप हर दो मुख्य भोजनों के बीच आप एक हेल्दी स्नैक्स (benefits of snacking between meals) को चुनें। इसके लिए एक्सपर्ट आपको 5 अच्छे कारण बता रहीं हैं। 

मुख्य भोजन और छोटी भूख 

भोजन लेने के कुछ घंटों बाद हमें हल्की भूख लगने लगती है। इसलिए कुछ भी लेकर हम मंचिंग करने लगते हैं। दो डाइट के बीच के समय में हम जो स्नैक्स लेते हैं, ज्यादातर वह हेल्दी नहीं होता है। हममें से ज्यादातर लोग स्नैक्स में कुछ तला-भुना लेने लगते हैं। यह छोटी सी गलती आपकी वेट लॉस यात्रा को बाधित कर सकती है। 

इसलिए हमें स्नैक्स में कुछ ऐसे फूड्स को शामिल करना चाहिए, जो न सिर्फ ब्लड शुगर और वेट लॉस को संतुलित बनाए रखे, बल्कि पेट भरा होने का भी अहसास कराएं। यदि आप हेल्दी स्नैक्स का चुनाव करती हैं, तो उनमें एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन, मिनरल्स, फाइटोन्यूट्रिएंट्स और हेल्दी फैट भी मौजूद हो सकते (benefits of snacking between meals) हैं। हमें खाने की खराब आदत को खत्म करने के साथ-साथ कैलोरी भी कम लेनी होगी और रशरीर में न्यूट्रीशन को भी बढ़ाना होगा।

5 कारण कि दो मील के बीच क्यों जरूरी है हेल्दी स्नैकिंग 

डाइट के बीच हेल्दी स्नैक्स लेना क्यों जरूरी है, इसके लिए हमने बात की जिंदल नेचरक्योर इंस्टीट्यूट, बंगलुरू में चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉ बबीना एनएम से। उन्होंने बताया कि शरीर को संपूर्ण पोषक तत्व प्रदान करने के लिए हेल्दी स्नैकिंग जरूरी है। नियमित अंतराल पर हेल्दी स्नैक्स लेना हर उम्र और हर वर्ग के व्यक्ति के लिए जरूरी है। 

1 ये क्रेविंग्स को कम करते हैं (Decrease Cravings)

यदि भूख लगने पर शरीर को खाना नहीं मिलता है, तो यह फास्टिंग करना शुरू कर देता है। इससे मेटाबॉलिज्म और दूसरी शारीरिक प्रक्रियाएं भी कम हो जाती हैं। अंततः ओवरईटिंग ट्रिगर हो जाती है और इसके परिणामस्वरूप वजन बढ़ता है। 

फल, कम फैट वाले डेयरी प्रोडक्ट्स, नट्स, फलियां और साबुत अनाज ऐसे स्नैक्स के उदाहरण हैं, जो आवश्यक मिनरल्स और न्यूट्रीएंट्स से भरपूर होते हैं। यह लंबे समय तक पेट भरा होने का अहसास करवाते हैं। पौष्टिक इंडियन स्नैक्स का चयन करके कोई भी अपनी स्वीट डिजायर या कैफीन एडिक्शन के आगे झुकने से बच सकता है।

2  संतुलित करते हैं ब्लड ग्लूकोज लेवल (maintain Blood sugar level) 

विशेष रूप से टाइप 2 डायबिटीज, ओबेसिटी, हार्ट डिजीज और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से ग्रस्त लोगों को ब्लड शुगर लेवल बनाए रखना पड़ता है। इसके लिए नियमित अंतराल पर पौष्टिक स्नैक्स खाने की जरूरत पड़ती है। जिन्हें डायबिटीज नहीं है, उन्हें भी हर दिन सही समय पर हेल्दी स्नैक्स लेना चाहिए, क्योंकि बहुत देर तक बिना भोजन के रहने से ब्लड शुगर लेवल में अचानक वृद्धि या गिरावट हो सकती है। इससे समय के साथ व्यक्ति इंसुलिन के प्रति कम रेस्पॉन्सिव बन सकता है।

3 वेट कंट्रोल करता है (Weight Control)

आपने पाया होगा कि आप कभी-कभी ऑफिस वर्क या दूसरी जिम्मेदारियों की वजह से लंबे समय तक खाना नहीं खाती हैं, तो खाते ही भोजन के माध्यम से बहुत सारा कार्बोहाइड्रेट एक बार में ले लेती हैं। 

raat ka snacks
रात में भी हेल्दी स्नैक्स ले सकती हैं। चित्र: शटरस्टॉक

हालांकि अनहेल्दी ढंग से लिया गया यह फूड शुरू में तो स्वादिष्ट लगता है, लेकिन बाद में यह वजन बढ़ा देता है। जिसे खत्म करना मुश्किल हो जाता है। भोजन लेने के बाद हर 2-3 घंटे में स्नैक्स लेकर आप वजन को नियंत्रित कर सकती हैं। इससे अधिक खाने और अनहेल्दी फूड्स लेने से भी आप बची रहती हैं। 

4 प्रोडक्टिविटी में सुधार (Improving Productivity) :

सभी कार्यों के लिए एनर्जी महत्वपूर्ण है। यहां तक कि लैपटाॅप पर काम करने के लिए भी आपको एनर्जी चाहिए होती है। दिन के दौरान समय-समय पर एक बाउल फल या मुट्ठी भर मेवे खाने से आपको ये आवश्यक अतिरिक्त एनर्जी मिल जाती है। जिससे मस्तिष्क की गतिविधि और सामान्य प्रभावशीलता को बढ़ावा मिलता है।

aankhon ko swasth rakhne ke liye khaen ye foods
नट्स हमें भरपूर एनर्जी देते हैं। चित्र:शटरस्टॉक

5 नहीं होती है पोषक तत्वों (Nutrients) की कमी 

असल में जब आप स्नैक्स में फल, सलाद या सूखे मेवों का चयन करती हैं, तो आपको वे पोषक तत्व भी मिल पाते हैं, जो आपको रोटी-सब्जी या दाल-चावल से नहीं मिल पा रहे होते। हेल्दी स्नैक्स आपको जरूरी पोषक तत्व और खनिजों की आपूर्ति करने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़ें:-हर उम्र में दिखना चाहती हैं युवा और खूबसूरत, तो फॉलो करें 5 टिप्स

  • 128
लेखक के बारे में
स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory