वैलनेस
स्टोर

डायबिटीज है और लीची के दीवाने हैं, तो खाने से पहले जान लें इस फल के बारे में सब कुछ

Published on:27 May 2021, 16:59pm IST
रसीले रसगुल्‍ले की मिठास वाली लीची किसी को भी अपना दीवाना बना लेने की क्षमता रखती है। पर अगर आपको डायबिटीज है, तो आपको इसके बारे में पूरी तरह जान लेना जरूरी है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
जानिये क्या मधुमेह रोगियों को लीची का सेवन करना चाहिये. चित्र : शटरस्टॉक

डायबिटीज शरीर में बढ़ते ब्लड शुगर लेवल की समस्या है, जो तब होती है जब अग्न्याशय पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाता या शरीर की कोशिकाएं उत्पादित इंसुलिन का जवाब नहीं देती। इसलिए, डायबिटीज के मरीजों के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होता है ब्लड शुगर लेवल को मेंटेन करना। यही वजह है कि इसके मरीजों को अपने खानपान में सावधानी बरतनी पड़ती है। लीची जैसे मीठे फलों के सेवन से पहले भी आपको इनके बारे में पूरी तरह जान लेना जरूरी है।

मधुमेह से पीड़ित लोगों को अपने रक्त शर्करा को नियंत्रण में रखने के लिए किसी भी शर्करा वाले उत्पादों और उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थों से दूर रहना चाहिए। आमतौर पर माना जाता है कि फ्रूट्स खाना डायबिटीज के मरीजों के लिए सेफ होता है, लेकिन हाई शुगर वाले फ्रूट्स ऐसे मरीजों के लिए परेशानी का कारण बन सकते हैं।

आखिर कितनी मीठी है लीची

किसी भी अन्य फल की तरह लीची में चीनी की मात्रा अच्छी होती है। लीची हाई शुगर लेवल वाले फ्रूट्स में से एक है। इसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स 50 होता है और एक कप लीची में 29 ग्राम नेचुरल शुगर होती है।

लीची में नेचुरल शुगर होती है जो अन्य रिफाइंड शुगर के मुकाबले फायदेमंद है। इसके अलावा, 55 से कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ धीरे-धीरे पचते हैं। वे रक्त प्रवाह में शर्करा की धीमी गति से रिलीज को सक्षम करते हैं, जो रक्त शर्करा को बढ़ने से रोकता है।

क्या मधुमेह रोगियों को लीची का सेवन करना चाहिए?

किसी भी अन्य फल की तरह लीची में प्राकृतिक चीनी की मात्रा होती है, लेकिन लीची में जिस तरह की चीनी पाई जाती है वह मधुमेह रोगियों के लिए असुरक्षित नहीं हो सकती है।

इसमें फ्रुक्टोज होता है जो इसे धीरे-धीरे पचने का कारण बनता है। जिससे रक्त में शर्करा धीमी गति से निकलती है। फ्रुक्टोज वह चीनी है जो फल में मौजूद होती है और यह एक ऐसी चीनी है जिसे इसके चयापचय के लिए इंसुलिन की आवश्यकता नहीं होती है।

मधुमेह रोगियों को मॉडरेशन में करना चाहिये लीची का सेवन. चित्र: शटरस्टॉक

साथ ही, लीची की फाइबर सामग्री रक्त शर्करा के स्तर में अचानक वृद्धि को रोकने में भी सहायता करती है। हालांकि, फ्रुक्टोज को इंसुलिन की आवश्यकता नहीं होती है, पर फिर भी इसे मॉडरेशन में खाना सबसे अच्छा है। यदि आपका रक्त ग्लूकोज नियंत्रण में है, तो लीची का सेवन करना सुरक्षित है।

अगर आपको डायबिटीज है, तो ध्यान रखें कि आप एक दिन में कितनी लीची का सेवन कर रहे हैं। लीची का सेवन कैलोरी मान के अनुसार किया जाना चाहिए। मधुमेह रोगियों को अपनी कैलोरी का बहुत ध्यान रखने की आवश्यकता है।

लीची का कब और कैसे करें सेवन

इसका सेवन सुबह या दोपहर के नाश्ते के रूप में किया जा सकता है, क्योंकि शरीर ऊर्जा पैदा करने के लिए इसमें मौजूद कार्ब्स को तोड़ता है।

लेकिन खाने के बाद या रात को सोने से पहले इस फल का सेवन न करें, क्योंकि इससे आपका ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है।

इसलिए, मधुमेह रोगी के आहार में सीमित मात्रा में लीची को शामिल किया जा सकता है, लेकिन किसी को डॉक्टर या पोषण विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए कि हाल ही में परीक्षण किए गए रक्त शर्करा के स्तर पर कब और कितना निर्भर होना चाहिए, ताकि आप इससे दूर रह सकें।

मधुमेह रोगियों के लिए संयम और संतुलन का अभ्यास करना बहुत आवश्यक है।

यह भी पढ़ें : डायबिटीज के रोगियों के लिए बेहतरीन इम्‍युनिटी बूस्‍टर है रसम, नोट कीजिए हेल्‍दी रेसिपी

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।