तापसी पन्नू की न्यूट्रिशनिस्ट के मुताबिक, इतनी भी खराब नहीं है चीनी

अगर आपको लगता है कि चीनी बिल्कुल भी अच्छी नहीं है! और इससे आपको हर कीमत पर बचना चाहिए, तो सुनिए तापसी की पोषण विशेषज्ञ मुनमुन गनेरीवाल का क्या कहना है।

diet mein swasth tareeke se shamil karein cheeni
तापसी पन्नू की न्यूट्रिशनिस्ट के मुताबिक, इतनी भी खराब नहीं है चीनी। Taapsee Pannu, Facebook
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 3 January 2022, 21:00 pm IST
  • 124

तापसी पन्नू के पोषण विशेषज्ञ मुनमुन गनेरीवाल का कहना है कि चीनी खराब नहीं है और लोगों को इससे डरना नहीं चाहिए। मुनमुन गनेरीवाल ने रश्मि रॉकेट एक्ट्रेस तापसी पन्नू के लिए एक पूरा डाइट प्लैन तैयार किया, जिसने उनके पेट के स्वास्थ्य को पुनर्जीवित करने में मदद की। वह कहती हैं कि समग्र स्वास्थ्य से समझौता किए बिना दैनिक डाइट प्लैन में सभी प्रकार की चीनी का एक अच्छा संतुलन शामिल किया जा सकता है।

“चीनी बिल्कुल भी खराब नहीं है, यह निर्भर करता है कि हम इसे किस रूप में ले रहे हैं,” उन्होनें अपने दर्शकों को इंस्टाग्राम लाइव में तापसी पन्नू के साथ बातचीत में यह बताया। हाल ही में रिलीज़ हुई उनकी पुस्तक युक्ताहार: द बेली एंड ब्रेन डाइट (Yuktahaar: The Belly And Brain Diet) के बारे में भी चर्चा हुई। गनेरीवाल और पन्नू ने यह भी साझा किया कि कैसे बाद में रश्मि रॉकेट की शूटिंग के दौरान बिना किसी गिल्ट के उन्होनें बेसन के लड्डू का आनंद लिया। गनेरीवाल के डाइट प्लान की बदौलत तापसी को सप्ताह में एक बार अपने पसंदीदा भोजन छोले भटूरे खाने का भी मौका मिलता है।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by ‘Yuktahaar’by Munmun Ganeriwal (@munmun.ganeriwal)

सामान्य तौर पर लोगों के शुगर फोबिया के बारे में, गनेरीवाल कहती हैं कि जब हम घर पर यह कहकर निम्बू शरबत पीने से बचते हैं कि इसमें चीनी है, तो हमें यह नहीं पता कि हमारे प्रोटीन बार में मौजूद रिफाइंड शुगर कितनी खराब है। जिसे एक स्वस्थ भोजन के रूप में बढ़ावा दिया जाता है। निश्चित रूप से वह अपने ग्राहकों को चीनी से पूरी तरह से दूर रहने की सलाह नहीं देती हैं। पोषण विशेषज्ञ का कहना है कि हमारे दैनिक जीवन में प्राकृतिक शर्करा का संतुलन रखने की सलाह दी जाती है।

गनेरीवाल कहती हैं, ‘मैं आमतौर पर ग्राहकों को सलाह देती हूं कि सप्ताह में चार दिन शहद, दो दिन गुड़ और शेष एक दिन वे मिश्री खा सकते हैं।

खांड या मस्कोवाडो चीनी बिना गुड़ को निकाले गन्ने की चाशनी को इवैपोरेट करके बनाई जाती है और इसमें कई पोषक तत्व होते हैं।

पोषण विशेषज्ञ कहती हैं “आप अपने दिन की शुरुआत दालचीनी की चाय या अदरक की चाय से कर सकते हैं और आप इसमें थोड़ा सा शहद डाल सकते हैं। आप बेंत या ताड़ के गुड़ और खांड का भी उपयोग कर सकते हैं। ये शर्करा दैनिक जीवन में आदर्श हैं। इस तरह आप सभी प्रकार की चीनी का अच्छा संतुलन बना सकते हैं।”

यह भी पढ़ें : डायबिटीज के रोगियों के लिए फायदेमंद है मूली, हम बता रहे हैं इसके सेवन का सही तरीका

 

  • 124
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
nextstory