बढ़ता वजन बन गया है चिंता का सबब, तो डाइट में शामिल करें ये 5 वेट लॉस फ्रेंडली सब्जियां

क्या आप भी अपने बढ़ते वजन से परेशान हैं, तो डाइट में शामिल करें पोषक तत्वों से भरपूर यह 5 सब्जियां। वेट मेंटेन करने के साथ एनर्जी लेवल को भी रखेंगी संतुलित।

low calorie vegetables for weight loss
डाइट में शामिल करें ये 5 वेट लॉस फ्रेंडली सब्जियां। चित्र शटरस्टॉक।
अंजलि कुमारी Published on: 2 September 2022, 08:00 am IST
  • 148

बिजी लाइफ़स्टाइल होने के कारण लोग अपने फिटनेस पर ध्यान नहीं दे पा रहे। इसके साथ ही खराब लाइफस्टाइल और गलत खानपान की आदत से मोटापे की समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। मोटापे से ग्रसित शरीर बीमारियों का घर बन जाता है। इसलिए अपनी सेहत का ख्याल करते हुए बढ़ते वजन को नियंत्रित रखना बहुत जरूरी है।

मोटापे को नियंत्रित रखने के लिए सबसे पहले जरूरी है एक उचित डाइट लेना। उसके बाद शरीर को जितना हो सके उतना सक्रिय रखने का प्रयास करें। परंतु बॉडी को एक्टिव रखने के लिए शरीर में पर्याप्त ऊर्जा होना जरूरी है। यदि आपके शरीर में ऊर्जा की कमी है तो आप खुद को ज्यादा देर तक सक्रिय नहीं रख पाएंगी। जिस वजह से मोटापा आपको अपना शिकार बना सकता है। बॉडी एनर्जी लेवल को मेंटेन रखने के लिए भी एक उचित डाइट लें। आपके लिए ऐसी ही कुछ पोषक तत्वों से भरपूर सब्जियों के बारे में हम बता रहे हैं, जो आपको पर्याप्त एनर्जी देने के साथ ही बॉडी वेट को मेंटेन रखने में भी मदद करेगा।

hari sabziyon ke fayde
क्या आप भी अपने बढ़ते वजन से परेशान हैं. चित्र शटरस्टॉक।

हेल्थ शॉट्स ने ईटराइट द न्यूट्रिशन क्लिनिक, मुंबई की नूट्रिशनिस्ट मालविका अठावले से मशरूम के फायदों को लेकर बातचीत की। यदि आप भी मोटापे से परेशान हैं और वेट लॉस डाइट प्लान कर रही हैं, तो आज ही अपनी वेट लॉस डाइट में शामिल करें पोषक तत्वों से भरपूर ये 5 महत्वपूर्ण सब्जियां।

यहां जानें 5 वेट लॉस फ्रेंडली सब्जियों के नाम

1. मशरूम

मशरूम में कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है। वहीं यह सुपरफूड फाइबर और प्रोटीन का एक बेहतरीन स्रोत है। यह शरीर से एक्स्ट्रा फैट बर्न करता है और इसमें मौजूद जरूरी न्यूट्रिएंट्स ब्लड ग्लूकोज लेवल को रेगुलेट करते हैं। इसके साथ ही यह शरीर में एनर्जी लेवल बनाए रखती है, जिस वजह से आप ज्यादा से ज्यादा लंबे समय तक खुद को सक्रिय रख सकती हैं।

2. पालक

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार पालक में पर्याप्त मात्रा में आयरन, फाइबर, विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन के मौजूद होता है, जो शरीर को कैलोरी बर्न करने में मदद करता है।

पालक में पर्याप्त मात्रा में आयरन, फाइबर, विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन के मौजूद होता है. चित्र शटरस्टॉक।

वहीं पालक में कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है। पालक को अपनी वेट लॉस डाइट में बेफिक्र होकर शामिल कर सकती हैं। यह वजन को नियंत्रित रखने के साथ ही शरीर में आयरन की कमी को पूरा करता है। यह आपकी त्वचा के ग्लो और हेल्थ को बनाए रखता है।

3. पंपकिन

रिसर्चगेट द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार पंपकिन में पर्याप्त मात्रा में फाइबर मौजूद होता है, जो वेट लॉस मैनेजमेंट के लिए एक हेल्दी डाइट के रूप में जाना जाता है। इसके साथ ही यह विटामिन और महत्वपूर्ण मिनरल्स का एक बेहतरीन स्रोत होता है। आप पंपकिन को सूप, करी और सलाद के रूप में कंज्यूम कर सकती हैं। यह आपके डाइजेस्टिव हेल्थ को प्रमोट करता है। इसके साथ ही पब मेड सेंट्रल के स्टडी की माने तो पंपकिन का नियमित सेवन हार्ट डिजीज, डायबिटीज और ओबेसिटी को नियंत्रित रखने में मदद करता है।

4. रूट वेजिटेबल्स

सफेद आलू और अन्य रूट वेजिटेबल्स में बहुत कम मात्रा में कार्ब मौजूद होते हैं, इसलिए यह वेट लॉस और अन्य सेहत से जुड़ी समस्याओं में फायदेमंद हो सकता है। वहीं यह पोटेशियम का एक बेहतरीन स्रोत होता है, जो कि ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने में मदद करता है। उबले हुए सफेद आलू और अन्य रूट वेजिटेबल्स का सेवन आपको लंबे समय तक भरा हुआ और संतुष्ट रखता है। जिस वजह से ओवरईट और बार बार भूख लगने जैसी समस्याएं नहीं होती।

pumpkin for weight loss
पंपकिन में पर्याप्त मात्रा में फाइबर मौजूद होता है. चित्र: शटरस्टॉक

5. केल

केल एक हरी पत्तेदार सब्जी है, जो वेट लॉस में आपकी मदद कर सकती है। वहीं यह बॉडी को डिटॉक्सिफाई करती है और बढ़ते वजन को नियंत्रित रखती है। यदि बात इसके पोषक तत्वों की करें तो यह विटामिन ए, विटामिन के, विटामिन बी6 और विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत होती है।

इसके साथ ही यह कैल्शियम, पोटैशियम, कॉपर और मैंगनीज से भरपूर काएल सेहत के लिए कई रूपों में फायदेमंद हो सकते हैं। इसमें एक सीमित मात्रा में कैलरी और कार्बोहाइड्रेट मौजूद होते हैं, इसलिए यह डायबिटीज और वेट फ्रेंडली वेजिटेबल के रूप में जानी जाती है।

यह भी पढ़ें :  लॉन्ग वर्किंग आवर्स के कारण हो रहा नसों में दर्द, तो इससे छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये 4 तरीके

  • 148
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी- नई दिल्ली में जर्नलिज़्म की छात्रा अंजलि फूड, ब्लॉगिंग, ट्रैवल और आध्यात्मिक किताबों में रुचि रखती हैं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory