लॉग इन

दाल को पकाने से पहले भिगोने से मिलेंगे ये 5 फायदे, जानिए कितनी देर भिगोनी है दाल

सूखे बीन्स और छोले को पकाने से पहले साफ करके भिगोना चाहिए। अपने छोटे आकार के कारण, सूखे मटर और दाल को आमतौर पर भिगोने की आवश्यकता नहीं होती है। फिर भी, आप अतिरिक्त स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के लिए उन्हें भिगो सकते हैं।
सूखे बीन्स और छोले को पकाने से पहले साफ करके भिगोना चाहिए। चित्र : शटरकॉक
संध्या सिंह Updated: 10 Jun 2024, 09:24 am IST
ऐप खोलें

राजमा, छोले, काले चनों को पाकाने से पहले रात भर या कुछ घंटो के लिए भिगोना पड़ता है ताकि ये सॉफ्ट हो जाए और पकने में कम समय लगे। लेकिन दालों को पकाने से पहले हम में से कई लोग उसे नहीं भिगोते है। लेकिन क्या दाल को भी पकाने से पहले भिगोना चाहिए? क्या सच में इससे कुछ फायदा या लाभ होता है।

सूखे बीन्स प्रोटीन, फाइबर, स्टार्च, आयरन, बी विटामिन, पोटेशियम, मैग्नीशियम और अन्य आवश्यक पोषक तत्वों का एक, किफायती स्रोत हैं। जब आप सूखे बीन्स को भीगोते है, तो आप सोडियम और अन्य योजकों से बच सकते हैं जो डिब्बाबंद बीन्स में होते हैं। खाना पकाने की तैयारी में बीन्स को नरम करने और उनके पकने के समय को कम करने के अलावा, बीन्स को भिगोने से वे अधिक पचने योग्य हो सकते हैं और उनके पोषण संबंधी लाभ बढ़ सकते हैं।

क्या आपको बीन्स को पकाने से पहले भिगोना पड़ता है

सूखे बीन्स और छोले को पकाने से पहले साफ करके भिगोना चाहिए। अपने छोटे आकार के कारण, सूखे मटर और दाल को आमतौर पर भिगोने की आवश्यकता नहीं होती है। फिर भी, आप अतिरिक्त स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के लिए उन्हें भिगो सकते हैं। डिब्बाबंद बीन्स, मटर और दाल को भिगोने की आवश्यकता नहीं होती है क्योंकि उन्हें डिब्बाबंदी प्रक्रिया के दौरान पहले से पकाया जाता है।

कम कैलोरी होने के कारण छोले चना वजन घटाने में कारगर है। चित्र: शटरस्टॉक

बीन्स को पकाने से पहले भिगोने से उन्हें पानी सोखने और समान रूप से पकने में मदद मिलती है। इससे पकाने का समय कम हो जाता है।

बीन्स भिगोने के फायदे

1 पाचन संबंधी समस्याओं को कम करें

बीन्स में ऑलिगोसेकेराइड्स होते हैं, जो कार्बोहाइड्रेट का एक वर्ग है जिसे पचाना आपके शरीर के लिए चुनौतीपूर्ण हो सकता है। इससे संभावित रूप से गैस, सूजन, पेट दर्द, सूजन और दस्त जैसी पाचन संबंधी परेशानी हो सकती है। बीन्स को भिगोने से पानी में कुछ ऑलिगोसेकेराइड्स निकलकर इन दुष्प्रभावों को कम करने में मदद मिल सकती है।

2 एंटीन्यूट्रिएंट्स को कम करें

बीन्स में एंटीन्यूट्रिएंट्स नामक यौगिक होते हैं जो पोषक तत्वों के अवशोषण में बाधा डालते हैं। जैसे लेक्टिन, जो बीन्स को सही तरीके से न पकाने पर पाचन संबंधी समस्याएं पैदा कर सकते हैं। फाइटिक एसिड, जो आयरन, कैल्शियम और जिंक को पकड़ सकता है, जिससे शरीर के लिए उनका उपयोग करना मुश्किल हो जाता है। और टैनिन, जो शरीर के लिए प्रोटीन को पचाना और विटामिन और खनिजों को अवशोषित करना कठिन बना सकते हैं।

बीन्स को भिगोने या पकाने से पाचन क्षमता में सुधार हो सकता है और एंटीन्यूट्रिएंट्स को कम करके पोषण की गुणवत्ता बढ़ सकती है। यह कमी बीन्स के प्रकार और भिगोने के समय के आधार पर अलग-अलग होती है।

3 खाना पकाने का समय कम हो जाता है

बीन्स को भिगोने से खाना पकाने का समय काफी कम हो जाता है। सूखे बीन्स काफी सख्त होते हैं और उन्हें पकने में कई घंटे लग सकते हैं। भिगोने पर, वे पानी सोख लेते हैं और नरम होने लगते हैं, जिससे वे अधिक तेज़ी से और समान रूप से पकते हैं। इससे न केवल समय की बचत होती है, बल्कि ऊर्जा की भी बचत होती है, जिससे खाना पकाने की प्रक्रिया अधिक कुशल हो जाती है।

4 बेहतर स्वाद और टेक्सचर

बीन्स को भिगोने से उनका स्वाद और टेक्सचर बढ़ सकती है। पहले से भिगोए गए बीन्स अधिक समान रूप से पकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप एक नरम और अधिक कोमल होते है। यह उन व्यंजनों में अंतर ला सकता है जहां बीन्स की टेक्सचर महत्वपूर्ण होता है, जैसे सूप, स्टू और सलाद।

5 ईको और बजट फ्रेंडली

खाना पकाने के समय को कम करके, बीन्स को भिगोना पर्यावरण के अनुकूल और लागत प्रभावी दोनों हो सकता है। कम खाना पकाने का मतलब है कम ऊर्जा खपत, जो पर्यावरण और आपके बिलों के लिए बेहतर है। इसके अलावा, क्योंकि भिगोने पर बीन्स काफ़ी फैल जाती हैं, इसलिए कम मात्रा में भिगोने से आपका भोजन ज़्यादा किफ़ायती हो जाता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
हम सभी के घरों में काले चने का सेवन आज से नहीं बल्कि कई सालों से किया जा रहा है। चित्र : शटरस्टॉक

बीन्स को कैसे भिगोएं

पारंपरिक तरीके से भिगोना

बीन्स को एक बड़े कटोरे में रखें और उन्हें पानी से ढक दें। बीन्स के हर कप के लिए, लगभग तीन कप पानी का उपयोग करें। उन्हें कम से कम 8 घंटे या रात भर के लिए भिगो दें। पकाने से पहले बीन्स को छान लें और धो लें।

जल्दी भिगोना

अगर आपके पास समय कम है, तो आप जल्दी भिगोने की विधि का उपयोग कर सकते हैं। बीन्स को एक बर्तन में रखें, पानी से ढक दें और उबाल लें। 2-3 मिनट तक उबालें, फिर आंच से उतार लें और उन्हें 1 घंटे के लिए भिगो दें। पकाने से पहले पानी निकाल लें और धो लें।

ये भी पढ़े- पौष्टिक और संतुलित आहार के लिए क्विनोआ ओट्स डोसा को करें मील में शामिल, जानें इसे तैयार करने की विधि

संध्या सिंह

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख