और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

इम्युनिटी बढ़ाने से लेकर पीरियड्स रेगुलर करने तक, यहां हैं हलीम के बीज के 5 स्वास्थ्य लाभ

Published on:19 July 2021, 12:00pm IST
हलीम के बीज दिखने में जितने छोटे होते हैं, ये आपकी सेहत के लिए उतना ही कमाल कर सकते हैं। खास बात ये कि बच्चों से लेकर बड़ों तक कोई भी इनका सेवन कर सकता है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 84 Likes
halim laddu ki recipe
जानिये हलीम के बीज के फायदे. चित्र : शटरस्टॉक

हलीम के बीज को अंग्रेजी में गार्डन क्रेस (Garden Cress) भी कहा जाता है और यह वॉटरक्रेस, सरसों के परिवार से संबंधित एक खाद्य पदार्थ है। यह अपने चटपटे स्वाद और सुगंध के लिए जाना जाता है।

गार्डन क्रैस का बड़े पैमाने पर पास्ता, सैंडविच जैसे यूरोपीय खाद्य पदार्थों में गार्निशिंग के रूप में उपयोग किया जाता है। जबकि इसके बीज सलाद, सूप और स्मूदी में उपयोग किए जाते हैं।

हलीम के बीज दिखने में जितने छोटे होते हैं, इसके फायदे उतने ही बड़े हैं!

1. गट हेल्थ के लिए फायदेमंद

गार्डन क्रेस सीड्स में प्रचुर मात्रा में फाइबर होता है, जो कब्ज और अपच के लक्षणों से राहत दिलाने में मदद करता है। इसे नियमित रूप से खाने से मल त्याग को नियमित करने में मदद मिलती है। पेट दर्द की समस्या के इलाज के लिए इसे पानी में मिलाकर बच्चों को भी दिया जा सकता है।

2. वज़न घटाने में मददगार

हलीम के बीज, फाइबर और प्रोटीन के समृद्ध स्रोत होने के कारण, अपने द्वारा खाए जाने वाले भोजन में तृप्ति जोड़ते हैं। इस प्रकार वे भूख के दर्द या अधिक खाने से बचने में मदद करते हैं। इन बीजों की अच्छी प्रोटीन सामग्री मांसपेशियों को बनाए रखने और स्वस्थ वजन घटाने में सक्षम बनाती है।

हलीम सीड्स लिबिडो बढ़ाने के लिए भी फायदेमंद है। चित्र-शटरस्टॉक।

3. एनीमिया के जोखिम को कम करे

हलीम के बीजों में आयरन का उच्च स्तर लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ावा देता है और शरीर में हीमोग्लोबिन के स्तर में सुधार करने में भी मदद करता है। लंबे समय में ये कुछ हद तक एनीमिया के इलाज में मदद कर सकते हैं। क्या आप जानते हैं कई हलीम के बीज का सिर्फ एक बड़ा चमचा 12 मिलीग्राम आयरन प्रदान करता है।

4. पीरियड्स को नियमित करे

महिलाओं के लिए गर्भावस्था की योजना बनाने के लिए मासिक धर्म चक्र का नियमित होना बहुत महत्वपूर्ण है। हलीम के बीज फाइटोकेमिकल्स से भरपूर होते हैं, जो एस्ट्रोजन हार्मोन की नकल करते हैं और अनियमित पीरियड्स को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

यह हार्मोन को नियंत्रित करने और अनियमित मासिक धर्म चक्र को सामान्य करने का एक प्राकृतिक तरीका हो सकता है।

5. इम्युनिटी बढ़ाए

एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन A और C से भरपूर, गार्डन क्रेस सीड्स प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार, रोगाणुओं से लड़ने और शरीर को विभिन्न संक्रमणों से बचाने के लिए एक संपूर्ण उपाय प्रदान करते हैं।

यह एंटी-माइक्रोबियल गुणों से समृद्ध है, जो बुखार, सामान्य सर्दी, गले में खराश और अन्य श्वसन संबंधी समस्याओं जैसे संक्रमणों को रोकने में बेहद प्रभावी है।

आप हलिम के बीज से लड्डू बनाकर भी कहा सकती हैं. चित्र : शटरस्टॉक
आप हलिम के बीज से लड्डू बनाकर भी कहा सकती हैं. चित्र : शटरस्टॉक

अपने आहार में हलीम के बीज शामिल करने के कई तरीके हैं –

1. एक बड़ा चम्मच हलीम के बीज को पानी में भिगो दें और इसे एक कप दूध या फ्रूट स्मूदी में मिलाकर खाएं।

2. हाथ से पिसे हुए हलीम के बीज में थोड़ा सा काला नमक मिलाकर सलाद में डालकर भी खा सकती हैं।

3. लड्डू में बादाम के साथ दरदरा पिसा हुआ हलीम डालें।

4. हाथ से पिसे हुए हलीम को बारीक कटे प्याज, हरी मिर्च, हरा धनिया, मसाले के साथ मिलाकर रोटी के आटे में भरकर भरवां रोटी बनाएं।

यह भी पढ़ें : नाश्ते में इन 5 कॉम्बीनेशन को शामिल करें और खाते-पीते घटाएं वजन

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।