छिलके समेत या छीलकर, क्या है सेहत के लिए बादाम खाने का सबसे हेल्दी तरीका

स्नैक्स और नमकीन बनाते हुए आपने कई बार बादाम को उनके अंदरूनी छिलके के साथ इस्तेमाल किया होगा। जबकि सुबह के वक्त आप अकसर भीगे बादाम खाती हैं। तो चलिए एक पोषण विशेषज्ञ से जानते हैं क्या है बादाम खाने का सबसे अच्छा तरीका।

badam kaise khaane chahiye
छिलके समेत बादाम खाना या बिना छिलके के, जानिए क्या है बेहतर? चित्र ; शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 5 October 2022, 21:30 pm IST
  • 126

दुनिया में दो तरह के लोग होते हैं। एक वो जिन्हें ड्राई फ्रूट्स खाना नहीं पसंद होता है और दूसरे वो जो इन्हें शौक से खाते हैं। आप इनमें से कोई भी हों, इस बात को ज़रूर मानेंगे कि सभी नट्स बहुत हेल्दी होते हैं। जब भी सूखे मेवे खाने की बात आती है तो कुछ लोग इन्हें भिगोकर खाना पसंद करते हैं, तो कुछ ऐसे ही छिलके के साथ (soaked or raw almonds)।

ऐसे में अक्सर देखा गया है कि लोग बादाम को भिगोकर और उसके बाद इसका छिलका उतारकर खाते हैं। यह बादाम को खाने का पुराना तरीका है जो दादी – नानी के जमाने से चला आ रहा है। मगर यह जानना ज़रूरी है कि सेहत के लिए क्या बेहतर है – बादाम छिलके समेत खाना या भिगोने के बाद छिलका उतारकर (almonds with or without skin)?

तो चलिये आज इस लेख के माध्यम से यह जानने की कोशिश करेंगे कि आपके और हमारे स्वास्थ्य के लिए क्या बेहतर है? बादाम को उसके अंदरूनी मुलायम छिलके समेत खाना या भिगोने के बाद छिलका उतारकर। चलिये पता करते हैं।

जानिए क्या है बादाम खाने का सही तरीका?

इस बारे में अधिक जानने के लिए हमने नारायण हृदयालय मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल अहमदाबाद, की सीनियर क्लिनिकल डायटीशियन, श्रुति भारद्वाज, से बात की। उनका मानना है कि भीगे हुए बादाम नरम और पचाने में आसान होते हैं। साथ ही, यह पोषक तत्वों को बेहतर तरीके से अवशोषित करने में मदद करते हैं।

श्रुति कहती हैं, “कच्चे बादाम खाने की तुलना में बादाम को भिगोने से हमारे शरीर द्वारा अवशोषित पोषक तत्वों और विटामिन की मात्रा बढ़ जाती है। भीगे हुए बादाम बेहतर होते हैं क्योंकि बादाम के छिलके में टैनिन होता है, जो पोषक तत्वों के अवशोषण को रोकता है। बादाम को भिगोने से छिलका उतारना आसान हो जाता है, जिससे मेवे सभी पोषक तत्व आसानी से छोड़ देते हैं।”

badam khane ka tareeka
बादाम को करें अपनी डाइट में शामिल, चित्र:शटरस्टॉक

भीगे हुए बादाम खाना इसलिए भी बेहतर है क्योंकि बुढ़ापे में जब पाचन संबंधी समस्याएं और दांतों की समस्या बढ़ जाती है, तब भिगोने की प्रक्रिया उन्हें नरम और पचाने में आसान बनाने में मदद करती है।

जानिए भीगे हुए बादाम खाने के फायदे

1. पाचनशक्ति में सुधार

पाचन की दृष्टि से भीगे हुए बादाम बेहतर होते हैं। हम जो कुछ भी भिगोते हैं, चाहे वह बादाम हो या कोई अन्य चीज, पाचन तंत्र को पचाने के लिए वह आसान हो जाता है। बादाम एंटीऑक्सिडेंट का एक समृद्ध स्रोत है और जब हम उन्हें भिगोते हैं, तो इनका लाभ कई गुना बढ़ जाता है।

soaked grains ke faydeke liye zaroori
बादाम को रात भर पानी में भिगो कर रख दें। तो इसकी खूबियां और भी ज्यादा बढ़ जाती हैं। चित्र : शटरस्टॉक

2. वजन घटाने में सहायक

जब हम बादाम को भिगोते हैं, तो यह लाइपेस जैसे कुछ एंजाइम छोड़ता है जो हमारे चयापचय को बढ़ावा देता है और वजन घटाने में सहायता करता है।

3. फाइटिक एसिड को हटाता है

जब हम बादाम को बिना भिगोए खाते हैं, तो उनमें मौजूद फाइटिक एसिड नहीं हटता है। जो अंततः पोषक तत्वों के अवशोषण में बाधा डालता है। इसलिए यदि आप कच्चे बादाम खा रहे हैं, तो उनमें मौजूद जिंक और आयरन शरीर द्वारा ठीक से उपयोग नहीं किया जाता है।

क्या है बादाम को भिगोने और खाने का सही तरीका

एक कप पानी लें और उसमें एक मुट्ठी बादाम भिगो दें। कप को ढककर छह से आठ घंटे के लिए बादाम इसी में रहने दें। अगली सुबह, पानी निकाल दें और छील लें। बेहतर होगा कि आप हर दिन इन्हें ताज़ा भिगोएं और सेवन करें। ताज़ा खाना सेहत के लिए एक अच्छी आदत है।

यह भी पढ़ें : सूजन को कम कर जोड़ों के दर्द से राहत दिलाता है व्हीटग्रास जूस, एक्सपर्ट से जानिए इसके 10 फायदे

  • 126
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें