क्या गाय या भैंस के दूध की तुलना में प्लांट बेस्ड मिल्क ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक हैं? चलिए पता करते हैं

Published on: 27 March 2022, 16:00 pm IST

प्लांट बेस्ड मिल्क आजकल खूब पसंद किए जा रहे हैं, पर क्या ये गाय या भैंस के दूध से ज्यादा स्वस्थ हैं! यह पता लगाने का समय है।

milk ke fayade
पौधे आधारित दूध में कैलोरी कम होती है। चित्र : शटरस्टॉक

दूध के साथ आपका लव-हेट का रिश्ता हो सकता है, लेकिन आप इसे नजरअंदाज नहीं कर सकते। कुछ लोग हैं, जो मलाईदार गाय या भैंस के दूध के बिना नहीं कर सकते। जबकि अन्य विभिन्न कारणों से पौधे आधारित किस्मों (Plant based milk) को चुनना पसंद करते हैं। यह एलर्जी या असहिष्णुता, सूजन और त्वचा की शिकायतों के कारण भी हो सकता है। कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो अपने स्वास्थ्य लाभ के लिए नट्स या वीगन मिल्क को चुनते हैं।  लेकिन यहां बड़ा सवाल है – क्या वे गाय या भैंस के दूध से ज्यादा सेहतमंद हैं?

यही बात डॉक्टर सिद्धांत भार्गव ने अपने हालिया इंस्टाग्राम पोस्ट में कवर की है। आप किसी भी नट का दूध चुनें – बादाम, काजू, अखरोट, या जई – ये कैलोरी में बहुत कम हैं। जी हां, एक कप में सिर्फ 30-40 कैलोरी होती हैं। दूसरी ओर, गाय के दूध में 100 से अधिक कैलोरी होती हैं और इसमें कार्ब्स और शर्करा से भरपूर होने के अलावा उच्च मात्रा में प्रोटीन और वसा होती है।  

पर इनमें विटामिन बी12, आयोडीन और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व भी होते हैं, जो हड्डियों के विकास और मांसपेशियों के कार्य के लिए महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, मट्ठा और कैसिइन भी है, जो माना जाता है कि रक्तचाप के स्तर को कम करता है।

यहां देखें इंस्टाग्राम पोस्ट

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Dr. Siddhant Bhargava (@dr.siddhant.bhargava)


वे कहते हैं, “जब पोषण की बात आती है, तो गाय और भैंस का दूध बेहतर होता है। लेकिन अगर आप मिक्सर या मॉड्यूलेटर के रूप में थोड़ी मात्रा का उपयोग कर रहीं हैं, तो आप प्लांट बेस्ड दूध ले सकती हैं। जिसमें कैलोरी और चीनी दोनों कम हैं। 

गाय का दूध या प्लांट बेस्ड मिल्क, आपको क्या चुनना चाहिए?

हाल के दिनों में, गाय के दूध के बारे में चिंताएं बढ़ रही हैं और उन्हें हार्मोन के इंजेक्शन के कारण नुकसानदेह बताया जा रहा है। गर्भवती होने पर गायों को दूध पिलाया जाता है, जिसका अर्थ है कि उनके एस्ट्रोजन का स्तर 20 गुना बढ़ जाता है। मेडिकल हाइपोथीसिस जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन ने इन एस्ट्रोजन के स्तर को स्तन, डिम्बग्रंथि और गर्भाशय के कैंसर से जोड़ा है। कुछ अध्ययन ऐसे भी हैं, जो यह भी दावा करते हैं कि दूध के अधिक सेवन से हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है।

यह  स्टडी प्लांट बेस्ड मिल्क के समर्थन में अधिक झुकाव रखती है। लेकिन कुछ ऐसा है जिसे आपको ध्यान में रखना चाहिए। दूध का अनुशंसित वयस्क सेवन 1000 मिलीग्राम है, जो डेयरी के लगभग 3 सर्विंग्स हैं। कोई भी प्लांट बेस्ड मिल्क चुन सकता है, लेकिन सुनिश्चित करें कि आप उनको चुनें जो कैल्शियम से भरपूर हैं।

अपने दूध का गिलास ठीक से चुनें। चित्र : शटरस्टॉक

इसके अलावा, यदि आप लैक्टोज-असहिष्णु हैं, तो यह वह विकल्प है जो आपके लिए सबसे अच्छा काम करेगा।  कैलिफोर्निया में स्टैनफोर्ड प्रिवेंशन रिसर्च सेंटर द्वारा किए गए एक अध्ययन में लैक्टोज असहिष्णुता वाले लोगों के लक्षणों की तुलना की गई। जब उन्होंने पौधे आधारित दूध पिया, तो परिणाम नियमित दूध की तुलना में बहुत बेहतर थे।

अंत में, ऐसे पौधे-आधारित दूध चुनें जो बिना चीनी के हों, क्योंकि कई बार उनका टेस्ट बढ़ाने के लिए उनमें एक्स्ट्रा शुगर शामिल की जाती है। 

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें