World cancer Day 2022 : कैंसर से बचना है तो हेल्दी जीवनशैली अपनाने पर देना होगा ध्यान

हमारे स्वास्थ्य के लिए एक स्वस्थ जीवन शैली बहुत ज़रूरी है, लेकिन क्या कैंसर जैसे बड़े रोग से बचाव में भी यह हमारी सहायता कर सकती है? चलिए एक्सपर्ट से जानते हैं।

cancer se bachav ke tareeke
मुमकिन है कैंसर से बचाव। चित्र : शटरस्टॉक
अक्षांश कुलश्रेष्ठ Published on: 3 February 2022, 18:00 pm IST
  • 119

कैंसर (Cancer) एक तेजी से बढ़ता जा रहा स्वास्थ्य जोखिम (Health concern) है। जिससे बेशकीमती धन और जन की हानि हो रही है। हमारे पास ऐसे कई उदाहरण हैं जिन्होंने कैंसर का डटकर मुकाबला (Cancer survivors) किया। मगर यह अनुभव पीड़ित व्यक्ति और उनके परिवार के लिए किसी ट्रॉमा से कम नहीं होता। इसलिए समस्या के मूल पर ध्यान दिया जाना जरूरी है। अगर आप चाहते हैं कि इस घातक बीमारी से खुद को और अपने अपनों को बचाया जाए, तो आज ही से स्वस्थ जीवनशैली (Healthy lifestyle) की ओर कदम बढ़ाएं। विश्व कैंसर दिवस के (World cancer day) अवसर पर विशेषज्ञ बता रहे हैं कैंसर से बचाव (How to avoid cancer risk) के लिए जीवनशैली संबंधी जरूरी बदलाव। 

कैंसर के पीछे इंसान की जीन संरचना मुख्य रूप से जिम्मेदार होती है। आपने कई बार सुना होगा कि कुछ चीजें नहीं खानी चाहिए, क्योंकि उन से कैंसर हो सकता है। इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि यदि आप कुछ बीमारियों का समय से इलाज नहीं कराते हैं, तो वह कैंसर का रूप ले सकता है। यह बात कहीं ना कहीं सच है। 

शोध भी साबित करता है लाइफस्टाइल और कैंसर का संबंध 

बदलती जीवनशैली के साथ बदलता खानपान लोगों में कई बीमारियां पैदा कर रहा है। जिसमें कैंसर एक बड़ा और घातक नाम है। जीवनशैली और कैंसर के कनेक्शन को साबित करने के लिए साल 2015 में कैंसर रिसर्च यूके (Cancer Research UK) द्वारा एक शोध किया गया। जिसमें साल भर में आए 3.60 लाख कैंसर रोगियों की जांच की गई। इनमें से 1.30 लाख लोगों को कैंसर धूम्रपान यानी खराब जीवनशैली की आदत के कारण हुआ था।

इससे पहले कि हम इस बारे में और विस्तार से चर्चा करें, आइए विश्व कैंसर दिवस के बारे में विस्तार से जानते हैं। 

विश्व कैंसर दिवस 2022 (World Cancer day 2022)

हर साल 4 फरवरी के दिन यूनियन फॉर इंटरनेशनल कैंसर कंट्रोल द्वारा विश्व कैंसर दिवस (World cancer day) मनाया जाता है, जिसकी शुरुआत 1993 में हुई थी। इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी के प्रति जागरूक करना है। 

kyu hota hai world cancer day
जागरूक करने के लिए मनाया जाता है यह दिवस। चित्र : शटरस्टॉक

हर साल जागरूकता के लिए एक थीम जारी की जाती है। वर्ल्ड केंसर दिवस 2022 (World cancer day 2022) की थीम (world cancer day 2022 Theme) “क्लोज द गैप” तय की गई हैं। जिसका उद्देश्य दुनिया भर में कैंसर देखभाल में असमानताओं को समझने और पहचानने के बारे में है। महिलाओं में सबसे ज्यादा फैलने वाला कैंसर ब्रेस्ट कैंसर है। इसके बाद दूसरा सबसे  घातक कैंसर ओवेरियन केंसर हैं।

कैंसर और जीवनशैली के संबंध को बेहतर ढंग से समझने के लिए हेल्थशॉट्स ने डॉ अनिल कुमार आनद, सीनियर डायरेक्टर और एचओडी, रेडिएशन ऑन्कोलॉजी, फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट, गुरुग्राम से संपर्क किया। जानिए वे क्या कहते हैं-

कई तरह के कैंसर से बचा सकता है एक हेल्दी लाइफस्टाइल  

डॉ अनिल कुमार आनंद कहते हैं,”ऐसे कई पहलू हैं जिन पर ध्‍यान देकर हम अपनी जीवनशैली में बदलाव ला सकते हैं। ताकि इस प्रकार के रोगों से बचाव किया जा सके। मोटापे को इसका प्रमुख कारण माना जाता है और यह कई प्रकार के कैंसर रोग जैसे कि गर्भाशय, पौरुष ग्रंथि, स्‍तन कैंसर आदि मोटापे से जुड़े हैं।”

यहां हैं वे बदलाव जो आपको कैंसर से बचा सकते हैं 

यदि आप एक स्वस्थ जीवन जीने की कामना कर रहे हैं, तो एक स्वस्थ जीवन शैली बहुत अहम है। जीवन शैली में कुछ साधारण बदलाव से काफी फर्क पड़ता है। कैंसर से बचाव के सुझावों को अपनाने का विचार करें।

आज ही बंद करें धूम्रपान

smoking se hota hai cancer
धूम्रपान से होता है कैंसर। चित्र: शटरस्टॉक

शराब, सिगरेट का पैकेट चिल्ला-चिल्ला के कहता है कि उसका सेवन करने से कैंसर जैसी बड़ी बीमारी हो सकती है। इसके बावजूद लोग धूम्रपान करते हैं। किसी भी प्रकार के तंबाकू का सेवन करने से कैंसर हो सकता है। इसमें फेफड़े, मुंह, गले, स्वरयंत्र, अग्न्याशय, मूत्राशय, गर्भाशय ग्रीवा और गुर्दे का कैंसर शामिल है। यदि आप चाहकर भी धूम्रपान की आदत नहीं छोड़ पा रहे हैं, तो आपको डॉक्टर से संपर्क करने की जरूरत है।

एक स्वस्थ भोजन की और रुख करें 

अपनी जीवन शैली में एक स्वस्थ भोजन करने की आदत अपनाना भले ही आप को कैंसर से बचाव की गारंटी ना दे लेकिन यह कैंसर के जोखिम को जरूर कम कर सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की कैंसर एजेंसी इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर की एक रिपोर्ट ने निष्कर्ष निकाला है कि बड़ी मात्रा में संसाधित मांस खाने से कुछ प्रकार के कैंसर का खतरा थोड़ा बढ़ सकता है। 

वहीं डॉ अनिल बताते हैं, हरी पत्‍तेदार सब्जियों एवं फलों से युक्‍त भोजन करना स्‍वास्‍थ्‍य के लिए लाभकारी होता है। अपने आहार में ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियां और मौसमी सब्जियों का सेवन करना शरीर में कई पौष्टिक तत्व पहुंचाता है, जो हमें कई बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं।

योग या कसरत को अपनाएं 

डॉ अनिल कुमार आनद सुझाव देते हैं,”नियमित रूप से शारीरिक व्‍यायाम करने से आप फिट रहते हैं। व्‍यायाम के दौरान स्रावित होने वाले कुछ रसायन शरीर में कैंसर पैदा होने से बचाव करते हैं या उसके जोखिम को कम करते हैं।” 

स्वस्थ जीवन जीने के लिए वजन और मोटापने को नियंत्रित करना बहुत जरूरी है। ऐसे में योग या कसरत आपकी इसमें सहायता कर सकते हैं। ऐसे कई योगासन मौजूद हैं, जिनको आप कीमोथेरेपी के बाद भी कर सकते हैं। 

सुरक्षित सेक्स का अभ्यास करें

एक असुरक्षित सेक्स महिलाओं में सरवाइकल केंसर को बढ़ा सकता है। सुरक्षित यौन संबंध बनाने से आपको एचपीवी होने से रोकने में मदद मिलती है। यह एक यौन संचारित संक्रमण है जो महिलाओं में गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर का कारण बन सकता है। सुरक्षित सेक्स में कंडोम का उपयोग करना और हर संभावित यौन साथी से उसके यौन इतिहास के बारे में बात करना शामिल है।

अच्छी नींद है जरूरी 

एक अच्छी नींद आपको स्वास्थ्य, रोगों से मुकाबला करने की क्षमता, मूड, वजन नियंत्रण, याददाश्त और ध्यान आदि में सुधार करती है। यह आपको कई बीमारियों के जोखिम से बचा सकती है। प्रत्येक व्यक्ति को 7 से 8 घंटे की नींद लेनी चाहिए। 

पब मेड (Pubmed) पर मौजूद जानकारी के अनुसार नींद के विभिन्न घटक – नींद की अवधि, नींद की गुणवत्ता कैंसर के जोखिम को प्रभावित कर सकते हैं।

ध्यान दें कि नियमित जांच भी है ज़रूरी 

कई बार कुछ परिवारों में खास प्रकार के कैंसर आनुवांशिक रूप से दिखायी देते हैं, जैसे कि स्‍तन कैंसर, बड़ी आंत का कैंसर, पौरुष ग्रंथि का कैंसर आदि। ऐसे मरीज़ों के परिजनों को आनुवांशिक परामर्श लेना चाहिए और समय-समय पर कोलनस्‍कोपी, ब्रैस्‍ट मैमोग्राफी तथा प्रोस्‍टेट कैंसर के लिए सीरम पीएसए टैस्‍ट कराते रहना चाहिए।

breast cancer screening
आज ही अपनी ब्रेस्ट कैंसर स्क्रीनिंग कराएं। चित्र : शटरस्टॉक

डॉ अनिल बताते हैं, “जीवनशैली में बदलाव लाने के साथ-साथ हमें नियमित रूप से स्‍वास्‍थ्‍य जांच भी करवानी चाहिए और कैंसर स्‍क्रीनिंग कराने की सलाह भी दी जाती है। ऐसा कर शरीर में पैदा होने वाली मैलिग्‍नेंसी का पता समय पर लग जाता है और जल्‍द उपचार शुरू किया जा सकता है।”  

यह भी पढ़े : World Cancer Day 2022 : विशेषज्ञ से जानिए बोन कैंसर के बार में 5 महत्वपूर्ण तथ्य

  • 119
लेखक के बारे में
अक्षांश कुलश्रेष्ठ अक्षांश कुलश्रेष्ठ

सेहत, तंदुरुस्ती और सौंदर्य के लिए कुछ नई जानकारियों की खोज में

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory