वैलनेस
स्टोर

इम्‍युनिटी को मजबूत बनाकर कोरोना से बचाव में मदद करते हैं सोया फूड्स, जानिए ये कैसे काम करते हैं

Published on:10 May 2021, 14:00pm IST
फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया की ओर से इम्यून सिस्टम को मजबूत करने के लिए लोगों को एक स्पेशल डाइट बताई गई है। इसमें सोया फूड्स को दी गई है प्राथमिकता।
अंबिका किमोठी
  • 95 Likes
सोयाबीन में पाया जाता है पर्याप्त मात्रा में फाइबर और प्रोटीन, चित्र- शटरस्टॉक.

आज इस कोरोना के समय में आपके इम्यून में सुधार लाने के लिए पर्याप्त मात्रा में फाइबर और प्रोटीन का सेवन करना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। अपने भोजन में सोया खाद्य पदार्थों के माध्यम से फाइबर और प्रोटीन की आवश्यक मात्रा प्राप्त कर सकते हैं, जो दिल के स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है?

FSSAI का सोया फूड्स को लेकर ट्वीट

फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) ने अपने एक ट्वीट में सोया फूड्स के फायदों के बारे में जानकारी देते हुए कहा है कि सोया फूड्स सोयाबीन से बनते हैं। ये हाई क्वालिटी प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है। सोयाबीन या उससे बने फूड प्रोडक्ट्स उन लोगों के लिए प्रोटीन और फाइबर का खजाना हैं, जो स्ट्रिक्ट वेजिटेरियन डाइट को फॉलो करते हैं।

सोया खाद्य पदार्थ क्या होते हैं?

सोया खाद्य पदार्थ सोयाबीन से बनाए जाते हैं। फलीदार सोयाबीन एक फली युक्त बीज है। वो उच्च-गुणवत्ता वाले प्रोटीन का एक बेहतरीन स्रोत माना जाता है। अध्ययन के अनुसार सोयाबीन और सोयाबीन के खाद्य उत्पाद शाकाहारी के लिए एक उच्च कोटि की पौष्टिक डाइट है ये इन लोगों के लिए एक बेहतर प्रोटीन स्रोत है।

इसके लिए आप अपने दैनिक आहार में सोया उत्पाद जैसे सोयाबीन, सोया ग्रेन्यूल्स, डली, टोफू, सोया दूध, सोया आटा और सोया नट्स लें सकती हैं इससे आपको प्लांट प्रोटीन मिलेगा जो आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखने में सहायक होता है।

सोयाबीन को भोजन में लेने से ये लाभ मिलते है

फाइबर 9.6 ग्रा.
प्रोटीन 36.9 ग्रा.
वसा 18.9 ग्रा.
कैल्शियम 284 मि.ग्रा.
आयरन 14.9 मि.ग्रा.
ओमेगा -3 फैटी एसिड का स्रोत
लैक्टोज और लस मुक्त

जानिए क्‍यों जरुरी है सोयाबीन को अपनी डाइट में शामिल करना

1 कलेस्ट्रॉल में कमी

सोयाबीन डायबिटीज और हार्ट डिजीज की रोकथाम करने में मदद करता है। इसमें मौजूद अनसैचुरेटेड फैट्स बैड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं। इससे हृदय संबंधी बीमारियों का खतरा कम हो जाता है।
सोया में पाया जाने वाला ओमेगा 3 फैटी एसिड हमें हृदय रोगों से बचाए रखता है। अपने आहार में ओमेगा 3 फैटी एसिड युक्त फूड को शामिल करने से आपके रक्तचाप का स्तर भी संतुलित रहता है।

2 हड्डियों में मजबूती

सोयाबीन हड्डियों को मजबूती देती है। अकसर महिलाओं को घुटनों और कमर के दर्द की शिकायत रहती है। ऐसे में सोयाबीन को अपने भोजन में शामिल करके इन समस्याओं से निजात पाई जा सकती हैं। सोयाबीन में कैल्शियम, मैग्नीशियम और कॉपर जैसे पोषक तत्व होते हैं, जो हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करते हैं।

3 वेट लॉस में मददगार

ये वेट लॉस में भी मददगार होता है, क्योंकि फाइबर वाला आहार लेने से आपको भूख कम लगती है। जिससे आपके शरीर में अत्यधिक कैलोरी नहीं जा पाती। सोया के अलावा आप फाइबर के लिए दाल, ब्रोकोली, अनार, बीन्स और मटर का सेवन भी कर सकते हैं।

सोयाबीन में मौजूद प्रोटीन की उच्च मात्रा इम्‍युनिटी को बनाए रखती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

4 बूस्‍ट करता है इम्‍युनिटी

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए हमें अपनी इम्युनिटी को बढ़ाने की ज़रूरत है और इसलिए हमें पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन खाने की जरूरत होती है। सोयाबीन और उससे निर्मित खाद्य पदार्थ आपके शरीर की इसी जरूरत को पूरा करते हैं। सिर्फ संक्रमण से बचाव में ही नहीं, बल्कि यदि आप कोरोना वायरस से जूझ रहे हैं, तो भी सोया उत्‍पाद आपकी रिकवरी में तेजी लाते हैं।

इसके अलावा सोयाबीन से आंखों की रोशनी बढ़ती है और ये आपके लीवर को भी हेल्दी रखता है। सोयाबीन में पाया जाने वाला फाइबर बवासीर और कोलन संबंधी कई बीमारियों से भी हमारी रक्षा करता है।

इसे भी पढ़ें-सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट पूजा मखीजा कोविड रिकवरी के लिए कर रहीं हैं दो सप्लीमेंट की सिफारिश

अंबिका किमोठी अंबिका किमोठी

योगा, डांस और लेखनी, यही सफर के साथी हैं। अपनी रचनात्‍मकता में देखूं कि ये दुनिया और कितनी प्‍यारी हो सकती है।