वैलनेस
स्टोर

हेल्‍दी स्किन के लिए जरूरी है सही कुकिंग ऑयल का उपयोग, जानिए कौन सा कुकिंग ऑयल है बेहतर

Published on:3 April 2021, 10:30am IST
बाजार में खाना पकाने के लिए सभी प्रकार के तेलों की भीड़ है, लेकिन सभी तेल आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद नहीं हैं! यहां बताया गया है कि आप बेहतर स्वास्थ्य और त्वचा के लिए सही तेल कैसे चुन सकती हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 78 Likes
खाने पकाने के लिए सही कुकिंग ऑयल का इस्तेमाल करना, आपकी त्वचा के लिए चमत्कार कर सकता है। चित्र-शटरस्टॉक.

यह एक अच्छी तरह से स्थापित तथ्य है कि भारतीयों को तेल में डूबे खाद्य पदार्थों को खाना पसंद है। आज बाजार में बहुत सारे कुकिंग ऑयल मौजूद हैं। जिसके चलते उपभोक्ताओं के लिए एक विशेष प्रकार या ब्रांड को चुनना मुश्किल हो सकता है। मूल्यांकन और तुलना करने के लिए बहुत सारे कारक हैं। आखिरकार, अच्छे स्वास्थ्य और भविष्‍य के लिए खाना पकाने के तेल की गुणवत्ता की जांच करना अनिवार्य है।

हम सभी को याद है कि हमारी दादी मां ने अन्य सभी खाना पकाने के तेलों में घी की श्रेष्ठता का उल्लेख किया है। अच्छे स्वास्थ्य के लिए घी, अच्छी त्वचा के लिए घी, अच्छे बालों के लिए घी, दादी के अनुसार घी ढेर सारे लाभों के साथ जुड़ा है। ज्‍यादातर समय चैक करने पर ये तथ्‍य सही साबित हुए। 

जैसा कि अक्सर यह पता चलता है, पारंपरिक ज्ञान आधुनिक विकल्पों की तुलना में अधिक सटीक साबित होता है। कई स्वास्थ्य लाभों के अलावा, घी आपकी त्वचा की गुणवत्ता और बनावट में सुधार के लिए भी बहुत अच्छा है।

कमर्शियल ऑयल इतने खराब क्‍यों हैं 

कमर्शियल वेजिटेबल सीड्स ऑयल (commercial vegetable seed oils) का संपूर्ण सार शुद्ध तेल है, जिन्हें अत्यधिक गहन यांत्रिक और रासायनिक प्रक्रियाओं का उपयोग करके बनाया जाता है। ये बीज और वनस्पति से उत्पन्न होते हैं। कोल्ड-प्रेस्ड ऑयल को उतना संसाधित नहीं किया जा सकता है, फिर भी उन्हें बीजों से संसाधित किया जाता है।

यह भी पढें: क्या आपको भी चिप्स खाना बेहद पसंद है? तो हम आपके लिए लाए हैं बेक्ड कटहल चिप्स रेसिपी

लंबे समय तक खाना पकाने के लिए इन तेलों का उपयोग करना समस्याग्रस्त हो सकता है, क्योंकि इसके परिणामस्वरूप विभिन्न स्वास्थ्य जटिलताएं हो सकती हैं। बीज के तेल पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (PUFA), जैसे कि लिनोलिक एसिड में उच्च हैं।

कई अध्ययनों से पता चलता है कि परिष्कृत वनस्पति तेल जैसे कि कैनोला ऑयल, मूंगफली, सोयाबीन, कुसुम, सरसों, तिल, कॉटन, पाम ऑयल, मकई का तेल, आदि का सेवन करने पर प्रो-इंफ्लेमेटरी स्थिति पैदा होती है। ये कारक शरीर में सूजन को बढ़ा सकते हैं, उनमें मौजूद पीयूएफए की बढ़ती मात्रा के कारण।

वास्तव में, यह चिकित्सकीय रूप से दिखाया गया है कि अतिरिक्त PUFA का सेवन करने से शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध हो सकता है। लिनोलिक एसिड मुख्य रूप से इंसुलिन प्रतिरोध के लिए जिम्मेदार है और टाइप 2 मधुमेह का मुख्य कारण है।

तेल आपका दुश्‍मन नहीं है, बस और कितना प्रयोग करना है, यह जान लें। चित्र: शटरस्‍टॉक

यह पशु संतृप्त वसा का मामला भी है 

यह पता चला है कि पशु स्रोतों से बनी संतृप्त वसा आदर्श है, क्योंकि यह स्वाद और स्वस्थ दोनों के साथ पैक है। घी, मक्खन और नारियल तेल सभी में गुणकारी गुण होते हैं और ये पोषण में उच्च होते हैं। वे उपयोग करने के लिए सुरक्षित हैं, क्योंकि वे इंफ्लेमेटरी घटकों से रहित हैं। ये अच्छे वसा आवश्यक सेलुलर अखंडता (essential cellular integrity) को संरक्षित करने में मदद करते हैं, जो त्वचा की चमक को बनाए रखने में मदद करता है, त्वचा को अधिक कोमल और जवां बनाता है।

संतृप्त वसा में समृद्ध आहार हार्मोनल असंतुलन को भी रोकते हैं, क्योंकि कई हार्मोन कोलेस्ट्रॉल पर उनके आधार अणु (base molecule) के रूप में निर्भर करते हैं। स्टीयरिक एसिड जैसे संतृप्त वसा, जो जानवरों में पायी जाती है एक कार्डियो प्रोटेक्टिव (cardioprotective) प्रभाव उत्पन्न करती है, जो शरीर के आंतरिक चयापचय को बढ़ाने में मदद करता है। एक आहार जिसमें स्टीयरिक एसिड की अधिक मात्रा होती है, यह इंगित करता है कि आप पोषक तत्वों से भरपूर आहार खा रही हैं। इसके अलावा, यह शरीर में अतिरिक्त कैलोरी के संचय पर नजर रखने में मदद करता है।

सरसों का तेल अब भी सर्वाधिक लोकप्रिय कुकिंग ऑयल है। चित्र:  शटरस्‍टॉक
सरसों का तेल अब भी सर्वाधिक लोकप्रिय कुकिंग ऑयल है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यह सुझाव दिया जाता है कि आप खाना पकाने के लिए घी या नारियल तेल जैसे विकल्पों का उपयोग करें, क्योंकि इनका स्‍मोक पॉइंट हाई होता हैं और आंच या गर्माहट पर काफी स्थिर रहते हैं। इसका मतलब यह है कि वे खाना पकाने की प्रक्रिया के दौरान ऑक्सीडेटिव ब्रेकडाउन (oxidative breakdown) से नहीं गुजरते। वनस्पति तेल को जब गर्म किया जाता है, तो यह फ्री रेडिकल्स के रूप में विघटित हो जाता है, जो अप्राकृतिक उम्र बढ़ने या यहां तक कि कैंसर जैसे कई चिकित्सा विकारों का कारण बन सकता है।

यह भी पढें: वजन कम कर रही हैं, तो इन 5 साबुत अनाजों को करें डाइट में शामिल और इन 3 से करें परहेज

त्वचा और समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए सही प्रकार के खाना पकाने के तेल का उपयोग करना आवश्यक है। खाना पकाने के लिए घी, मक्खन, और नारियल तेल जैसे संतृप्त वसा का सेवन करना बेहतर होता है, क्योंकि उनमें पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड (PUFA) शून्य होता है।

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।