Janmashtami Prasad Panjiri : इन 6 कारणों से आपके पूरे परिवार के लिए फायदेमंद है जन्माष्टमी की ये स्पेशल रेसिपी 

अपने खास गुणों के कारण धनिया महिलाओं में होने वाले यूरिन इंफेक्शन के जोखिम को कम कर सकता है। जबकि खसखस मेंटल हेल्थ के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद है। 

Dhaniya panjiri ke fayde
पूरे परिवार के स्वास्थ्य को लाभ देता है धनिया पंजीरी। चित्र: शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published on: 17 August 2022, 13:48 pm IST
  • 127

हम किसी खास दिन या व्रत-उपवास के अवसर पर धनिया पंजीरी बनाते हैं। धनिया को फल और सुपरफूड माना जाता है। इसलिए उपवास के दिन धनिया पंजीरी का सेवन करने से न सिर्फ भूख मिट जाती है, बल्कि एनर्जेटिक भी महसूस किया जा सकता है। फाइबर से भरपूर होने के कारण वेट लॉस में भी आपके लिए मददगार है। धनिया पंजीरी के फायदों की वजह से इसे बच्चे, युवा और बुजुर्ग तीनों नियमित तौर पर अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। आइए जानते हैं सेहत के लिए धनिया पंजीरी (Janmashtami Prasad Panjiri recipe) के फायदे। 

यहां हैं धनिया पंजीरी के फायदे (Dhaniya panjiri benefits)

धनिया पंजीरी में धनिया के अलावा, देशी घी, मखाने, नारियल बुरादा, काजू, बादाम, और खसखस भी शामिल होते हैं।

1 यूरीन इंफेक्शन दूर करने वाला धनिया (Coriander Seeds)

पंजीरी की प्रमुख सामग्री धनिया एंटीबैक्टीरियल गुणों वाला है। इसमें फाइबर, मैग्नीशियम, मैंगनीज, आयरन, विटामिन सी, विटामिन के, कैल्शियम, फास्फोरस, पोटैशियम, फोलेट, बीटा कैरोटीन और एंटीऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं। इससे पाचन तंत्र की समस्या और यूरीन इंफेक्शन भी दूर होता है। साथ ही, इम्युनिटी स्ट्राॅन्ग करने और ब्लड शुगर कंट्रोल करने में भी मदद करता है।

2 एंटी टॉक्सिंस घी (Ghee)

शरीर से टॉक्सिंस को बाहर निकालने में सक्षम घी में विटामिन ए, विटामिन डी, कैल्शियम, फॉस्फोरस, पोटैशियम जैसे कई न्यूट्रीएंट्स मौजूद होते हैं। ओमेगा 3 फैटी एसिड की मौजूदगी के कारण घी बैड कॉलेस्ट्रॉल को कम करने में सक्षम है। सुबह खाली पेट 1 टी स्पून देसी घी का सेवन करने से कब्ज, ब्लोटिंग आदि की समस्याएं दूर होती हैं और पाचन तंत्र मजबूत होता है।

3 दिल की सेहत का रखवाला है मखाना (Lotus Seeds)

मखाने में प्रोटीन, कार्बोहाइट्रेट, गुड फैट, फास्फोरस, सोडियम, कैल्शियम, आयरन, मिनरल्स आदि पोषक तत्व पाए जाते हैं। प्रोटीन होने के कारण मखाना खाने के बाद लंबे समय तक आपको पेट भरा हुआ महसूस होगा। इसलिए वेट लॉस में सहायक है मखाना। गुड कोलेस्ट्रॉल के कारण यह दिल की भी सुरक्षा करता है।

Mithila ke makhane
मखाना दिल की सेहत का ख्याल रखता है। चित्र:शटरस्टॉक

4 सूखे मेवे हैं सभी के लिए बेस्ट (Almond and Cashew nut)

विटामिन ई, फाइबर और प्रोटीन से भरपूर बादाम मेटाबॉलिज्म को तेज करता है और दिमाग को तंदुरुस्त रखता है। कॉपर, मैंगनीज, फास्फोरस, मैग्नीशियम, जिंक, विटामिन बी 6, विटामिन, पोटैशियम, आयरन से भरपूर होने के कारण काजू बच्चों के लिए जरूरी हैं।

5 दिमाग को मजबूत बनाता है खसखस (Poppy Seeds)

आयरन, कैल्शियम, जिंक, विटामिन बी 6, ओमेगा 3 फैटी एसिड, मैग्नीशियम, प्रोटीन, फाइबर से भरपूर खसखस दिमाग को मजबूत बनाता है। यह स्किन, बोन्स के लिए फायदेमंद है और ब्लड शुगर कंट्रोल करता है।

6 वेट लॉस में मददगार सूखा नारियल (Dry Coconut)

मैंगनीज, सेलेनियम, कॉपर, फॉस्फोरस, पोटैशियम, मैग्नीशियम, आयरन और विटामिन से भरपूर सूखा नारियल एंटीऑक्सीडेंट गुणों वाला भी होता है।

coconut laddu
कोकोनट है सेहत के लिए फायदेमंद। चित्र: शटरस्टॉक

इसमें मौजूद डाइटरी फाइबर इसे वेट लॉस के लिए श्रेष्ठतम सामग्री बनाता है। 

तो फिर नोट कीजिए धनिया पंजीरी रेसिपी (Dhaniya Panjiri prasad recipe)

100 ग्राम धनिया पाउडर, डेढ़ टेबल स्पून घी, 100 ग्राम मखाने, 50 ग्राम नारियल बुरादा, 10 बादाम, 10 काजू, 1 चम्मच खसखस, 100 ग्राम चीनी।

मिनटों में तैयार हो जाती है धनिया पंजीरी

धनिया को गर्म कर बारीक पीस लें।

चीनी को भी पीस लें।

अब 1 टेबल स्पून घी में धनिया पाउडर को अच्छी तरह भून लें।

मखाने को भी घी में भून कर कूट लें।

बचे हुए घी में ड्राय फ्रूट्स, खसखस और नारियल बुरादे को भी लो फ्लेम में हल्का भून लें।

खसखस को थोड़ा कूट लें।

धनिया पाउडर, ड्राय फ्रूट्स, कुटे मखाने, कुटी खसखस, नारियल बुरादे, चीनी पाउडर आदि को अच्छी तरह मिक्स कर लें। लीजिए मिनटों में तैयार हो गई धनिया पंजीरी।

पंजीरी को परिवार के सभी सदस्यों को दे सकती हैं। खासकर बच्चों की मेंटल हेल्थ और फिजिकल हेल्थ दोनों के लिए यह फायदेमंद हैं।

ध्यान दें

यदि आप डायबिटिक हैं, तो चीनी पाउडर के स्थान पर शुगर फ्री पाउडर का प्रयोग कर सकती हैं। 

यह भी पढ़ें:-तिब्बती उपचार के मुताबिक किडनी के दोस्त हैं ब्लैक फूड्स, जानिए कैसे पहुंचाते हैं फायदा 

  • 127
लेखक के बारे में
स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory