वेट लॉस से लेकर ग्लोइंग स्किन तक, इन 3 दालों में छुपा है आपकी सेहत का राज

Published on: 9 July 2022, 16:00 pm IST

दालें प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों का सबसे सुलभ और सस्ता स्रोत हैं। खासतौर से अगर आप 30 की उम्र पार कर रहीं हैं, तो ये तीन दालें अपने आहार में जरूर शामिल करें।

benefits of pulses
स्किन से लेकर सेहत तक कई रूपों में फायदेमंद होते है दाल. चित्र शटरस्टॉक।

जब आप 30 की उम्र पार करती हैं, तो पहले से ज्यादा थकने लगती हैं और हो सकता है कि आपको गुस्सा भी ज्यादा आए। असल में आपके व्यवहार में यह परिवर्तन पोषण की कमी के कारण होता है। हर रोज की दौड़भाग में आप पेट तो भर लेती हैं, परंतु शरीर को वह पोषण नहीं मिल पाता जिसकी उसे जरूरत है। तो कहां से मिलेगा वह पोषण? इसके लिए आपको किसी महंगे उत्पाद पर स्विच करने की जरूरत नहीं है, बल्कि ये 3 दालें (Benefits of dal for women) आपकी पोषण संबंधी हर जरूरत को पूरा कर सकती हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में विस्तार से।

खाने में दाल न हो तो भोजन संपूर्ण नहीं लगता। यह स्वादिष्ट होने के साथ ही शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों का भंडार भी हैं। दाल के यह छोटे दाने स्वास्थ्य समस्याओं से निजात पाने का एक बेहतर विकल्प है। दाल का प्रयोग कई तरह के स्वादिष्ट व्यंजनों को बनाने में भी किया जाता है। पब मेड सेंट्रल द्वारा प्रकाशित एक शोध के अनुसार दाल का सेवन करने वाले व्यक्ति का कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर लेवल संतुलित रहता है। यह पाचन क्रिया और आंत को स्वस्थ रखता है।

अक्सर लोग यह सोचते हैं कि कौन सी दाल सबसे ज्यादा फायदेमंद है! तो आपको बता दें कि सभी दालों में अलग-अलग प्रकार के गुण पाए जाते हैं। विभिन्न प्रकार की दलों में पोषक तत्वों की मात्रा भी अलग होती है, परंतु लगभग सभी दाल सामान्य रूप से फायदेमंद होती हैं। आज हम लेकर आए हैं, पोषक तत्वों से युक्त ऐसी 3 दाल जो आपकि सेहत को लंबे समय तक बनाये रखेगी। जानिए यह किस तरह आपकी सेहत के लिए फायदेमंद होती है।

rojana khayen daal
हर रोज एक कटोरी दाल आपकी प्रोटीन की आवश्‍यकता को पूरा करती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यहां जानिए पोषक तत्वों से भरपूर इन 3 दाल के स्वास्थ्य लाभ

वेट लॉस करती है मूंग दाल

सभी दालों में मूंग दाल सेहत के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है। मूंग दाल के छोटे दाने पोषक तत्वों का भंडार हैं। मूंग दाल में पर्याप्त मात्रा में फाइबर मौजूद होते हैं, जो पाचन क्रिया को संतुलित रखने के लिए अति आवश्यक है। इस के साथ ही यह प्रोटीन, पोटैशियम, फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, आयरन, विटामिन बी-6 और फोलेट का एक अच्छा स्रोत है।

यह सभी पोषक तत्व हमारी सेहत के लिए काफी ज्यादा जरूरी होते हैं। नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन द्वारा प्रकाशित एक डेटा के अनुसार मूंग दाल में मौजूद एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज इसकी गुणवत्ता को और ज्यादा बढ़ा देते हैं।

मूंग दाल और सेहत

मूंग दाल में मौजूद फाइबर पाचन क्रिया को संतुलित रखते है। वजन कम करने का सोच रहे लोग इसे अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। यह कोलेसीस्टोकिनिन हार्मोन के फंक्शन को इन हिल्स करता है जिसकी वजह से खाने के बाद संतुष्टि महसूस होती है और मेटाबॉलिज्म रेट भी बढ़ जाता है। यह भजन को नियंत्रित रखने के साथ ही आपको ओवर ईटिंग से भी बचाता है। इस पीली दाल में पर्याप्त मात्रा में पोटेशियम और आयरन मौजूद होते हैं, जो ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखते है और मसल्स क्रैम्प से भी प्रोटेक्ट करते है।

इस दाल में मौजूद आयरन रेड ब्लड सेल्स के प्रोडक्शन में मदद करते हैं और शरीर मे ब्लड सर्कुलेशन को रेगुलेट करता है। यदि आप डायबिटीज के मरीज हैं, तो बेफिक्र होकर इसका सेवन कर सकती हैं। क्योंकि यह शरीर में इंसुलिन की मात्रा को नियंत्रित रखते हुए ब्लड शुगर लेवल को भी कम करता है। वहीं इसकी ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी बहुत कम होती है।

dal me hota hai Protein
प्रोटीन से भरपूर होती है दाल. चित्र: शटरस्‍टॉक

इंफ्लेमेशन कम करती है चना दाल

चना दाल लगभग सभी की पसंदीदा है। सालों से इसका प्रयोग कई तरह के स्वादिष्ट व्यंजनों को बनाने में होता चला आ रहा है। इसमें पर्याप्त मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो डाइजेशन को नियमित रखता है और पाचन कब्ज जैसी समस्याओं में भी कारगर हो सकता है। इसके साथ ही यह प्रोटीन, पोटैशियम, सोडियम, कैल्शियम और आयरन का एक अच्छा स्रोत है।

इसकी एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज शरीर से इन्फ्लेमेशन को कम करके ऑर्गन्स को हेल्दी रखते है। चना दाल में मौजूद फोलेट जो एक प्रकार का विटामिन बी का है, यह तत्व कई तरह के बीमारियों से बचाव का काम करता है।

चना दाल और सेहत

पब मेड सेंट्रल द्वारा प्रकाशित एक शोध के अनुसार चना दाल वजन कम करने में मदद कर सकता है। इसकी ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी काफी कम होती है। चना दाल में मौजूद आयरन हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ाने में मदद करते हैं। यह पीलिया जैसी बीमारियों में भी फायदेमंद हो सकता है। चना दाल का नियमित सेवन कोलेस्ट्रॉल लेवल को संतुलित रखने के साथ ही हार्ट हेल्थ को भी बनाए रखता है।

चना दाल में मौजूद सभी पोषक तत्व शरीर की जरूरतों को पूरा करके आपको ऊर्जा से भरपूर रहने में मदद करते है। इतना ही नहीं चना दाल शरीर में रोग निरोधक क्षमता को बढ़ाता है और इन्फेक्शन की संभावनाओं को कम कर देता है। कैल्शियम से युक्त यह दाल हड्डियों और दातों के लिए भी फायदेमंद होती हैं।

masoor dal benefits
मसूर दाल आपकी स्किन को एजिंग से बचाती है। चित्र: शटरस्टॉक

स्किन को जवां बनाए रखती है मसूर दाल

मसूर दाल प्रोटीन, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, आयरन, फोलिक एसिड और जिंक का एक अच्छा स्रोत है। वहीं इसमें पर्याप्त मात्रा में विटामिन बी6, विटामिन B2, विटामिन सी, मैग्नीशियम और कैल्शियम जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। यह सभी न्यूट्रिशन हमारी शरीर की जरूरतों को पूरा करके ऊर्जा को बनाए रखने में मदद करते हैं।

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन द्वारा मसूर दाल को लेकर किए गए एक अध्ययन के अनुसार यह सोडियम, विटामिन के और पोटैशियम से भरपूर होते है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट प्रॉपर्टीज इसकी गुणवत्ता को और ज्यादा बढ़ा देती हैं।

मसूर दाल और सेहत

मसूर दाल सेहत से लेकर सौंदर्य में भी काफी ज्यादा फायदेमंद होती हैं। मसूर दाल में कई ऐसे मिनरल्स पाए जाते हैं, जो त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक हैं। उसके साथ ही इसकी एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण एक्ने एवं दाग धब्बों को कम करने में मदद करती हैं। मसूर दाल का पानी कब्ज जैसी समस्याओं में कारगर हो सकता है।

यह पेट को साफ रखने के साथ ही डाइजेशन को नियमित रखने में मदद करता है। नियमित रूप से मसूर दाल का सेवन कोलेस्ट्रॉल लेवल और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता है।

इसके डाइटरी फाइबर और प्रोटीन ब्लड प्रेशर को नार्मल रखने का काम करते हैं। वहीं यह फोलेट का एक अच्छा स्रोत होता है, जो हार्ट से जुड़ी बीमारियों की संभावना को कई हद तक कम कर देता है। मसूर दाल का ग्लाइसेमिक इंडेक्स बहुत कम है। इसलिए यह डायबिटीज मरीजों के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट पेनक्रिएटिक सेल डैमेज को रोकते हैं, और ब्लड ग्लूकोस लेवल को बनाए रखने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़ें : यदि किसी कारण से आपकी स्किन पर स्कार्स हैं, तो जानिए उन्हें हटाने के 5 घरेलू उपाय

अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी- नई दिल्ली में जर्नलिज़्म की छात्रा अंजलि फूड, ब्लॉगिंग, ट्रैवल और आध्यात्मिक किताबों में रुचि रखती हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें