Yoga for all : उम्र 15 हो या 50, सबके लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं ये 5 योगासन

हम सभी वर्ष 2023 का अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने के लिए तैयार हैं। यह प्राचीन भारतीय पद्धति किसी एक उम्र, जेंडर या वर्ग के लिए नहीं, बल्कि सभी के लिए काम करती है। ताकि पूरा परिवार एक साथ मिलकर योगाभ्यास कर सके।
tadasana ka tareeka
यह स्थायी मुद्रा, संतुलन और शरीर की स्थिरता में सुधार करने में मदद करती है। चित्र-शटरस्टॉक.
संध्या सिंह Updated: 20 Jun 2023, 15:04 pm IST
  • 145

कई अभिनेत्रियां है जो 40 की उम्र पार करने के बाद भी काफी यंग और फिट दिखती है, इनमें सबसे पहला नाम मलाईका अरोड़ और दूसरा नाम शिल्पा शेट्टी का है। ये दोनों ही कमाल की एक्ट्रेस हैं और इन्हें आप काफी समय जिम और योगा सेशन में बिताते हुए देखते होंगे। आज भी ये दोनों अभिनेत्रियां इतनी यंग दिखती हैं, इसके पीछे का राज योगा और हेल्दी खाना है।

वहीं योग (yoga) के लिए कहा जाता है कि आप जितनी जल्दी इसका अभ्यास शुरू करेंगे यह उतना ही फायदेमंद होगा। तो अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International yoga day 2023) के उपलक्ष्य में जानते हैं ऐसे योगासनों के बारे में जो सभी के लिए (Yoga for all) फायदेमंद हो सकते हैं।

कैसे बनाएगा योगा आपको जवान

जी हां योगा आपके शरीर को स्वस्थ्य रखने के साथ-साथ यंग रखने में भी मदद कर सकता है। हालांकि योग उम्र (aging) बढ़ने की प्रक्रिया को उलट नहीं सकता है या जादुई रूप से किसी व्यक्ति को युवा नहीं बना सकता है, लेकिन यह समग्र कल्याण में योगदान दे सकता है और युवा दिखने में मदद कर सकता है।

young rehne ke liye karein yee yoga
जब आप योग नही करते हैं, तो आपके शरीर का वजन बढ़ सकता है, शरीर में ब्लड का सर्कुलेशन ठीक से नहीं होता।

जब आप योग नही करते हैं, तो आपके शरीर का वजन बढ़ सकता है, शरीर में ब्लड का सर्कुलेशन ठीक से नहीं होता, जिससे स्किन खराब दिखने लगती है, मासपेशियां और हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। लेकिन योग करने से ये सब चीजें ठीक रहते है जिससे आपके उम्र बढ़ने की प्रक्रिया थोड़ी धीरे लगने लगती है।

चलिए जानते है ऐसे 5 योगासन जो पूरे परिवार के लिए फायदेमंद हैं (5 Yoga poses for all)

1 ताड़ासन (Tadasana)

यह स्थायी मुद्रा, संतुलन और शरीर की स्थिरता में सुधार करने में मदद करती है। यह रीढ़ को फैलाता है, पैरों को मजबूत करता है और ग्राउंडिंग और स्थिरता को शरीर में बढ़ाने में मदद करता है। इससे आपकी त्वचा में भी कसावट आती है।

कैसे करें ताड़ासन

अपने पैरों को एक साथ रखते हुए खड़े हो जाएं। अपने शरीर के वजन को दोनों पैरों पर समान रूप से वितरित करें।

अब अपने पंजे के बल खड़े हो जाएं और दोनों हाथों को ऊपर की ओर ले जाकर उंगलियों को लॉक करें।

अपने आप को उपर की तरफ खींचे, ताकि आपके पेट की मासपेशिंयों में एंगेज होने में मदद मिले।

अपनी सांस को नॉर्मल रखते हुए आरम से छोड़े और अंदर लें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

कुछ समय के लिए या जब तक आप इस मुद्रा में सहज है तब तक इस मुद्रा में रह सकते है। आपको शरीर पर बहुत ज्यादा जोर नही देना है अपने आराम के हिसाब से इसे करना है।

2 उत्तानासन (Uttanasana)

यह आगे झुकने वाली मुद्रा हैमस्ट्रिंग और पीठ के निचले हिस्से को फैलाती है। यह रीढ़ में तनाव को दूर करने, पाचन को उत्तेजित करने और मन को शांत करने में मदद कर सकता है।

कैसे करें उत्तानासन

अपने शरीर को सीधा खड़ा करें और पारों को एक दूसरे के पास रखें।

कमर के ऊपर के भाग को नीचे की तरफ लेकर आएं और अपने माथे को घूटनों से टच करने की कोशिश करें।

अपने हाथों से पैरों को पकड़ के रखें आप अपने हाथों को नीचे जमीन पर भी समतल करके रख सकते है।

इस स्थिति में आपको नॉर्मल सांस लेनी है और जब तक आप सहज है इस मुद्रा में रह सकते है।

उत्तानासन : सिर तक ऑक्सीजन के स्तर और रक्त प्रवाह की स्थिति को बेहतर कर हेयर ग्रोथ को बढ़ाता है चित्र : शटरस्टॉक

3 भुजंगासन (Bhujangasana)

यह कोमल बैकबेंड छाती को खोलता है, रीढ़ को मजबूत करता है और पेट की मांसपेशियों को फैलाता है। यह मुद्रा में सुधार करने, पाचन तंत्र को उत्तेजित करने और तनाव दूर करने में मदद कर सकता है।

कैसे करें भुजंगासन

नरम सतह पर अपने पेट के बल लेट जाएं। अपने माथे को चटाई पर रखें और अपनी हथेलियों को नीचे की ओर रखें।

अपने पैरों को कुल्हों की चौड़ाई पर खोलें या अपने आराम के हिसाब से एक साथ रख सकते है।

अपने हाथों को मैट पर रखें, सीधे अपने कंधों के नीचे, अपनी उंगलियों को आगे की ओर इशारा करते हुए। आपकी कोहनी आपके धड़ के करीब होनी चाहिए।

जैसे ही आप सांस लेते हैं, अपनी बाहों को सीधा करना शुरू करें, धीरे से अपनी छाती और सिर को चटाई से ऊपर उठाएं। केवल अपने हाथों पर निर्भर रहने के बजाय अपनी पीठ की मांसपेशियों की ताकत का उपयोग करें।

अपनी पीठ के निचले हिस्से की सुरक्षा के लिए अपने निचले पेट में कोमल लिफ्ट बनाए रखें। अपने हाथों पर अत्यधिक दबाव डालने या अपनी गर्दन पर दबाव डालने से बचें।

अपनी स्थिरता और सहजता के हिसाब से इस मुद्रा में रहने की कोशिश करें।

4 सर्वांगासन (Sarvangasan)

यह उलटी मुद्रा चेहरे पर रक्त के प्रवाह को बढ़ाती है, परिसंचरण को बढ़ावा देती है, और चिंता और थकान को दूर करने में मदद कर सकती है। यह कंधों, गर्दन और कोर की मांसपेशियों को मजबूत करता है।

कैसे करें सर्वांगासन

पीठ के बल सीधे लेट जाएं। अपने पैरों को फैलाकर रखें और आपकी भुजाएं आपके शरीर के साथ टिकी रहें, आपकी हथेलियां नीचे की ओर हों।

अपने घुटनों को मोड़ें, उन्हें अपनी छाती की ओर खींचे। अपनी उंगलियों को अपनी रीढ़ का तरफ रखते हुए, सहारा देने के लिए अपने हाथों को अपनी पीठ के निचले हिस्से पर रखें।

गहराई से सांस लें और अपने पैरों को फर्श से ऊपर उठाएं, उन्हें छत की ओर सीधा फैलाएं। अपने कूल्हों को ऊपर उठाने और चटाई से पीठ के निचले हिस्से को उठाने के लिए अपने कोर और पैर की ताकत का उपयोग करें।

पूरी मुद्रा में आने के बाद, अपने निचले हिस्से और कूल्हों को अपने हाथों से सहारा दें, एक स्थिर आधार बनाए रखें।

in aasano ko kare apni fitness routine mein shaamil
सर्वांगासन है काफी प्रभावी। चित्र शटरस्टॉक।

5 शवासन (Savasana)

यह अंतिम विश्राम मुद्रा शरीर और मन को गहराई से आराम करने में मदद करती है। यह तनाव को कम करने, शांति की भावना को बढ़ावा देने और कायाकल्प और बहाली की अनुमति देने में मदद कर सकता है।

कैसे करें शवासन

पीठ के बल सीधी जमीन पर लेट जाएं और पैरों को फैला लें। अपने शरीर को पूरी तरह से आराम दें।

अपनी हथेलियों को ऊपर की ओर रखते हुए, अपनी बाहों को अपने शरीर के साथ रखें।

अपने शरीर को समायोजित करें ताकि आप सहज और समर्थित महसूस करें। यदि आवश्यक हो तो अतिरिक्त सहायता के लिए अपने घुटनों के नीचे एक कंबल का उपयोग करें।

अपनी आंखों को धीरे से बंद करें और ध्यान लगाना शुरू करें। अपनी सांस को गहरा करना शुरू करें, धीरे-धीरे और पूरी तरह से सांस लें और छोड़ें।

हर भाग को आराम दें। किसी भी तनाव को छोड़ते हुए अपने चेहरे, जबड़े और गर्दन से शुरुआत करें। अपने कंधों, बाजुओं और हाथों को पूरी तरह से आराम देते हुए नीचे जाएं। धीरे-धीरे अपनी छाती, पेट, कूल्हों, पैरों और पैरों को आराम दें।

ये भी पढ़े- Yoga success stories : मिलिए उन 4 महिलाओं से, जिन्होंने योग से पाई मानसिक और शारीरिक तंदुरुस्ती

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख