वैलनेस
स्टोर

World Environment Day 2021 : अपनी और पर्यावरण दोनों की सेहत के लिए आपको कम कर देना चाहिए एयर कंडीशनर का इस्तेमाल

Published on:4 June 2021, 17:59pm IST
आप एयर कंडीशनर चलाकर घर में ही चिल्‍ड फील कर सकती हैं। पर क्‍या आप जानती हैं कि आपके जीवन को ज्‍यादा आरामदायक बनाने वाली ये मशीन आपके और आपके पर्यावरण दोनों के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए खतरनाक है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
ए.सी का इस्तेमाल आपके लिए हानिकारक है. चिर : शटरस्टॉक
ए.सी का इस्तेमाल आपके लिए हानिकारक है. चिर : शटरस्टॉक

कोरोना महामारी और लॉकडाउन ने हम सभी को कहीं न कहीं यह अहसास करवाया है कि इंसान ने प्रकृति का बहुत शोषण किया है। अचानक से जब हम अपने घरों में बंद थे, तो यह महसूस हुआ कि नदियों का पानी पहले से साफ है। हवा में प्रदूषण नहीं है और प्रकृति वापस फल-फूल रही है। यह दृश्य देखने में जितना सुहाना था उतना ही शर्मसार करने वाला भी, क्योंकि कहीं न कहीं इन सब की वजह मानव जाति और उनके द्वारा बनाए गए संसाधन हैं, जो सेहत और पर्यावरण दोनों को नुकसान पहुंचा रहे हैं।

विश्व पर्यावरण दिवस का महत्व

प्रकृति और पर्यावरण के महत्व को चिह्नित करने के लिए हर वर्ष 5 जून का दिन ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ (World Environment Day) के रूप में मनाया जाता है। मानव पर्यावरण पर स्टॉकहोम सम्मेलन के पहले दिन के दौरान पर्यावरण से संबंधित मुद्दों पर चर्चा के बाद संयुक्त राष्ट्र सभा ने 1972 में विश्व पर्यावरण दिवस की स्थापना की। यह दिवस वैश्विक आबादी को एक संदेश देता है कि प्रकृति को कम नहीं आंका जाना चाहिए।

पर्यावरण को नुकसान पहुंचाते हैं एयर कंडीशनर

इंसान ने अपनी सुख सुविधाओं के लिए प्रकृति और स्वास्थ्य को दांव पर लगाकर कई आविष्कार किए हैं जिनमें से एक है – एयर कंडीशनर। यह गर्म तापमान से राहत देकर आपको ठंडक और सुकून का अहसास कराता है, वह भी बगैर शोर शराबे के। यही कारण है कि अब पंखे और कूलर से ज्यादा लोग ए.सी का इस्तेमाल करते हैं।

बीते दिनों लॉकडाउन के दौरान हम सभी ने अपना ज़्यादातर समय घर के अन्दर ए.सी में बिताया है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि लंबे समय तक एसी में बैठना आपके लिए बेहद हानिकारक हो सकता है?

आपकी सेहत के लिए भी खतरनाक हो सकता है एयर कंडीशनर का ज्‍यादा इस्‍तेमाल

1 डिहाइड्रेशन पैदा करता है

कमरे को ठंडा करते समय ए.सी अक्सर जरूरत से ज्यादा नमी सोख लेते हैं। यदि आप इसे कम तापमान पर सेट करते हैं, तो कमरे के सूखने की संभावना काफी अधिक होती है। यह कमरे की नमी तो सोखता ही है, साथ-साथ शरीर की नमी को भी सोख लेता है। यदि आप अपने आप को पर्याप्त रूप से हाइड्रेट नहीं करते हैं, तो एयर कंडीशनर में डिहाइड्रेशन होने की संभावना अधिक होती है।

ए.सी का इस्तेमाल डिहाइड्रेशन पैदा करता है. चित्र : शटरस्टॉक
ए.सी का इस्तेमाल डिहाइड्रेशन पैदा करता है. चित्र : शटरस्टॉक

2 संक्रमण का कारण बन सकता है

एयर कंडीशनर नासिका मार्ग और श्लेष्मा झिल्ली के सूखने का कारण बनते हैं, जिससे वायरल संक्रमण हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि श्लेष्मा शरीर को संक्रमण से दूर रखने के लिए एक सुरक्षात्मक परत बनाता है। अगर ए.सी. में खराबी आ जाती है, तो कुछ ही समय में संक्रमण शरीर को प्रभावित करेगा।

3 श्वसन तंत्र संबंधी समस्याएं

ए.सी. के लगातार संपर्क में रहने से नाक और गले की सामान्य कार्यप्रणाली बाधित हो सकती है। यह श्लेष्म झिल्ली में श्वसन अवरोध और सूजन का कारण बन सकता है। ए.सी फेफड़ों को भी प्रभावित कर सकता है। ए.सी. में मौजूद प्रदूषक अस्थमा के दौरे का कारण बन सकते हैं। लंबे वक़्त में यह एलर्जी भी पैदा कर सकते हैं।

4. ग्लोबल वार्मिंग का कारण

सीएफ़सी और एचएफसी दोनों शीतलन एजेंट हैं जो एयर कंडीशनर में होते हैं, जो जारी होने पर समय के साथ ओजोन में छिद्रों को बढ़ाते हैं। पुराने एयर कंडीशनर सीएफ़सी और एचएफसी पर भरोसा करते हैं और ग्लोबल वार्मिंग में प्रमुख रूप से योगदान करते हैं। यहां तक कि नए मॉडल, जो एचएफसी और एचएफओ पर अधिक निर्भर हैं, ओजोन डिपलीशन में एक बड़ी भूमिका निभाते हैं।

यकीनन आपको यह जानकार हैरानी हुई होगी क्योंकि जो चीज़ हम अपनी सुविधा के लिए इस्तेमाल करते हैं वही हमें नुकसान पहुंचा रही है। परन्तु अब वक़्त है प्राकृतिक वस्तुओं का उपयोग कर स्वास्थ्य और पर्यावरण दोनों को बचाने का!

प्‍लांट आपके घर के अंदर के वातावरण को प्‍यूरीफाई करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

तो, इस विश्व पर्यावरण दिवस पर आप अपनी भागीदारी कैसे दे सकते हैं, जिससे कि आप भी स्वस्थ रहें और प्रकृति भी?

1. सबसे आसान है अपने आसपास और घर में पेड़-पौधे लगाना। ऐसे प्लांट्स लगाएं जो 24/7 ऑक्सीजन देते हैं जैसे – स्नेक प्लांट, जो विषाक्त पदार्थों को अवशोषित करने में सक्षम है। यह कमरे में ऑक्सीजन जोड़ने और CO2 को अवशोषित करने के लिए जाना जाता है।

2. घड़े का पानी पिएं, गर्मियों में घड़े का पानी फ्रिज के पानी से ज्यादा शीतल और फायदेमंद होता है। साथ ही, सर्दी और खांसी से पीड़ित लोगों द्वारा आसानी से इसका सेवन किया जा सकता है।

3. कोरोना से बचाव का एक तरीका है मास्क, पर इसे इस्तेमाल करने के बाद किसी नदी, नाले या कचरे के डिब्बे में ऐसे ही न फेकें यह आपके लिए भी हानिकारक है। इसलिए, इसे प्लास्टिक बैग में डालकर डंप करें।

यह भी पढ़ें : World Bicycle Day 2021 : फेफड़ों की कार्यक्षमता बढ़ाने का बेहतरीन तरीका है साइकिल चलाना

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।